पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Negligence Is Not Tolerated, Officers Should Soon Settle Pending Revenue Cases In The District

अधिकारियों की बैठक:लापरवाही बर्दाश्त नहीं, जिले में लंबित पड़े राजस्व मामलों को जल्द निपटाएं अधिकारी

नालागढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला उपायुक्त कार्यालय में राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए - Dainik Bhaskar
जिला उपायुक्त कार्यालय में राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए

जिले के राजस्व विभाग के अधिकारियों के साथ बुधवार को बैठक का आयोजन किया। बैठक की अध्यक्षता उपायुक्त सोलन केसी चमन ने की। अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि लंबित पड़े विभिन्न राजस्व मामलों को शीघ्र निपटाया जाए ताकि लोगों को किसी कठिनाई का सामना न करना पड़े।

जिला राजस्व अधिकारी केशव राम ने जिला राजस्व विभाग द्वारा किए कार्यों एवं अन्य गतिविधियों की जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा दिसंबर 2019 से सितंबर 2020 तक विभिन्न मामलों में 3 करोड़ 39 लाख 59 हजार 987 रुपए की राशि वसूली गई। उन्होंने कहा कि जिला में इंतकाल के 4663 मामले, तकसीम के 69 मामले, निशानदेही के 1073 मामले निपटाए गए।

सरकारी भूमि पर अवैध कब्जों के 47 मामलों पर कार्रवाई की। उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान दो एवं तीन बिस्वा भूमि प्रदान करने की योजना के तहत 401 लाभार्थियों को भूमि प्रदान की गई। वहीं उपायुक्त केसी चमन ने कहा कि रोजमर्रा के जीवन में राजस्व मामले महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

तकसीम, इंतकाल व निशानदेही के संबंध में लोगों को प्रतिदिन राजस्व अधिकारियों से मिलना पड़ता है। उन्होंने राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि आम आदमी को इनसे संबंधित विषयों में शीघ्र राहत प्रदान करने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को भूमि से संबंधित विषयों को सप्ताहवार एवं दैनिक आधार पर निपटाने का प्रयास करना चाहिए।

उन्होंने सभी उपमंडलाधिकारियों को निर्देश दिए कि मुख्यमंत्री सेवा संकल्प 1100 और ई-समाधान वेबसाइट का नियमित अनुश्रवण करें और इन पर प्राप्त शिकायतों का समयबद्ध निपटारा सुनिश्चित बनाएं।भूमिहीन परिवारों को नियम के अनुसार समय पर दें जमीन : उपायुक्त ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार भूमिहीन परिवारों को नियमानुसार भूमि प्रदान करने के मामलों में शीघ्र कार्रवाई सुनिश्चित बनाई जाए।

उन्होंने कहा कि ऐसे सभी मामलों को संबंधित पटवारियों द्वारा जांच के उपरांत उच्चाधिकारियों को प्रेषित किया जाए। यह भी सुनिश्चित बनाना होगा कि ऐसे मामलों में आवेदनकर्ता को शीघ्र राहत मिले। उन्होंने कहा कि पात्रता सुनिश्चित करते समय सही व्यक्ति को चुना जाए। इस मौके पर उप मंडलाधिकारी सोलन अजय कुमार, महेन्द्र पाल गुर्जर, रीतिका, डाॅ. संजीव धीमान, उपमण्डलाधिकारी अर्की विकास शुक्ला, सहायक आयुक्त सोलन भानु गुप्ता, सोलन जिला के सभी तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार बैठक में उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...