• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Out Of 300 People Who Came For Driving Test In Kullu, 100 Tokens Were Received, The Line Of Test Takers Went From SDM Office To DC Office.

लंबी लाइन:कुल्लू में ड्राइविंग टेस्ट के लिए आए 300 लोगों में से 100 को मिले टोकन, टेस्ट देने वालों की लाइन एसडीएम ऑफिस से डीसी ऑफिस तक पहुंची

कुल्लू2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कुल्लू में ड्राइविंग टेस्ट के लिए 300 से अधिक लोग पहुंचे, जिनमें से 100 को टोकन दिया गया।बाकी परेशान होकर अपने घरों को लौटे। - Dainik Bhaskar
कुल्लू में ड्राइविंग टेस्ट के लिए 300 से अधिक लोग पहुंचे, जिनमें से 100 को टोकन दिया गया।बाकी परेशान होकर अपने घरों को लौटे।
  • सोशल डिस्टेंसिंग की किसी को परवाह नहीं, लंबी लाइनें लगी
  • लोगों ने गुस्सा जताते कहा- दूर-दराज से आए लोगों को नहीं मिला टेस्ट का मौका

लॉकडाउन के बाद फिर से लोगों के ड्राइविंग के टेस्ट लिए जा रहे है। आज एसडीएम ऑफिस टेस्ट देने के लिए कई लोग पहुंचे लेकिन ज्यादा लोग होने के कारण कई लोगों को मौका नहीं मिला। ड्राईविंग टेस्ट के लिए एसडीएम कार्यालय कुल्लू से मिलने वाले टोकन के लिए 300 से अधिक लोग कार्यालय पहुंचे और जिनकी लंबी कतार एसडीएम कार्यालय से लेकर डीसी कार्यालय तक लग गई। इस दौरान एक सौ लोगों को टोकन जारी किए गए और बाकी पंक्ति में लगे सभी लोगों को वापस लौटा दिया गया, जिसको लेकर लोगों में रोष दिखाई दिया।

टोकन लेने पहुंचे युवाओं ने बताया कि एक तो वे काफी दूर से यहां ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए मिलने वाले टोकन लेने पहुंचे थे परंतु यहां से सिर्फ 1 सौ लोगों को टोकन जारी किए गए और हमें खाली हाथ लौटा दिया गया। उन्होंने इस कार्यालय की टोकन व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर 100 लोगों को ही टोकन जारी करने थे तो इतने सारे लोगों को यहां जमा करने की जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि हालांकि पिछले 6 महीनों से कोरोना महामारी के चलते ड्राइविंग टेस्ट नहीं हो पाए हैं लेकिन अब ड्राइविंग टेस्ट के लिए मिलने वाले टोकन की संख्या को बढ़ाया जाना चाहिए था ताकि कार्यालय के बाहर इतनी अधिक संख्या में आने के बाद लोगों को खाली हाथ वापस नहीं लौटना पड़ता।

इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की भी सरेआम धज्जियां उड़ती हुई दिखाई दी। मणिकर्ण घाट के रविंद्र पाल, विजय कुमार, भुंतर के राकेश कुमार ने बताया कि एक तो उन्हें इतनी दूर से एसडीएम कार्यालय पहुंचने में काफी वक्त लग गया। जब वे 10:00 बजे एसडीएम कार्यालय के बाहर पहुंचे तो यहां लंबी कतार लगी हुई थी ।

रविंद्र का कहना है कि उसकी 6 महीने की निर्धारित अवधि भी समाप्त हो गई है और यह उनके ड्राइविंग टेस्ट की अंतिम तिथि थी लेकिन टोकन ना मिलने के चलते अब उन्हें फिर से लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन करना पड़ेगा, जिसके लिए फिर से 2000 से अधिक खर्च वहन करना होगा।

खबरें और भी हैं...