पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हिमाचल में बर्ड फ्लू का खतरा:पौंग बांध में 3000 से ज्यादा पक्षियों की मौत; प्रदेश भर में हाईअलर्ट, हैदराबाद से जांच करने आई टीम

धर्मशाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वन्य प्राणी जीव विभाग ने पौंग बांध अभयारण्य क्षेत्र में मृत प्रवासी पक्षियों की खोजबीन करके उन्हें नष्ट करने के लिए 10 टीमों का गठन किया है। - Dainik Bhaskar
वन्य प्राणी जीव विभाग ने पौंग बांध अभयारण्य क्षेत्र में मृत प्रवासी पक्षियों की खोजबीन करके उन्हें नष्ट करने के लिए 10 टीमों का गठन किया है।
  • बांध क्षेत्र में घुसकर अवारा कुत्ते मृत पक्षियों को उठाकर ले जा रहे हैं
  • पोल्ट्री फार्मों और चिकन शॉप से भी जांच के लिए नमूने लिए गए हैं

हिमाचल प्रदेश में पौंग बांध में बर्ड फ्लू के कारण 3000 से ज्यादा विदेशी पक्षियों की मौत हो गई है। इसके चलते अब पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया गया है। चिड़ियाघरों की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। झीलों का लगातार निरीक्षण किया जा रहा है। बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए हैदराबाद से विशेषज्ञों की टीम पहुंच गई है। यह टीम पौंग बांध क्षेत्र में फ्लू के कारणों और इसकी रोकथाम पर काम कर रही है। दूसरी ओर, क्षेत्र में आवारा कुत्ते मृत पक्षियों को उठाकर ले जा रहे हैं, जिससे जांच में जुटी टीम की चिंता बढ़ गई है।

ये कुत्ते रात के समय स्थानीय लोगों के घरों में भी पहुंच रहे हैं, जिससे हड़कंप मचने की स्थिति बनी हुई है। पौंग बांध के पानी में भी वायरस की आशंका है। लिहाजा, पानी के सैंपल लेकर जांच के लिए धर्मशाला स्थित जल शक्ति विभाग की लैब में भेजे गए हैं। वन्य प्राणी जीव विभाग ने 207 वर्ग किलोमीटर में फैले पौंग बांध अभयारण्य क्षेत्र में मृत प्रवासी पक्षियों की खोजबीन करके उन्हें नष्ट करने के लिए 10 टीमों का गठन किया है। कुछ स्थानीय कामगारों की मदद भी ली जा रही है। कुल 60 लोगों की टीम सक्रिय है।

3000 से अधिक पक्षियों की मौत

बर्ड फ्लू के कारण पौंग झील में प्रवासी पक्षियों के मरने का सिलसिला लगातार जारी है। भारी वर्षा होने के बावजूद वन्य प्राणी विभाग के कर्मचारी PPE किट पहनकर इन मृत प्रवासी पक्षियों को इकट्ठा करने में लगे हैं। नगरोटा-सूरियां, धमेटा, सिहाल, स्थाता तथा आसपास के क्षेत्रों में मंगलवार को करीब 336 से अधिक प्रवासी पक्षी मृत मिले हैं। इस तरह अब तक 3000 से अधिक पक्षियों की मौत हो गई है।

विभाग के कर्मचारी इन मृत पक्षियों को ट्रैक्टरों में ले जाकर एक बड़े गड्ढे में डालकर उन्हें जलाते हैं, फिर गड्ढे में दबाया जाता है। पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर संजीव कुमार ने बताया कि पौंग डैम में मृत पक्षियों को अब सिर्फ पशुपालन विभाग ही डिस्पोज ऑफ करेगा। केंद्र सरकार के आदेश के बाद ही यह फैसला लिया गया है। मृत पक्षियों में सबसे अधिक बार हेडेड ग्रूज प्रजाति के पक्षियों के अलावा कॉमन पचार्ड, ग्रेलग गीज और नाय रन शवलर समेत अन्य बहुत-सी प्रजातियां ऐसी हैं, जो झील के किनारे मृत मिली हैं।

पोल्ट्री फार्मों और चिकन शॉप से भी नमूने लिए

देहरा, ज्वाली, इंदौरा और फतेहपुर उपमंडल में पोल्ट्री फार्मों और चिकन शॉप से भी नमूने लिए गए हैं, जो जांच के लिए जालंधर लैब भेजे गए हैं। पशुपालन विभाग के उपनिदेशक संजीव धीमान ने बताया कि वन्य प्राणी, स्वास्थ्य, जल शक्ति, पुलिस एवं पशुपालन विभाग तालमेल बनाकर काम कर रहे हैं। जल शक्ति विभाग धर्मशाला के कार्यकारी इंजीनियर सरवण ठाकुर ने बताया कि पानी के सैंपलों की रिपोर्ट एक-दो दिन में आ जाएगी। बर्ड फ्लू से प्रभावित चारों उपमंडलों में पीने के पानी में ब्लीचिंग पाउडर की मात्रा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी सकारात्मक और संतुलित सोच द्वारा कुछ समय से चल रही परेशानियों का हल निकलेगा। आप एक नई ऊर्जा के साथ अपने कार्यों के प्रति ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। अगर किसी कोर्ट केस संबंधी कार्यवाही चल र...

और पढ़ें