• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Kangra
  • Baijnath
  • Case Of Murder Of Youth Ladabhadol Of Nagar Khola Of Jogindernagar, People Jammed The Wheel And Demanded Justice, Shouted Slogans Against The Police

नागर खोला के युवक की हत्या का मामला:लोगों ने चक्का जाम जाम कर लगाई इंसाफ की गुहार,पुलिस के खिलाफ की नारेबाजी

बैजनाथ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मनोज कुमार की हत्या का मामला। - Dainik Bhaskar
मनोज कुमार की हत्या का मामला।

हिमाचल के जोगिंदर नगर के लडभडोल के गांव नागर खोला पंचायत के सैंकडो लोगों ने गुरुवार को लडभडोल पुलिस चौकी ने धरना प्रदर्शन किया,और बाजार में चक्का जाम कर दिया। इस गांव में 4 सितंबर को मनोज कुमार अपने घर में फंदे से लटका हुआ मिला था। जिस पर परिजनों ने हत्या का अंदेशा जताया था। लेकिन पुलिस की कार्यप्रणाली से नाखुश होकर लोगों ने आज पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

रोड को जाम करते मृतक मनोज के परिजन और ग्राणीण।
रोड को जाम करते मृतक मनोज के परिजन और ग्राणीण।

मामले को लेकर बोले ग्रामीण।

गांव वालों का कहना है कि पहले भी वो इस संबंध में पुलिस से मिल चुके हैं, उन्होंने कहा था कि पुलिस ने अब तक जो भी इस केस के बारे में छानबीन की है, उससे न तो उसके घर वाले संतुष्ट है और न ही गांव वाले संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस वाले इस मामले को दबाने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन हम लोग इस मामले को दबने नहीं देंगे। गांव वालों का कहना है कि उसकी हत्या 4 सितंबर से पहले ही हो चुकी थी।और उसके घर का दरवाजा भी खुला हुआ था। पुलिस ने उसकी कॉल डिटेल भी निकाली थी,लेकिन पुलिस उस कॉल डिटेल के आधार पर भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर रही है। उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री को भी ज्ञापन प्रेषित किया था। उन्होंने इस मामले की CBI से जांच कराने की मांग की है।

मनोज कुमार फंदे से लटका हुआ मिला

मृतक की मां का कहना है कि वह अपनी बेटी के पास चंडीगढ़ गई हुई थी। उसने 2 और 3 सितंबर को चंडीगढ़ से अपने बेटे को फोन किया। लेकिन उसने फोन का कोई भी जवाब नहीं दिया। इसके बाद 4 सितंबर को उसने फिर से बेटे को फोन किया। लेकिन उसने फोन नहीं अटैंड किया। उसके बाद मृतक की मां ने पड़ोस में रहने वाले व्यक्ति को फोन किया, सारी बात बताई।जब उसके पड़ोसी ने खिड़की से घर में झांक कर देखा तो,मनोज कुमार फंदे से लटका हुआ मिला। इसके बाद इसकी सूचना पंचायत प्रधान और पुलिस को दी गई। पुलिस ने उस समय वहां से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया था। जिसमें उसने अपनी हत्या के बारे में किसी को भी दोषी नहीं ठहराया था।