टशीगंग में 100% वोटिंग:विश्व का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र,15256 फीट ऊंचाई पर 52 मतदाताओं ने डाले वोट

कुल्लू3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हिमाचल के लाहौल स्पीति स्थित विश्व के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टशीगंग में शत-प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड किया गया। यहां सुबह से ही मतदाताओं में मतदान करने के लिए काफी उत्साह दिखा और मतदान संपन्न होने से करीब 1 घंटे पहले यहां मतदाताओं ने शत-प्रतिशत मतदान किया।

टशीगंग मतदान केंद्र समुद्र तल से 15256 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां कुल 52 मतदाता हैं, जिन्होंने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इस बार मतदान केंद्र में 30 पुरुष और 22 महिला मतदाता शामिल हैं और मतदान केंद्र को सुबह से सजाया गया था।

परंपरागत तरीके से सजाया पोलिंग बूथ
उप जिला निर्वाचन अधिकारी अभिषेक वर्मा ने बताया कि टशीगंग पोलिंग बूथ को परंपरागत तरीके से सजाया गया था। यहां मतदाता भी परंपरागत वेशभूषा में मतदान करने पहुंचे। अपने मताधिकार का प्रयोग किया। उन्होंने कहा कि इस पोलिंग बूथ में परंपरागत व्यंजन का भी प्रावधान किया गया था, जिसमें सत्तू की डिश बनाई गई थी।

मतदाताओं का परंपरागत तरीके से स्वागत किया गया। जिस कारण यहां शत-प्रतिशत मतदान करने में पोलिंग टीमों ने अहम जिम्मेदारी निभाई है। साथ में मतदाताओं ने भी मतदान करने का संदेश दिया।

जागरूकता के लिए लगाए थे शिविर
उप जिला निर्वाचन अधिकारी अभिषेक वर्मा ने बताया कि यहां मतदाताओं को जागरूक करने के लिए जागरूकता शिविर लगाए गए थे। लोगों को मतदान के प्रति जागरूक किया गया था। यही कारण है कि प्रशासन की जागरूकता शिविर भी रंग लाए हैं।

वर्ष 2019 में थे 47 वोटर
इससे पहले विश्व के सबसे ऊंचे इस पोलिंग बूथ में वर्ष 2019 के चुनावों में 47 वोटर थे, जिनमें 29 पुरुष और 18 महिला मतदाता थे। जबकि वर्ष 2019 से पहले 4443 फीट की ऊंचाई वाले हिक्किम मतदान केंद्र को सबसे ऊंचे मतदान का दर्ज किया गया था, लेकिन उसके बाद टशीगंग में मतदान केंद्र बनने के बाद यह मतदान केंद्र विश्व का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र बना है।

जागरूक होने का संदेश दिया
हिमाचल में अगर विधानसभा चुनावों के दौरान हुए मतदान प्रतिशतता की बात करें तो कई शहरी क्षेत्र में ऐसे मतदान केंद्र हैं, जहां 50 से 60% मतदान हुआ है। जो सीधे तौर पर यह जाहिर करता है कि शहरी क्षेत्र में पढ़े लिखे लोग होने के बावजूद भी मतदान के प्रति जागरूक नहीं हैं। लेकिन जनजातीय इलाका होने के बावजूद भी विश्व के इस सबसे ऊंची मतदान केंद्र के लोगों ने दुनिया भर के लिए जागरूकता का यह संदेश दिया है।