पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Parikshit Sood Became The First Youngest Climber To Reach The 6110 Meter High Yunam Mountain With A Group Of 9 People

15 साल के पर्वतारोही ने फतेह की युनम चोटी:6110 मीटर ऊंचे पर्वत पर पहुंचने वाला सबसे कम उम्र का पहला पर्वतारोही बना परीक्षित सूद, 9 लोगों का ग्रुप गया था

कुल्लू16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
युनम चोटी पर तिरंगा फहराते परीक्षित सूद। - Dainik Bhaskar
युनम चोटी पर तिरंगा फहराते परीक्षित सूद।

हिमाचल प्रदेश के पहाड़ों में पिछले कुछ वर्षों से ट्रैकिंग और हाइकिंग जैसी साहसिक गतिविधियां बड़ी लोकप्रिय हो रही हैं। युवा पर्वतारोहियों में ऊंचे पहाड़ों को नापने का जुनून देखने को मिल रहा है। इसी कड़ी में लाहौल स्पीति व लद्दाख की सीमा को जोड़ने वाली युनम चोटी को युवाओं के दल ने फतेह किया है।

जिला कुल्लू के वीरेंद्र राणा की अगुवाई में 9 पर्वतारोहियों के एक दल ने चोटी पर सफलतापूर्वक चढ़ाई की। समुद्र तट से 6110 मीटर की ऊंचाई पर स्थित युनम चोटी की यात्रा कठिन ट्रैक में से एक मानी जाती है। बाकायदा भारतीय पर्वतारोहण संघ की अनुमति से यह दल 12 जुलाई को मनाली से रवाना हुआ था।

16 जुलाई को प्रातः 10:30 बजे इन्होंने युनम चोटी पर पहुंचकर तिरंगा फहराया। इस अभियान में खास बात यह रही कि इस दल में सबसे कम उम्र के पर्वतारोही 15 वर्षीय परीक्षित सूद भी शामिल रहे, जो युनम चोटी को फतेह करने वाले प्रथम युवा पर्वतारोही बन गए हैं। सोशल मीडिया पर परीक्षित सूद को बधाई देने वालों का तांता लग गया है।

युनम चोटी पर पर्वतरोहियों का दल।
युनम चोटी पर पर्वतरोहियों का दल।

वहीं यह उपलब्धि हासिल करके 10 कक्षा के छात्र परीक्षित सूद ने तीर्थन घाटी के साथ-साथ बिड़ला पब्लिक स्कूल कुल्लू का नाम भी रोशन किया है। उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी में मशहूर सनशाइन कॉटेज के मालिक पंकि सूद व सोनू सूद के पुत्र परीक्षित सूद पढ़ाई के साथ-साथ साहसिक खेलों में भी काफी रूचि रखते हैं।

पिता पंकि सूद ने बताया कि परीक्षित इससे पहले भी तीर्थन घाटी विश्व धरोहर ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में स्थित काया पीक 5150 मीटर पर 13 साल की उम्र में चढ़ाई कर चुका है। इसके अलावा यह स्कीइंग, पैराग्लाइडिंग, स्विमिंग, रैपलिंग जैसे खेलों में भी भाग लेता रहता है। वहीं परीक्षित सूद का कहना है कि कड़े अभ्यास और बुलंद हौसलों से कुछ भी हासिल किया जा सकता है।

युनम चोटी को फतेह करने से पूर्व तीर्थन घाटी में ट्रेकिंग का पूर्वाभ्यास भी किया था। जिसमें हफ्तों तक रोजाना घर से पैदल 15 किलोग्राम वजन पीठ पर लादकर देवकंडा की पहाड़ी पर अपडाउन करता था। अगला लक्ष्य 7000 मीटर ऊंचे पर्वत को फतेह करना रहेगा। परीक्षित सूद ने अपने माता-पिता व गुरुजनों को सफलता का श्रेय दिया।

जिला कुल्लू के युवा पर्वतारोही वीरेंद्र राणा के नेतृत्व में चोटी फतेह करने वालों में युवा पर्वतारोही दलीप पठानिया 37, योगेश पांडे 42, राजेश राणा 36, विशाल ठाकुर 33, रिजवान खान 32, गगन शर्मा 37, संदीप चौधरी 36, और सबसे कम उम्र के परीक्षित सूत्र 15 वर्ष शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...