चोरी-छिपे इलाज / कांगड़ा का निजी अस्पताल हो सकता है सील, संक्रमित बुजुर्ग का छिपाकर किया इलाज

सिबॉलिक इमेज। सिबॉलिक इमेज।
X
सिबॉलिक इमेज।सिबॉलिक इमेज।

  • जालंधर से आकर इस बुजुर्ग ने कांगड़ा के निजी हॉस्पिटल में करवाया डायलिसिस
  • एसएसपी ने बताया मरीज की ट्रैवल हिस्ट्री के संबंध में स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे दी गई

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 10:13 PM IST

धर्मशाला. (प्रेम सूद). डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल टांडा के वार्ड (आइसोलेशन वार्ड) में भर्ती 68 वर्षीय बुजुर्ग का कांगड़ा के निजी अस्पताल के डॉक्टर पिछले डेढ़ माह से इलाज करते रहे। पंजाब के जालंधर जोकि कोरोना हॉटस्पॉट का निवासी होने के बावजूद उपचार करने वाले डॉक्टरों ने उसका कोरोना टेस्ट नहीं कराया। कंटेनमेंट जोन के बुजुर्ग के बीमार होने के संबंध में स्वास्थ्य विभाग को सूचना तक नहीं दी। संदिग्ध लक्षण होने और लगातार स्वास्थ्य में गिरावट होने के बावजूद डॉक्टर उपचार करते रहे।

जालंधर से आकर डायलिसिस करवाया

जिला कांगड़ा के पालमपुर उपमंडल के पंचरुखी का रहने वाला 68 वर्षीय बुजुर्ग जो 21 मई को जालंधर से आया था जोकि शनिवार को पॉजिटिव पाया गया। स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी शनिवार को मिलने के बाद अधिकारियों में हड़कंप मच गया। 21 मई को जालंधर से आकर इस बुजुर्ग ने कांगड़ा के निजी हॉस्पिटल में डायलिसिस करवाया लेकिन तबीयत बिगड़ने पर 68 वर्षीय बुजुर्ग को टांडा अस्पताल में भर्ती किया गया था। शुक्रवार को इस मरीज के सैंपल टेस्ट के लिए भेजे थे। शनिवार को यह मरीज पॉजिटिव निकला।

जानकारी ली जा रही

एसएसपी जिला कांगड़ा विमुक्त रंजन ने बताया कि मरीज की ट्रैवल हिस्ट्री के संबंध में स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे दी गई है। आगे की कार्रवाई स्वास्थ्य विभाग को करनी है। सीएमओ डॉ. गुरुदर्शन गुप्ता ने बताया कि भर्ती बुजुर्ग ने दो दिन पूर्व डायलिसिस करवाया था। इसकी जानकारी ली जा रही है। उसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी। निजी अस्पताल के मैनेजिंग डायरेक्टर ने बताया कि यह मरीज पिछले डेढ़ माह से डायलसिस करवाने आ रहा था। जिसकी ट्रेवल हिस्ट्री व अन्य जानकारियां स्वास्थ्य विभाग को दी गई थीं। 21 मई को यह मरीज आया और इसका डायलिसिस किया गया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना