पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चुराह घाटी में हादसे की होली:रात पौने 11 बजे लगी घर में आग; परिवार के 4 सदस्यों की दम घुटने से मौत, 9 पशु भी जले

चंबा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंबा में घर में आग लगने के बाद दम घुटने से मारे गए दंपति और दो बच्चों के शव। - Dainik Bhaskar
चंबा में घर में आग लगने के बाद दम घुटने से मारे गए दंपति और दो बच्चों के शव।

बदलता मौसम, शरीर में नए रक्त संचार की रंगत और वातावरण में रंगों की मस्ती क्या कुछ नहीं लेकर आता होली का त्योहार। इसी के साथ कहीं-कहीं विधाता ने इस खास दिन पर भी खोटे नसीब लिखे होते हैं। रविवार रात चंबा जिले में हुआ एक हादसा इसी तरफ इशारा करता है। यहां घर में आग लग जाने से परिवार के चार सदस्य दम घुटने से मारे गए और गुजर-बसर के लिए रखे 9 पशु जिंदा जल गए। इस घटना के बाद इलाके में मातम का माहौल है।

घटना चुराह घाटी के गांव सुईला में घटी है। जानकारी के अनुसार रविवार देर रात करीब पौने 11 बजे देशराज नामक व्यक्ति के घर में अचानक आग लग गई। इससे पहले की कोई कुछ कर पाता, 4 लोग मौत के आगौश में समा गए। साथ ही 9 पशु भी आग की भेंट चढ़ गए। हालांकि हादसे के वक्त घर में कुल 6 लोग सोए हुए थे। इनमें से 2 को तो समय रहते बचा लिया गया, लेकिन बाकी चार खुद को बचाने में कामयाब हो पाते या फिर उन्हें कोई और सुरक्षित बाहर निकाल पाता, अंदर ही राख हो गए।

घटना में सूचना मिलने से पुलिस थाना तीसा के थाना प्रभारी सुरेंद्र की अगुवाई में पुलिस दल तुरंत घटनास्थल की तरफ रवाना हुआ और रात करीब 2 बजे पहुंच पाए। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हालांकि आग लगने का कारण को फिलहाल कोई पता नहीं चल पाया है।

घटन के बारे में जानकारी देती बड़े पोते के साथ वक्त रहते बाहर निकल पाने में कामयाब रही मृतक देशराज की मां।
घटन के बारे में जानकारी देती बड़े पोते के साथ वक्त रहते बाहर निकल पाने में कामयाब रही मृतक देशराज की मां।

जलते मकान से बच निकले दादी और पोता
घटना के वक्त देशराज का 7 वर्षीय बड़ा बेटा माता-पिता से अलग दूसरे कमरे में अपनी दादी के साथ सो रहा था। आग की भनक लगते ही वह अपनी दादी को जगाकर तुरंत बाहर निकला। दोनों ने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया।, जिसके बाद साथ लगते मकानों में सो रहे अन्य लोग उठ खड़े हुए। तुरंत घटनास्थल पर पहुंचकर लोगों को देशराज की मांग ने बताया कि उसका बेटा अपनी बीवी व बच्चों के साथ मकान के भीतर ही फंसा है। इस पर लोगों ने उन्हें बचाने के प्रयास शुरू किए। ग्रामीण आग पर काबू पाने के लिए कड़ी मशक्कत करते रहे। बाल्टियों में पानी भरकर आग पर डालते रहे। काफी देर की कड़ी मशक्कत के बाद ग्रामीणों ने आग पर काबू पा लिया। इसके बाद जब भीतर जाकर देखा तो तब तक देशराज, उसकी पत्नी और दो बच्चों की मौत हो चुकी थी।

घर, जहां आग लगने से परिवार के चार सदस्यों और 9 पशुओं की मौत हो गई।
घर, जहां आग लगने से परिवार के चार सदस्यों और 9 पशुओं की मौत हो गई।

सड़क सुविधा से वंचित है गांव

जिस सुईला गांव में यह आग की घटना घटी है, वह अभी तक सड़क सुविधा से वंचित है। इस वजह से लोगों को अपने स्तर पर ही आग बुझाने की व्यवस्था करनी पड़ी। इस घटना ने पूरी चुराह घाटी में शोक की लहर पैदा करने का काम किया है। कुछ दिन पहले ही चुराह घाटी में घटी बस दुर्घटना की वजह से चुराह को गहरे जख्म मिले थे तो अब होली की पूर्व संध्या पर आग की इस घटना ने एक बार फिर से घाटी की खुशियों पर नजर लगाने का काम किया है।

खबरें और भी हैं...