पपरोला के व्यवसायी जगा रहे शिक्षा की अलख:रोजाना साइकिलिंग कर नशे से दूर रहने का देते हैं संदेश, 12 वर्षों से चल रहा सिलसिला

बैजनाथ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
साइकिलिंग कर नशाखोरी से दूर रहने का संदेश देते हैं व्यवसायी। - Dainik Bhaskar
साइकिलिंग कर नशाखोरी से दूर रहने का संदेश देते हैं व्यवसायी।

हिमाचल के कांगड़ा स्थित बैजनाथ के पपरोला के व्यवसायी सुबह ही साइकिलिंग के माध्यम से अशिक्षा और नशाखोरी के खिलाफ लोगों को संदेश दे रहे हैं। संभ्रांत परिवारों से ताल्लुक रखने वाले इन युवाओं के जज्बे को देखते हुए अन्य युवा पीढ़ी भी इनके नक्शे कदम पर चल पड़ी है।

पपरोला निवासी राजकुमार सडाना और रंजन भटनागर के नेतृत्व में विशाल, शेखर, गजेंद्र, पुष्पेंद्र, हर्ष, संदीप नंदा सहित कई युवा सुबह होते ही साइकिलिंग के माध्यम से फिट इंडिया का संदेश भी देते हैं। राजकुमार सडाना ने बताया कि यह सिलसिला तकरीबन 12 वर्ष से चल रहा है l यात्रा के दौरान जहां कहीं भी उन्हें कचरा मिलता है तो वह उसे ठिकाने लगा देते हैं l

भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली ने दिखाई थी हरी झंडी
वर्तमान सामाजिक परिवेश के छिन्न-भिन्न होने का मूल कारण अशिक्षा और नशा है। इसी मुहिम के तहत पूर्व समय में वे ऊना जिले के तत्कालीन जिलाधीश संदीप कुमार के नेतृत्व में भाखड़ा बांध तक साइकिलिंग कर आए हैं l उस समय भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली ने हरी झंडी दिखाकर दल को रवाना किया था। दल के सदस्यों ने युवा पीढ़ी से आह्वान किया कि वे भी इस मुहिम का हिस्सा बनें।

शिक्षा के साथ-साथ ज्ञान होने भी आवश्यक
स्वच्छ समाज के निर्माण में अपनी अहम भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के साथ साथ ज्ञान होना भी लाजमी है। उन्होंने कहा कि अक्सर देखा गया है कि कुछ लोग उच्च शिक्षा ग्रहण तो कर लेते हैं, लेकिन उनमें शिष्टाचार नाम की कोई भी बात नहीं होती है। जहां वो खाने पीने बैठते हैं, वहां पर सारा कूड़ा फेंक आते हैं। उस जगह को साफ नहीं करते हैं।

उन्होंने कहा कि यह सभी का दायित्व है कि वो इधर उधर कूड़ा न फेंकें, इससे एक तरफ तो हमारा वातावरण प्रदूषित होता है। वहीं दूसरी ओर बीमारियां भी जन्म लेती हैं।