• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Unseasonal rains and hailstorms wreaked havoc on Rabi crop, farmers lost Rs 12.41 crore, worrying about family upbringing.

रबी की फसल पर आफत / बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से गेहूं-जौ की खेती पर असर, किसानों काे 12.41 करोड़ के नुकसान का दावा

जिला कृषि अधिकारी डाॅ. पवन कुमार ने बताया कि रबी की फसल को जिला में 12 करोड़ 41 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसानों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि जिला में हुए नुकसान का आंकड़ा एकत्रित कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी। जिला कृषि अधिकारी डाॅ. पवन कुमार ने बताया कि रबी की फसल को जिला में 12 करोड़ 41 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसानों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि जिला में हुए नुकसान का आंकड़ा एकत्रित कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी।
X
जिला कृषि अधिकारी डाॅ. पवन कुमार ने बताया कि रबी की फसल को जिला में 12 करोड़ 41 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसानों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि जिला में हुए नुकसान का आंकड़ा एकत्रित कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी।जिला कृषि अधिकारी डाॅ. पवन कुमार ने बताया कि रबी की फसल को जिला में 12 करोड़ 41 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसानों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि जिला में हुए नुकसान का आंकड़ा एकत्रित कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी।

  • किसानों का कहना है कि अभी तक किसानों काे कहीं से भी कोई आस नहीं दिख रही है
  • उन किसानों को ही मुआवजा मिलेगा जिन्होंने अपनी फसलों का बीमा करवाया हुआ है

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 02:29 PM IST

नाहन. रबी की फसल इस बार किसानों के लिए आफत लेकर आई है। किसानों को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है, जिससे किसान परेशान हैं कि नुकसान की भरपाई कैसे की जाएगी। किसानों का कहना है कि अभी तक किसानों काे कहीं से भी कोई आस नहीं दिख रही है। बताया जा रहा है कि उन किसानों को ही मुआवजा मिलेगा, जिन्होंने अपनी फसलों का बीमा करवाया हुआ है, इसलिए अब किसानों को अपने परिवार का पालन पोषण करने की चिंता सता रही है।

कृषि विभाग के विशेषज्ञों का कहना है कि असमय बारिश और ओलावृष्टि ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है। किसानों का कहना है कि असमय बारिश होने से टमाटर के पौधे गिर गए, मटर और फलियों में बीमारी लग गई, लहसुन में भी बीमारी लगने के कारण खराब हो गई। जबकि गेहूं और जौ की फसलें भी तेज बारिश व ओलावृष्टि से टूट गई थीं। तेज हवाओं के कारण भी रबी की फसलों को काफी हानि हुई है।

कृषि विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिला में रबी की फसलों को 12 करोड़ 41 रुपए का नुकसान हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार गेहूं, आलू, जौ, लहसुन के अलावा सब्जियों को नुकसान पहुंचा है। कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार यह नुकसान का आंकड़ा 17 मई तक का है।

जानकारी के अनुसार जिला में पहले किसानों की 30 से 40 फीसदी लहसुन की फसल बीमारी की चपेट में आने से नष्ट हो गई थी। इसके बाद आलू की इस फसल को बीमारी ने अपनी गिरफ्त में ले लिया था। आलू की फसल खराब होने के कारण कई किसानों ने खेतों में हल लगाने का मन बना लिया है। किसानों ने करीब हजारों क्विंटल बीज अपने खेतों में लगाया था।

किसानों ने बीज का आलू 3100 से 4000 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीदा था। जिला के किसानों की 60 फीसदी आर्थिकी इन दोनों फसलों पर निर्भर रहती है। महंगा बीज खरीदने के कारण किसान भारी कर्ज तले दबे हुए हैं। अब उन्हें कर्ज चुकाने का डर सता रहा है।

जिला कृषि अधिकारी डाॅ. पवन कुमार ने बताया कि रबी की फसल को जिला में 12 करोड़ 41 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। असमय बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसानों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि जिला में हुए नुकसान का आंकड़ा एकत्रित कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना