पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • 1.46 Lakh Poppy Plants Recovered From 10 Bigha Land In Chauharghati Of Kangra, Case Registered Under NDPS Act

हिमाचल प्रदेश में नशीले पदार्थों की खेती:चौहारघाटी में 10 बीघा भूमि से 1.46 लाख अफीम और पोस्त के पौधे बरामद, NDPS एक्ट के तहत केस दर्ज

कांगड़ा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी और निजी जमीन पर लगी अफीम की खेती। - Dainik Bhaskar
सरकारी और निजी जमीन पर लगी अफीम की खेती।

हिमाचल प्रदेश में खुलेआम नशीले पदार्थों की खेती की जा रही थी। कांगड़ा जिले में पद्धर उपमंडल की चौहारघाटी में अब तक की सबसे बड़ी अफीम और पोस्त की खेती पकड़ी गई है। टिक्कन के टलथू खोट में 10 बीघा जमीन पर एक लाख 46 हजार 686 अफीम के पौधे बरामद किए गए हैं।

SP मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई की गई है। जिला पुलिस को सूचना मिली थी कि पद्धर की उप तहसील टिक्कन में अफीम की अवैध तरीके से खेती की जा रही है। इस सूचना पर कार्रवाई करते हुए एक टीम को मंडी से इसकी पुष्टि करने के लिए भेजा गया।

टीम ने जानकारी दी कि टलूथ खोट में बड़े पैमाने पर अफीम की खेती की गई है। इसके बाद सुरक्षा शाखा मंडी और पद्धर पुलिस की तीन अलग-अलग टीमें मौके पर भेजी गईं। टीमें 3 मई को शाम 4 बजे जांच करने के लिए मौके पर पहुंचीं। टीमों के साथ प्रधान और इलाका पटवारी भी था।

जांच में पाया गया कि लगभग 10 बीघा में गेहूं की खेती के बीच अफीम की खेती थी। गिनती करने पर एक लाख 46 हजार 686 पौधे लगे मिले। यह खेती निजी और सरकारी भूमि पर की गई थी। NDPS एक्ट के तहत 6 मामले दर्ज किए गए हैं। पौधों को नष्ट करने की कवायद भी शुरू कर दी गई है।

10 बीघा जमीन में हुई अफीम की अवैध खेती के आरोपियों तक पहुंचने के लिए अब संबंधित पटवारी पूरी जमीन की निशानदेही करेंगे और उसके बाद जिन लोगों के नाम पर जमीन होगी, उनके खिलाफ मामले दर्ज किए जाएंगे। लोगों से अनुरोध है कि वे इस तरह की जानकारी 9317221001 पर साझा करें।

खबरें और भी हैं...