हिमाचल में फर्जी सर्टिफिकेट का एक और मामला:हमीरपुर में फ्रैंकफिन ब्रांच पर जाली प्रमाणपत्र जारी करने के आरोप, एसपी ने दिए जांच के आदेश

हमीरपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्जी सर्टिफिकेट की शिकायत लेकर एसपी के पास पहुंचे स्टूडेंट्स। - Dainik Bhaskar
फर्जी सर्टिफिकेट की शिकायत लेकर एसपी के पास पहुंचे स्टूडेंट्स।

हिमाचल में लगातार जाली सर्टिफिकेट जारी करने के मामले सामने आ रहे हैं। मानव भारती यूनिवर्सिटी और मगध यूनिवर्सिटी बिहार से जारी हुए फर्जी सर्टिफिकेट के बाद अब हमीरपुर में एयर होस्टेस ट्रेनिंग सेंटर पर जाली सर्टिफिकेट जारी करने के आरोप लगे हैं। मामले में विद्यार्थियों ने एसपी हमीरपुर को इस संबंध में शिकायत पत्र सौंपा है। वहीं इस मामले में एसपी हमीरपुर डॉ. आकृति शर्मा ने जांच का जिम्मा एएसपी विजय सकलानी को सौंपा दिया है।

विद्यार्थियों ने संस्थान के एमडी पर आरोप लगाए है कि उनसे पूरी फीस वसूल कर ली गई, लेकिन उन्हें असली सर्टिफिकेट जारी नहीं किए जा रहे और न ही उनकी प्लेसमेंट शर्तों के अनुसार की जा रही है। इस मामले में फ्रैंकफिन ब्रांच हमीरपुर के एमडी अनमोल हांडा ने आरोपों को सिरे से खारिज किया। एमडी का कहना है कि प्रोविजनल सर्टिफिकेट विद्यार्थियों को जारी किए गए। कोर्स पूरा होने के बाद संस्थान की तरफ से सर्टिफिकेट जारी किए जाते हैं, जोकि संस्थान के नोएडा स्थित ऑफिस से जारी होते हैं।

एसपी हमीरपुर को मामले की जानकारी देते हुए।
एसपी हमीरपुर को मामले की जानकारी देते हुए।

एमडी की और से दिया गया डिप्लोमा फर्जी
छात्र अनुराग का कहना है कि संस्थान की एमडी अनमोल हांडा की तरफ से दिए गए डिप्लोमा फर्जी है। उनका पैसा जितना भी खर्च हुआ है वह उन्हें वापस किया जाए। वहीं छात्रा रूचि ने कहा कि संस्थान के मेन ऑफिस की तरफ से लगातार उन्हें मेल आ रहे हैं कि उनका कोर्स पूरा नहीं हुआ है। अनमोल हांडा के खिलाफ उन्होंने एसपी को शिकायत सौंपी है। साल 2017-18 में उन्होंने कोर्स किया था। दो लाख रुपए खर्च किए। छात्रा का कहना है कि उन्हें सर्टिफिकेट मिला ही नहीं है। जिन विद्यार्थियों को सर्टिफिकेट दिए हैं। उन्हें लगातार हेड ऑफिस की तरफ कोर्स पूरा न होने की बात कही जा रही है।

छात्रों को दिए प्रोविजनल सर्टिफिकेट
फ्रैंकफिन ब्रांच हमीरपुर के एमडी अनमोल हांडा का कहना है कि इन छात्रों को प्रोविजनल सर्टिफिकेट दिए हैं ताकि इनको अच्छी कंपनी में जॉब मिल पाए। डिप्लोमा और डिग्री कंपनी की तरफ से जारी किए जाते है, इसके लिए विद्यार्थियों को कोर्स पूरा करना होगा। कंपनी की तरफ से कहा जा रहा है कि विद्यार्थी कुछ घंटों की क्लास अटेंड कर लें, उसके बाद उन्हें सर्टिफिकेट जारी कर दिए जाएंगे।

मामले की जांच की जाएगी
एसपी हमीरपुर आकृति शर्मा की मामले मे कुछ विद्यार्थियों की तरफ से फर्जी सर्टिफिकेट और डिप्लोमा की शिकायत दी गई है। शिकायत मिलने के बाद मामले की जांच का जिम्मा एएसपी हमीरपुर को सौंपा गया है। मामले की निष्पक्षता से जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं...