फिर हिली हिमाचल की धरती:4.3 तीव्रता के भूकंप से सहमे लोग घरों से निकले, चंबा के साथ कुल्लू-मनाली, लाहौल-स्पीति में भी असर

कुल्लू5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हिमाचल की धरती एक बार फिर भूकंप से हिल गई है। बीती रात 10:46 बजे कुल्लू, लाहुल-स्पीति जिला सहित चंबा में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र चंबा रहा है। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्कूल पर 4.3 मापी गई है। 10 दिनों में भूकंप का यह 5 झटकों में से सबसे तीव्र था। लगातार आ रहे भूकंप से लाेग भयभीत हो गए हैं। हल्के से झटकों के बाद भी वे घरों से बाहर निकल आते हैं।

क्षेत्र में मंगलवार रात को 10:46 बजे बड़ी तीव्रता के साथ धरती हिलने लगी। लोग घरों में सो रहे थे। मौसम भी खराब था। भूकंप का अहसास हुआ तो वे सब कुछ छोड़ कर बाहर निकल आए। 26 दिसंबर से यहां लगातार भूकंप के झटके महसूस हो रहे हैं। यह सबसे तेज झटका रहा। इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.3 रही। चंबा जिला में इस दौरान काफी हलचल मची। कई इलाकों में लोग घरों से बाहर निकले। जबकि इसका असर कुल्लू, मनाली सहित लाहौल में भी देखने को मिला। भूकंप से कोई जान माल के नुकसान जानकारी नहीं है, लेकिन बार-बार आ रहे भूकंप से लोगों में डर पैदा हो गया है।

2-3 जनवरी की रात को भी भूकंप के झटके आए थे।
2-3 जनवरी की रात को भी भूकंप के झटके आए थे।

रात को भूकंप के झटके लाहुल और कुल्लू-मनाली में भी महसूस किए गए हैं। इससे पहले हिमाचल प्रदेश के मंडी, कुल्लू, किन्नौर और लाहौल स्पीति जिला में भी भूकंप आ चुका है। इन जिलों में भी अलग-अलग समय पर भूकंप का केंद्र बिंदु रहा है।

जनजातीय जिला किन्नौर में 2-3 जनवरी की रात को भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इनकी गहराई 5 किलोमीटर तक थी, जबकि रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 2.8 मापी गई है। लाहौल में भी 2-3 जनवरी की रात 2:22 पर भूकंप का झटका लगा था।

कुल्लू जिला में 28 दिसंबर को भूकंप के झटके महसूस किए गए थे, जिसकी गहराई 10 किलोमीटर थी और रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 2. 3 मापी गई थी। इससे पहले मंडी जिला में 26 दिसंबर को 5 किलोमीटर की गहराई वाला 2.8 की तीव्रता वाला भूकंप का झटका आया था।

खबरें और भी हैं...