स्की-शू पहनकर हिमाचली लोक नृत्य का VIDEO:लाहौल स्पीति में 9वीं राष्ट्रीय आइस हॉकी चैंपियनशिप का रोमांच जारी, माइनस 10 डिग्री तापमान में गजब का जोश

कुल्लू8 महीने पहले
काजा में आइस रिंक पर युवतियां स्केटिंग सूट पहनकर परंपरागत स्थानीय नृत्य 'पास' करती हुईं। - Dainik Bhaskar
काजा में आइस रिंक पर युवतियां स्केटिंग सूट पहनकर परंपरागत स्थानीय नृत्य 'पास' करती हुईं।

हिमाचल के जनजातीय जिला लाहौल स्पीति के उपमंडल मुख्यालय काजा में 9वीं राष्ट्रीय महिला आइस हॉकी चैंपियनशिप चल रही है। इस दौरान माइनस 10 डिग्री तापमान में भी खिलाड़ी गजब के जोश के साथ मैदान में हैं। आइस रिंक पर युवतियां स्केटिंग शूज पहनकर परंपरागत स्थानीय नृत्य कर रही हैं। सोमवार को चैंपियनशिप के दूसरे दिन सबसे पहले दिल्ली और आईटीबीपी का मैच हुआ। दिनभर में तीन मैच होंगे। इसके साथ ही यहां स्की शू में हिमाचल के लोक नृत्य का लुत्फ भी दर्शक उठाएंगे।

परंपरागत डांस 'पास' नए रूप में
काजा में शुरू हुई आइस हॉकी चैंपियनशिप में जितना रोमांच बर्फ पर हॉकी थाम कर उतरना है, उतना ही काजा उपमंडल की लड़कियों का बर्फ पर किया जाने वाला स्थानीय नृत्य 'पास' है। इस नृत्य को करने के लिए पहले चमड़े के जूते और परंपरागत वस्त्र चोलू-पजामा और आभूषण पहने जाते थे। अब इस डांस को यहां की छात्राओं ने परंपरागत वस्त्र के साथ स्केटिंग शूज पहनकर नया रूप दिया है।

10 PHOTOS, देखिए बर्फ पर हॉकी खेलती लड़कियां:माइनस 19 डिग्री में तैयारी करती हैं, तब बनती हैं स्की शू पहनकर देश के लिए खेलने लायक

आइस पर मुश्किल होता है डांस करना
बर्फ के बीच में आइस स्केटिंग शूज पहनकर डांस करना बहुत ही कठिन होता है। छात्राओं ने आइस हॉकी का प्रशिक्षण 2 सालों से लिया है, जिसके चलते इन छात्राओं को इस परंपरागत लोक नृत्य को करने में आसानी हो रही है। छात्राएं आपसी तालमेल बैठा कर आइस स्केटिंग शूज के सहारे इस नृत्य को पारंगत तरीके से कर रही है। हालांकि छात्राएं आइस हॉकी टीम का हिस्सा नहीं हैं, लेकिन इन छात्राओं ने पिछले 2 सालों से इस नृत्य को आइस हॉकी रिंक में करके यहां के लोक नृत्य को नया रूप देने के साथ-साथ इस परंपरागत नृत्य के संरक्षण के क्षेत्र में भी काम किया है।

आज तीन मुकाबले
9वीं राष्ट्रीय महिला आइस हॉकी चैंपियनशिप में सोमवार को तीन मुकाबले होंगे। सबसे पहले दिल्ली और आईटीबीपी की टीमें मैदान में उतरीं। दूसरा मैच लद्दाख और तेलंगाना में होगा। अंतिम मैच में हिमाचल की टीम चंडीगढ़ के साथ भिड़ेगी। माइनस 10 डिग्री तापमान में हो रहे इन मैचों में लड़कियां स्केटिंग पहन हॉकी थामे मैदान में जौहर दिखा रही हैं। स्थानीय लोग भी पहली बार इस तरह का मैच देख रहे हैं, जिससे उनमें भी इसको लेकर रोमांच है।

यहां की टीमें ले रही हैं भाग
राष्ट्रीय स्तर की महिला आइस हॉकी चैंपियनशिप में विभिन्न क्षेत्रों की टीमें हिस्सा ले रही हैं। यहां पहुंची टीमों में हिमाचल प्रदेश, तेलगांना, चंडीगढ़, दिल्ली, आईटीबीपी और लद्दाख की टीमें शामिल हैं। इन टीमों में 20 जनवरी तक मुकाबले चलेंगे।

प्रतियोगिता के साथ ये भी
लाहौल स्पीति के काजा में पहली बार राष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है। शुभारंभ के मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए गए। इसमें डांस ऑन आइस हॉकी, रावमापा काजा की छात्राओं द्वारा लोक नृत्य कार्यक्रम के साथ आइस हॉकी मैच, एक आइस हॉकी मैच पुरुष और महिला टीमों के बीच भी खेला जाएगा। जबकि इसके अलावा आर्मी बैंड की ओर से विशेष प्रस्तुति पेश की गई।

सीएम बोले- शीतकालीन खेलों को बढ़ावा
काजा में महिला आइस हॉकी चैंपियनशिप का आगाज CM जय राम ठाकुर ने किया। उन्होंने कहा कि सरकार शीतकालीन खेलों को भी बढ़ावा देने के क्षेत्र में काम कर रही है। आइस हॉकी शीत कालीन प्रमुख खेलों में से एक है। इस तरह के खेलों से विंटर टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा।

खबरें और भी हैं...