नयना देवी में चावल की 90 बोरियां गायब:सोसायटी का सेक्रेटरी गिरफ्तार; उपप्रधान और पूर्व प्रधान ने पकड़ी गड़बड़ी

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

हिमाचल के बिलासपुर जिला में नयनादेवी क्षेत्र के टोबा में सस्ते राशन की सोसायटी के लिए भेजीं चावल की बोरियां सोसायटी के सचिव और सेल्समैन ने गायब कर दीं। इसकी सूचना उपप्रधान और पूर्व प्रधान ने पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने छापा मारा और चावल की बोरियों को कब्जे में लेने के साथ ही आरोपी सचिव को गिरफ्तार कर लिया।

खाद्य आपूर्ति विभाग द्वारा सहकारी सभाओं व डिपुओं के माध्यम से आम लोगों को सस्ता राशन मुहैया करवाया जाता है। जानकारी के अनुसार, बुधवार शाम नयनादेवी में स्थित स्टोर से टोबा सोसायटी के लिए चावल की 90 बोरियां टेंपो के माध्यम से भेजी गईं। हर बोरी में 50-50 किलोग्राम चावल थे। सोसायटी के सचिव एवं सेल्समैन दर्शन कुमार ने टेंपो ड्राइवर को चावल की यह बोरियां टोबा के बजाए जज्जर गांव में गुरमेल सिंह के घर में उतारने को कहा।

उपप्रधान और पूर्व प्रधान ने किया पीछा

सूत्रों के अनुसार, पूर्व प्रधान बलवीर सिंह पप्पी और मौजूदा उपप्रधान मदनलाल को इस गड़बड़झाले को लेकर सोसायटी सचिव पर पहले से शक था। वह नयनादेवी से टेंपो का पीछा कर रहे थे। जैसे ही टेंपो टोबा के बजाए जज्जर गांव में गुरमेल सिंह के घर पर पहुंचा, उन्होंने कोट थाना पुलिस को सूचित कर दिया। सूचना मिलते ही एसएचओ गौरव की अगुवाई में पुलिस मौके पर पहुंची।

टेंपो से आधे से अधिक बोरियां उतार दी थीं

पुलिस के पहुंचने तक टेंपो से आधे से अधिक बोरियां उतारी जा चुकी थीं। उन्हें खोलकर चावल भी निकाल लिया गया था, लेकिन पुलिस ने बंद बोरियों के साथ ही खुला चावल भी कब्जे में ले लिया। बताया जा रहा है कि ये चावल टोबा व झिड़ियां सोसायटियों से जुडे़ परिवारों तथा स्कूल को सप्लाई किए जाने थे। इस मामले की छानबीन में कई खुलासे हो सकते हैं। नयनादेवी के डीएसपी पूर्णचंद ठुकराल ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।