सुंदरनगर का जवाहर पार्क विवादों में:घास बिछाने पर 25 लाख खर्च रही नगर पालिका, लोगों ने बताया फिजूलखर्ची

सुंदरनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुंदरनगर के जवाहर पार्क मेला ग्राउंड में लगाई जा रही घास। - Dainik Bhaskar
सुंदरनगर के जवाहर पार्क मेला ग्राउंड में लगाई जा रही घास।

हिमाचल के मंडी स्थित सुंदरनगर के जवाहर पार्क मेला ग्राउंड में 25 लाख की लागत से घास बिछाने का कार्य शुरू होते ही विवादों में आ गया है। सोशल मीडिया सहित सुंदरनगर शहर के कई लोगों ने इस कार्य पर सवाल उठाते हुए इसे फिजूल खर्च व पैसे की बर्बादी बताया है।

गौरतलब है कि नगर परिषद की ओर से जवाहर पार्क में करीब 25 लाख की लागत से घास बिछाने का कार्य शुरू किया है। इस मैदान में राज्य स्तरीय नलवाड़ मेले के दौरान सांस्कृतिक संध्याओं का आयोजन किया जाता है। साथ में राज्य स्तरीय देवता मेले के दौरान देवता भी यहीं बैठते हैं। ऐसे में घास लगाने के निर्णय पर सवालिया निशान लग रहा है। लोग इसे पैसे की बर्बादी बता रहे हैं।

सोशल मीडिया पर खूब उछल रहा मामला
सोशल मीडिया पर भी यह मामला खूब उछल रहा है। जहां इस निर्णय की सभी ओर जमकर आलोचना की जा रही है। लोगों का कहना है कि जो घास बिछाई जा रही है, यदि उसकी जगह ग्राउंड की बाड़बंदी कर प्राकृतिक तौर पर घास उगाई जाती तो वह ज्यादा बेहतर व गुणकारी होती और लाखों रुपए की बचत भी होती।

स्थानीय लोगों ने बताया फिजूलखर्ची

स्थानीय निवासी विनोद कुमार, सोनिया शर्मा, अश्वनी शर्मा, वीरपाल राजपूत, RL चौहान, लवनीश ठाकुर, संजय चौहान, निशांत ठाकुर, विक्रम ठाकुर व राहुल कपूर सहित कई लोगों का कहना है कि 4 माह बाद सुंदरनगर के इस ऐतिहासिक ग्रांउड में नलवाड़ व देवता मेला आयोजित होंगे। यहां पर सैकड़ों व्यापारी दुकानें लगाएंगे। झूले, प्रदर्शनियां लगने के साथ खेल कूद प्रतियोगिताएं होंगी। लाखो लोग यहां शिरकत करेंगे। जिससे यह घास पूर्णतया बर्बाद हो जाएगी।

जवाहर पार्क मेला ग्राउंड में प्रगति पर घास लगाने का कार्य।
जवाहर पार्क मेला ग्राउंड में प्रगति पर घास लगाने का कार्य।

क्या बोले अधिकारी?

इसे लगाने का औचित्य ही नहीं है। गत रोज SDM सुंदरनगर धर्मेश रामोत्रा ने इस ग्राउंड का निरीक्षण किया था। उनका कहना था कि जवाहर पार्क को संवारने के लिए सुंदरनगर प्रशासन की ओर से एक पहल की जा रही है। जिसमें जवाहर पार्क में हरी घास लगाने का कार्य प्रगति पर है। इस कार्य को नगर परिषद करवा रही है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को इस कार्य को सही ढंग से पूरा करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि जवाहर पार्क में घास लगाने का कार्य नगर परिषद द्वारा करवाया जा रहा है। इसके लागत मूल्य की जानकारी नहीं है। नगर पालिका कार्यकारी अधिकारी करुण भरमोरिया का कहना है कि तकरीबन 25 लाख रुपए जवाहर पार्क में घास लगाने पर खर्च किए जा रहे हैं, कार्य प्रगति पर है।

सामाजिक कार्यकर्ता अश्वनी सैनी का कहना है कि यदि इस जन धन के 25 लाख का सिराज स्थित मनरेगा पार्क की तर्ज पर शुकदेव वाटिका को विकसित करने में उपयोग होता तो बेहतर होता। जवाहर पार्क में घास बिछाने का कार्य जब तक पूरा होगा। तब तक यहां मेले शुरू हो जाएंगे। जिसके चलते यह पैसा व घास पूर्णतया बर्बाद हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...