हमीरपुर में रोगी कल्याण समिति की बैठक:एक्स-रे रूम और केमिस्ट की दुकान के किराए का मामला गर्माया, 25 से 30 मामलों पर भी लगी मोहर

हमीरपुर4 महीने पहले
बैठक में मौजूद रोगी कल्याण समिति सदस्य।

हिमाचल के हमीरपुर में स्थित आयुर्वेदिक हॉस्पिटल की रोगी कल्याण समिति की बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। खासकर रेंट नहीं देने वालों का मामला मीटिंग में खूब गर्माया। इसके अलावा 25 से 30 अन्य उन मुद्दों पर चर्चा हुई, जो रोगी कल्याण समिति के छोटे-छोटे ऐसे वर्क हैं, जिन पर पैसा खर्चा जाना है। समिति ने एक दो मामलों को छोड़कर बाकी सभी पर अपनी सहमति जता दी।

क्या है रेंट का मामला

हॉस्पिटल के भीतर आउटसोर्स किया गया एक्स-रे रूम का किराया रोगी कल्याण समिति को नहीं मिल रहा है। पिछले काफी समय से इसे देने को संबंधित कंपनी आनाकानी कर रही है। इसके अलावा इस एक्सरे रुम का बिजली का मीटर भी अलग से नहीं है और वहां सब मीटर लगाने की स्वीकृति दी गई।

अस्पताल के अंदर खोली गई निजी केमिस्ट की दुकान के कुछ महीनों के रेंट का मामला भी काफी देर तक चर्चा में रहा, लेकिन अंत में यही निष्कर्ष निकला कि कायदे में जितना बनता है, वह हर हाल में लिया जाएगा। डीसी ने कहा कि इस मामले में जो टर्म एंड कंडीशन से हैं उन्हीं के तहत काम होगा। किसी को बेवजह की रियायत कैसे दी जा सकती है?

25 से 30 मामले भी सुलझाए

बैठक में समिति ने बैलेंस शीट के अलावा इनकम का ब्यौरा भी दिया गया। 25 से 30 ऐसे मामलों को भी अंतिम मोहर लगा दी गई, जिन पर पैसा खर्च किया जाना है। कई सुविधाएं जिनमें कुछ स्टाफ की व्यवस्था से जुड़ी हुई हैं और अन्य रोगियों की सुविधा से उन्हें भी अनुमति दी गई। बैठक में आयुर्वेदिक विभाग के कई अधिकारी तो शामिल थे ही, समिति के अन्य सदस्यों की भी मौजूदगी रही।