• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Kullu
  • Lyul Festival The Milan 2022 In Sissu Kullu Lahol Spiti, Markanda Attended The Cultural Evening, Said Festivals Encourage Tourism

सिस्सु में लायुल उत्सव द-मिलन 2022:मरकंडा ने सांस्कृतिक संध्या में की शिरकत, बोले- उत्सवों से पर्यटन को मिलता है बढ़ावा

कुल्लू6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तकनीकी एवं जनजातीय विकास मंत्री डॉ रामलाल मारकंडा का स्वागत करते हुए लोग। - Dainik Bhaskar
तकनीकी एवं जनजातीय विकास मंत्री डॉ रामलाल मारकंडा का स्वागत करते हुए लोग।

हिमाचल के तकनीकी शिक्षा एवं जनजातीय विकास मंत्री डॉ. रामलाल मार्कण्डा ने लाहौल स्पीति विधानसभा क्षेत्र के सिस्सु में चल रहे 'लायुल उत्सव द-मिलन 2022' की सांस्कृतिक संध्या में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 के कारण लगभग 2 वर्षों तक सभी प्रकार के आयोजन बंद रहे हैं। कोविड से जब राहत मिली तो प्रदेश के सभी प्रकार के आयोजन आरंभ होने से लोगों में भी भारी उत्साह है। उन्होंने कहा कि उत्सवों के आयोजन से जहां हमें आपस में मिलने का बेहतर अवसर मिलता है। वहीं इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलता है।

सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता करते हुए मंत्री डॉ रामलाल मारकंडा।
सांस्कृतिक संध्या की अध्यक्षता करते हुए मंत्री डॉ रामलाल मारकंडा।

उन्होंने कहा कि युवाओं तथा महिलाओं को स्वरोजगार के प्रति उत्साहित करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना शुरू की गई है। इस योजना का लाभ उठाकर जहां युवा स्वावलंबी बने हैं वहीं दूसरे लोगों को रोजगार देने वाले भी बने हैं। तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि लाहौल स्पीति जिला पर्यटन की दृष्टि से अहम स्थान रखता है तथा हर साल ना केवल देश बल्कि विदेशों से भी लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है। उन्होंने कहा कि प्रकृति ने जिला को अपार प्राकृतिक सुंदरता से और स्वास्थ्य जलवायु से नवाजा है। उन्होंने कहा कि अटल टनल बनने से जिला का नाम प्रदेश, देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अपनी अलग पहचान रखता है तथा इसके बनने से जिला में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिला है।

मेले के सफल आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई

मेला कमेटी के अध्यक्ष राजेश कुमार ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया तथा लाहौली परंपरा के अनुसार सम्मानित किया। इस मेले में स्थानीय कलाकारों के साथ-साथ अन्य जिलों के कलाकारों ने भाग लेकर अपनी-अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। उत्सव में दौरान स्वयं सहायता समूहों द्वारा विभिन्न पारम्परिक व्यंजनों के स्टॉल लगाए गए हैं जहां पर लोगों ने इनका भरपूर आनंद उठाया।