दिव्यांग पुनर्वास केंद्र को आदर्श पुनर्वास का दर्जा:केंद्रीय मंत्री डॉ. बीरेंद्र कुमार ने कुल्लू के अधिकारियों के साथ की वर्चुअल बैठक

कुल्लू2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. बीरेंद्र कुमार के साथ वर्चुअल बैठक करते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. बीरेंद्र कुमार के साथ वर्चुअल बैठक करते अधिकारी।

देश में केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित 63 दिव्यांग पुनर्वास केंद्र संचालित हैं, जो दिव्यांग व्यक्तियों को निशुल्क उपकरण व कृत्रिम अंग प्रदान करते हैं। रविवार को केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. बीरेंद्र कुमार ने बेहतर कार्य करने वाले 9 केंद्रों को आदर्श दिव्यांग पुनर्वास केंद्रों का दर्जा देकर वर्चुअल माध्यम से विधिवत शुभारंभ किया।

इन 9 केंद्रों में रेडक्रॉस द्वारा संचालित जिला कुल्लू के केंद्र को भी बेहतर कार्य करने पर आदर्श दिव्यांग पुनर्वास केंद्र का दर्जा प्राप्त हुआ है। केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री से संवाद करते हुए अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी प्रशांत सरकैक ने जानकारी दी कि सितंबर 2016 में दिव्यांग पुनर्वास केंद्र कुल्लू की स्थापना की गई थी।

आज तक यहां पर 10029 लोगों की थैरेपी की जा चुकी है। 134 व्हीलचेयर, 216 सुनने के उपकरण, 29 आंख के उपकरण, 230 को अन्य उपकरण व सहायता तथा 19 लोगों को कृत्रिम अंग प्रदान किए गए हैं। पूरे जिले में पंचायत स्तर पर शिविर लगाकर दिव्यांग लोगों की पहचान कर उनके दिव्यांगता प्रमाण पत्र बनाए जाते हैं और उन्हें प्रयुक्त सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।

पूरे जिले में 4429 दिव्यांगता प्रमाण पत्र हैं, जिनमें से 3712 को UDID कार्ड उपलब्ध करवा दिए गए हैं। उन्होंने केंद्रीय मंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि भविष्य में यह आदर्श दिव्यांग पुनर्वास केंद्र और बेहतर कार्य करने के लिए हमेशा अग्रसर रहेगा।

इस अवसर पर सहायक आयुक्त शशि पाल नेगी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी कुल्लू डॉ. सुशील चंद्र शर्मा, रेडक्रॉस सोसाइटी के सचिव VK मोदगिल, जिला कल्याण अधिकारी समीर, CRC इंचार्ज सुंदरनगर डॉ. शत्रुघन सिंह, प्रशासनिक अधिकारी CRC सुंदरनगर संदीप त्रिवेदी सहित दिव्यांग पुनर्वास केंद्र कुल्लू का स्टाफ उपस्थित रहा।

खबरें और भी हैं...