• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • HRTC RM Chamba office scam: An employee took anticipatory bail from High Court, cashier missing, brother wrote missing report

हेराफेरी / एचआरटीसी आरएम चंबा कार्यालय में हुए घोटाले में एक कर्मचारी ने हाईकोर्ट से ली अग्रिम जमानत, कैशियर लापता, भाई ने लिखाई गुमशुदगी की रिपोर्ट

हिमाचल रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एचआरटीसी) के चंबा डिपो में हुए घोटाले को लेकर कर्मचारी ने ली अग्रिम जमानत। फाइल फोटो हिमाचल रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एचआरटीसी) के चंबा डिपो में हुए घोटाले को लेकर कर्मचारी ने ली अग्रिम जमानत। फाइल फोटो
X
हिमाचल रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एचआरटीसी) के चंबा डिपो में हुए घोटाले को लेकर कर्मचारी ने ली अग्रिम जमानत। फाइल फोटोहिमाचल रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एचआरटीसी) के चंबा डिपो में हुए घोटाले को लेकर कर्मचारी ने ली अग्रिम जमानत। फाइल फोटो

  • घोटाले की परतें खुलने के डर से कैशियर सोमवार को आया, लेकिन फिर गायब हो गया

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 08:09 PM IST

धर्मशाला. हिमाचल रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (एचआरटीसी) के चंबा डिपो में सैंकड़ों कर्मचारियों के रात्रि भत्ते और ओवरटाइम के लाखों रुपए में हुए घोटाले की परतें खुलने के डर से इसमें शामिल कर्मचारी अब हाईकोर्ट में पहुंच कर अग्रिम जमानत लेने लगे है। इसी बीच चंबा के एचआरटीसी कार्यालय का कैशियर सोमवार को ऑफिस आया लेकिन दोपहर के बाद अचानक गायब हो गया।

अग्रिम जमानत ली

घोटाल के  आरोपों में घिरे एक कर्मचारी ने हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत ले ली है। इस पूरे मामले की जांच के बीच चंबा के एचआरटीसी कार्यालय का कैशियर लापता हो गया है। कैशियर सोमवार को कार्यालय आया था, लेकिन दोपहर के वक्‍त वह कार्यालय से कहीं चला गया और वापस नहीं आया। कैशियर के भाई ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई है।

एचआरटीसी के इंटरनल ऑडिट पर भी उठे सवाल
डिपो के लेखे-जोखे का हर साल इंटरनल ऑडिट होता है, लेकिन गड़बड़ी की शिकायत से ऑडिट भी सवालों के घेरे में आ गया है। हालांकि गड़बड़ी कितने पैसों की हुई है, इसका पता जांच पूरी करने के बाद ही चल पाएगा। इस संबंध में दस्तावेजों की बारीकी से पड़ताल की जा रही है। 2017 से 2019 तक एक कर्मचारी के सैलरी अकाउंट में परिवहन कर्मचारियों का साढ़े 11 लाख रुपए से अधिक राशि जमा हुई है। चंबा डिपो में ऐसी धोखाधड़ी और हेराफेरी न केवल चालकों और परिचालकों के साथ की गई, बल्कि चंबा से ट्रांसफर, रिटायर हुए कई कर्मचारियों के पैसे को भी अपनी सैलरी अकाउंट में जमा करवाया गया है। आरोप है कि 2 अक्टूबर, 2017 को चंबा से ट्रांसफर हुए एक इंस्ट्रक्टर के एरियर का 16,448 रुपए भी सैलरी अकाउंट में जमा करवा लिए ।
क्या है मामला
सीएम हेल्पलाइन में शिकायत होने के बाद मामले की जांच करने शिमला, हमीरपुर और धर्मशाला से आईं टीमें तीन दिन से रिकॉर्ड खंगाल रही हैं। आरोप है कि चंबा एचआरटीसी आरएम कार्यालय में पिछले चार-पांच सालों से इस कारनामे को अंजाम देकर लाखों रुपए विभिन्न कर्मचारियों की ओर से हड़प लिए गए हैं। यह घोटाला एचआरटीसी ड्राइवर व कंडक्टर के रात्रि भत्ते और ओवरटाइम को लेकर किया गया है। आरएम कार्यालय में जो रिकॉर्ड उपलब्ध है उसमें तो हार्ड कॉपी में जानकारियां सही हैं। लेकिन पेमेंट के लिए एचआरटीसी आरएम कार्यालय से संबंधित बैंक को भेजी ई-मेल में टेंपरिंग कर फर्जीबाड़े को अंजाम दिया गया है।

हार्ड कॉपी सही, बैंक काे भेजे ई-मेल में हेराफेरी

संबंधित कर्मचारी ऑफिस रिकॉर्ड में तो सही हार्ड कॉपी लगाता रहा लेकिन बैंक को जो ई-मेल भेजता उसमें अपना नाम और अकाउंट नंबर जोड़ने के साथ कुछ अन्य की भी एंट्री कर देता और ऑफिसियल ई-मेल को डिलीट कर देता। बैंक इसी आधार पर ड्राइवर्स और कंडक्टर्स के खाते में रकम ट्रांसफर कर देता। इंटरनल ऑडिट में भी यह मामला नहीं पकड़ में आया। शिमला एचआरटीसी मुख्यालय ने जांच की जिम्मेवारी डीएम हमीरपुर अवतार के नेतृत्व में एकाउंट्स ब्रांच के अधिकारी शामिल हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना