वन नेशन-वन इलेक्शन के पक्ष में शांता:पूर्व CM बोले- सरकारों-पार्टियों के 5 साल चुनावी मोड में रहने से नहीं हो पाते लोगों के काम

बैजनाथ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार। - Dainik Bhaskar
पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और हिमाचल के पूर्व CM शांता कुमार चाहते हैं कि भारत में वन नेशन-वन इलेक्शन की पॉलिसी लागू होनी चाहिए। उनका कहना है कि भारत में इस समय बड़े-छोटे मिलाकर 34 राज्य हैं। मौजूदा हालात में इनमें से किसी न किसी राज्य में कोई न कोई चुनाव चलता ही रहता है। इसकी वजह से राजनीतिक पार्टियां और उसके नेता इन चुनाव में व्यस्त रहते हैं। इसका नुकसान लोगों को उठाना पड़ता है क्योंकि उनके काम ही नहीं हो पाते।

शांता कुमार ने कहा कि आजकल 5 बरसों में हर सरकार और पार्टी चुनावी मोड में ही रहती है। इन चुनाव पर करोड़ों-अरबों रुपए खर्च होते हैं। ऐसे में सरकारों को देश की बुनियादी समस्याओं पर सोचने और उन्हें हल करने के लिए समय ही नहीं मिल पाता।

शांता कुमार ने कहा कि मौजूदा समय की ही बात करें तो हिमाचल में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हो चुका है और अगले दो हफ्तों में गुजरात में मतदान होना है। ऐसे में सारे देश के बड़े नेता और सरकारें गुजरात में लगी है। दोनों राज्यों के चुनाव पर तकरीबन 500 करोड़ रुपए खर्च होंगे। अगले साल यानि 2023 में भी कई राज्यों में चुनाव हैं। उसके बाद 2024 में लोकसभा चुनाव के अलावा 7 राज्यों में भी चुनाव होने हैं। ऐसे में हिमाचल-गुजरात से फ्री होते ही देश के बड़े नेता इन चुनाव में व्यस्त हो जाएंगे।

लोकतंत्र केवल चुनाव तंत्र बना

शांता ने कहा कि भारत में लोकतंत्र केवल चुनाव तंत्र बनकर रह गया है। उन्होंने कहा दूसरे देशों मे ऐसा नहीं होता है। कहा कि 1967 तक सभी चुनाव एक साथ होते थे, लेकिन उसके बाद दल बदल से सभी कुछ बदल गया। उन्होंने कहा कि भारत में कुछ समस्या दिन प्रति दिन बढ़ रही है। गरीबी और बेरोजगारी से लोग परेशान हैं। रिपोर्ट के अनुसार 15 करोड़ लोग रात को भूखे सो रहे हैं। नौजवानों के पास काम नहीं है इसलिए वह आत्महत्या कर रहे हैं।

बलात्कार में दूसरे नंबर पर पहुंचा भारत

भाजपा नेता ने कहा कि उन्होंने कहा कि बलात्कार के लिए भारत दूसरे नंबर पर आ गया है। कहा कि इन सब पर विचार करने के लिए नेताओं के पास समय नहीं है। लोकसभा में कभी इन मुद्दों पर बात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने एक देश एक चुनाव की बात कही है, जिसे अब लागू करना अति आवश्यक हो गया है।

सीट खाली हो तो उपचुनाव की जगह दूसरे नंबर पर रहे नेता को तरजीह दी जाए
उन्होंने कहा कि कानून बदलकर सभी चुनाव 5 साल में एक बार कराने का नियम बनाने की जरूरत है। यदि बीच में किसी वजह से कोई सीट खाली हो जाए तो वहां उपचुनाव न करवाकर दूसरे नंबर पर रहने वाले व्यक्ति को आगे कर देना चाहिए। इससे न समय खराब होगा और न ही पैसा। भ्रष्टाचार भी कम होगा और लोगों को बुनियादी सुविधाएं मिल सकेंगी।