पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहत की सांस ली:ज्वालामुखी- 708 गांवों में 1600 हुए कोरोना, संक्रमित, 70 की हुई मौत, रिकवरी रेट ज्यादा

ज्वालामुखी19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उपमंडल में डेढ़ लाख की आबादी पर मात्र दो प्राईवेट एंबुलेंस सेवाऐं दे रही हैं। कपिल शर्मा। ज्वालामुखी। विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां ज्वाला की नगरी में कोरोना काल में संक्रमित मरीजो की रिकवरी रेट सबसे ज्यादा आंकी गई जिससे इस क्षेत्र की जनता ने राहत की सांस ली है।

स्वास्थय खंड ज्वालामुखी में कोरोना संक्रमितों की संख्या जहां डेढ हजार पार कर गई वहीं रिकवरी रेट भी सबसे ज्यादा आंका गया है। संक्रमण से ज्यादा मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। ज्वालामुखी स्वास्थय खंड की बात करें तो 1 लाख 46 हजार 102 की आबादी बाले इस क्षेत्र में 708 गांवों के लोगों के लिए स्वास्थय सुविधाऐं नाकाफी हैं मात्र दो प्राईवेट एंबुलेंस इस क्षेत्र में दौड रही है। स्वास्थय विभाग के आंकड़ों पर नजर दौडाई जाए तो जनवरी 2021 से मई तक 1600 से ज्यादा लोग कोरोना पाजिटिव आऐं हैं। और मार्च से मई तक सरकारी आंक ड़ों के अनुसार 70 मौते कोरोना संक्रमण के कारण हुई हैं। 1530 लोग रिकवर भी हुई हैं जो कि सबसे ज्यादा रिकवरी रेट है।

स्वास्थ्य से लापरवाही न करें, कोरोना नियमों का पालन जरूर करें:डाॅ. पवन

वरिष्ठ चिकित्सक ज्वालामुखी अस्पताल डा. पवन शर्मा ने बताया कि ज्वालामुखी क्षेत्र के जो लोग ईलाज के लिए उनके पास पंहुचे उन्हे उचित परामर्श व उपचार दिया गया जिसके बाद वह संक्रमण से बच गए और स्वस्थ हैं। कई मरीज ऐसे भी पंहुचे जिन्होने पहले डाक्टरी सलाह नही ली और संक्रमण बढ जाने पर अस्पताल पंहुचे वह भी ज्यादा संख्या में उचित परामर्श के बाद ठीक हुए। मरीजों को उचित परामर्श के साथ कोविड नियमों को पालन करने की सलाह भी दी गई। ज्वालामुखी उपमंडल में ऐसे मामले भी सामने आए जिनमें कोरोना संक्रमित मरिजों ने पहले अपने संक्रमण को छुपाए रखा और प्राईवेट दवा विक्रेताओं, नीम हकीमों से दवाई लेते रहे बाद में संक्रमण ज्यादा फैल जाने पर सरकारी अस्पताल की ओर किया रुख फिर हुए रिकवर।

खबरें और भी हैं...