• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • The first helipad of the district to be built in Dhalwadi, PWD has put up tender, will spend 30 lakh rupees, land labeling and retaining wall will start soon

इंफ्रास्ट्रक्चर / धलवाड़ी में बनेगा जिले का पहला हेलीपैड, पीडब्ल्यूडी ने लगाए टेंडर, 30 लाख रुपए होंगे खर्च, जल्द शुरू हो जाएगा लैंड लेबलिंग व रिटेनिंग वाल का काम

The first helipad of the district to be built in Dhalwadi, PWD has put up tender, will spend 30 lakh rupees, land labeling and retaining wall will start soon
X
The first helipad of the district to be built in Dhalwadi, PWD has put up tender, will spend 30 lakh rupees, land labeling and retaining wall will start soon

  • इससे राज्य में धार्मिक पर्यटन को प्रमोट करने में मदद मिलेगी, हेलीकॉप्टर से वीआईपी की आमद भी बढ़ेगी

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 08:29 AM IST

ऊना. (विजय शर्मा) ऊना जिला के धलवाड़ी में हेलीपैड बनाया जाएगा। इसके लिए पीडब्ल्यूडी ने टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी है। संबंधित कंपनी को वर्क अवार्ड होने के बाद ही हेलीपैड की जमीन को समतल करने का काम शुरू होगा। इसके अतिरिक्त चारों तरफ रिटेनिंग वाल भी लगाई जाएगी। पहले चरण में लगभग 30 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे।

इसके बाद हेलीपैड की साइट पर चारों तरफ से फैंसिंग की जाएगी। धलवाड़ी में बनने वाला यह जिला का पहला हेलीपैड होगा। इस जगह से उत्तरी भारत की प्रसिद्ध शक्तिपीठ चिंतपूर्णी भी नजदीक ही पड़ती है। हेलीपैड बनने से आने वाले समय में हेली टैक्सी सर्विस शुरू होने का मार्ग प्रशस्त होगा, जिससे बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा होगी। साथ ही धार्मिक पर्यटन को प्रमोट करने में मदद मिलेगी। 
  उल्लेखनीय है कि प्रशासन ने धलवाड़ी में हेलीपैड निर्माण के लिए करीब तीन हजार वर्ग मीटर जमीन चिन्हित की है। जिसमें 75 मीटर लंबा और 40 मीटर चौड़ा हेलीपैड बनाया जाएगा। इसके अलावा एक रूम और टायलेट की सुविधा रहेगी। लगभग सात माह पहले पीडब्ल्यूडी ने हेलीपैड की ड्राइंग व एस्टीमेट तैयार करके पर्यटन विभाग को भेजा था।

वहां से अप्रूवल मिलने पर पीडब्ल्यूडी ने टेंडर लगाए हैं। लगभग दो साल पहले विधायक बलवीर चौधरी ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से चिंतपूर्णी मंदिर के आसपास हेलीपैड बनाने की मांग रखी थी। जिस पर मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को चिंतपूर्णी के आसपास हेलीपैड निर्माण के लिए साइट चिन्हित करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद हेलीपैड के लिए साइट की तलाश शुरू हुई और प्रशासनिक अधिकारियों ने धलवाड़ी को सूटेबल माना।

क्योंकि इस जगह से चिंतपूर्णी मंदिर लगभग ढाई किलोमीटर दूर पड़ता है। जिससे धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। फिलहाल बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं के लिए अंब-अंदौरा तक ट्रेन की सुविधा है। हालांकि इससे आगे कुनेरन में चिंतपूर्णी मार्ग स्टेशन भी है। लेकिन इस रास्ते चिंतपूर्णी के लिए जंगली एरिया में सड़क का लिंक जुड़ना शेष है।

पुलिस ग्राउंड में लैंडिंग

मौजूदा समय में जिला में एक भी हेलीपैड नहीं है। अगर किसी वीवीआईपीज ने यहां हेलीकॉप्टर से आना हो तो, उसकी लैंडिंग झलेड़ा के पुलिस लाइन ग्राउंड में करवानी पड़ती है। जबकि शक्तिपीठ चिंतपूर्णी के दर्शनाें के लिए आने वाले वीवीआईपीज के हेलीकॉप्टर को गोंदपुर बनेहड़ा या बेहड जसवां स्कूल के ग्राउंड में लैंड करवाना पड़ता है। चुनावों के दौरान भी वीवीआईपीज के हेलीकॉप्टर पुलिस लाइन ग्राउंड या स्कूल ग्राउंड में उतारने पड़ते हैं। धलवाड़ी में हेलीपैड बनने पर,  वीवीआईपीज के लिए चिंतपूर्णी मंदिर आना आसान हो जाएगा।

  • इस हेलीपैड की ड्राइंग और एस्टीमेट अप्रूव हो चुका है। अब टेंडर प्रक्रिया शुरू की है। जैसे ही वर्क अवार्ड होगा, उसके बाद लैंड लेबलिंग और रिटेनिंग वाल लगाने का काम शुरू किया जाएगा। एचएल शर्मा, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी भरवाईं डिविजन

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना