लाहौल स्पीति में 5 जगह एवलॉन्च:माइनस 15 डिग्री तापमान में 22 घंटे बाद खुले रास्ते, पांगी से कुल्लू आ रहे 60 लोगों को सुरक्षित निकाला

कुल्लू5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एवलॉन्च के बाद रास्ता साफ कराने के लिए पहुंची पुलिस टीम। - Dainik Bhaskar
एवलॉन्च के बाद रास्ता साफ कराने के लिए पहुंची पुलिस टीम।

हिमाचल प्रदेश जनजातीय जिला लाहौल स्पीति में नेशनल हाईवे-3 पर एवलॉन्च हुआ है। घाटी के रोपसांग, मूलिंग नाला सहित 5 स्थानों पर रास्ते बंद होने से पांगी से कुल्लू आ रहे 60 यात्री लाहौल घाटी में फंस गए हैं। घाटी में फंसे सभी यात्रियों को देर रात 11:00 बजे तक रेस्क्यू करके जिला मुख्यालय केलांग पहुंचाया गया, जहां उन्हें नए सर्किट हाउस में ठहराया गया है। यहां उनकी खाने-पीने की व्यवस्था आपदा प्रबंधन और प्रशासन की तरफ से की गई है।

बुधवार सायं 3 बजे के करीब एवलॉन्च के बाद से बंद रास्तों को खोला जा सका। अब जो यात्री पुंसे हुए थे, उनको भी रवाना किया जाएगा। रोड को करीब 22 घंटे बाद खोला जा सका है। मिली जानकारी के अनुसार, जिला मुख्यालय केलांग से करीब 27 किलोमीटर दूर रोपसांग नाला और 12 किलोमीटर दूर मलिंग नाला में एवलॉन्च हुआ था।

एवलॉन्च के चलते रास्ता बंद होने से फंसे लोग।
एवलॉन्च के चलते रास्ता बंद होने से फंसे लोग।

इसके अलावा तीन और स्थानों पर एवलॉन्च हुआ है। जिस कारण रास्ता बंद हो गया और पांगी से 5 वाहनों में सवार होकर कुल्लू आ रहे 60 लोग, जिसमें 35 पुरुष 19 महिलाएं और 6 बच्चे शामिल थे, फंस गए। पुलिस और बीआरओ की रेस्क्यू टीम उन्हें निकालने के लिए पहुंची। उन्हें जिला मुख्यालय केलांग पहुंचाया गया है। हालांकि, रोपसांग नाला के पास का रास्त बीआरओ जवानों ने देर रात को ही साफ कर दिया था, लेकिन आगे के रास्ते अभी साफ नहीं हो पाए हैं। बुधवार सुबह मार्ग को बहाल करने का कार्य आरंभ कर दिया गया है और माइनस 15 डिग्री तापमान में भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

एवलांच के कारण रास्ता बंद होने से फंसे लोग अलाव सेकते हुए।
एवलांच के कारण रास्ता बंद होने से फंसे लोग अलाव सेकते हुए।

एसपी लाहौल स्पीति मानव वर्मा ने बताया कि मंगलवार देररात बीआरओ ने रोपसांग नाले के पास रास्ता मलबा हटाकर क्लीयर कर दिया है। बुधवार सुबह आगे का रास्ता साफ कारने का कार्य बीआरओ ने फिर से शुरू कर दिया है। देररात तक चले रेस्क्यू अभियान में बीआरओ और पुलिस जवानों ने -15 डिग्री तापमान में वाहनों में फंसे लोगों को निकालकर सुरक्षित जिला मुख्यालय केलांग पहुंचाया, जहां उनके ठहरने की व्यवस्था प्रशासन की तरफ से की गई है। सभी लोग सुरक्षित हैं और मार्ग बहाल होने के बाद सभी यात्रियों को मनाली की तरफ भेजा जाएगा।

एवलॉन्च के कारण फंसे लोग बर्फबारी के बीच एन्जॉय करते हुए।
एवलॉन्च के कारण फंसे लोग बर्फबारी के बीच एन्जॉय करते हुए।

डीजीआरई ने जारी किया एवलॉन्च बुलेटिन
उधर, डिफेंस जीईओ इंनफॉरमेटिक रिसर्च एस्टेब्लिशमेंट (डीजीआरई) ने भी एवलॉन्च बुलेटिन जारी करते हुए कुल्लू जिला के साथ-साथ लाहौल स्पीति जिला के कई क्षेत्रों में एवलॉन्च होने की चेतावनी जारी की है। डीजीआरई ने मनाली-लेह मार्ग के साथ साथ मनाली -ब्यास कुंड, उदयपुर-किलाड़-चम्बा, स्पीति-किन्नौर-शिमला और बंजार के जलोड़ीपास मार्ग में जगह-जगह एवलॉन्च होने की चेतावनी जारी की है।

यात्रियों के लिए एडवाइजरी जारी
लाहौल स्पीति प्रशासन ने कुल्लू और लाहौल के बीच यात्रा करने वाले लोगों के लिए एडवाइजरी जारी की है। पुलिस अधीक्षक लाहौल स्पीति मानव वर्मा ने बताया कि लाहौल स्पीति और पांगी के स्थानीय निवासियों के लिए, वाहनों के लिए और जंजीरों के साथ टाटा सूमो के लिए सोलंग से सिसू तक सड़क खुली है। सड़क एकतरफा है और आसमान में बादल छाए हुए हैं। मुलिंग की ओर जाने वाला रास्ता फिलहाल अवरुद्ध है।

22 घंटे बाद रास्ता साफ

एवलॉन्च के बाद से बंद रास्तों को खोलने का काम कल से ही जारी था। करीब 22 घंटे बाद बुधवार सायं 3 बजे के आसपास नेशनल हाईवे-3 को खोला गया। इसके बाद फंसे वाहनों को निकालने का काम शुरू किया गया। लगभग एक दिन तक रास्ता ब्लॉक रहने से आसपास के लोगों के अलावा विभिन्न स्थानों पर जाने के लिए निकले लोगों को भी भारी समस्या का सामना करना पड़ा।