बिना बच्चे के जिंदगी से हारी महिला:संतान न होने से परेशान 58 वर्षीय बुजुर्ग ने जहर निगलकर की खुदकुशी, मानसिक तनाव में रहती थी

अम्ब6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतका ने इलाज भी कराया, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो रहा था। - Dainik Bhaskar
मृतका ने इलाज भी कराया, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो रहा था।

हिमाचल प्रदेश में पुलिस थाना अम्ब के तहत एक महिला बिना बच्चे के जिंदगी गुजारते-गुजारते इतना थक गई कि उसने मरना मुनासिब समझा। उसने जहरीला पदार्थ निगलकर जान दे दी। मृतका की पहचान 58 वर्षीय ममता देवी पत्नी मेला राम निवासी ग्राम पंचायत लडोली के कंगरूही (भवरन) गांव के रूप में हुई। अम्ब पुलिस ने मृतका का शव कब्जे में लेकर क्षेत्रीय अस्पताल ऊना भेज दिया है।

DSP सृष्टि पांडे ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि ममता की शादी को करीब 30 साल बीत चुके थे, लेकिन उसकी कोई संतान नहीं थी। घर में पति-पत्नी अकेले ही रहते थे और ममता मानसिक रूप से काफी परेशान रहती थी। मंगलवार देर रात इसी परेशानी के चलते उसने जहरीला पदार्थ निगल लिया। जिसके चलते उसकी तबीयत बिगड़ गई। पति ने उसे उपचार के लिए सिविल अस्पताल अम्ब पहुंचाया।

अस्पताल में इलाज के दौरान ममता ने दम तोड़ दिया। पति ने घटना की सूचना पुलिस को दी। पति के बयान के आधार पर पुलिस ने खुदकुशी का केस दर्ज करके आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।