एचपीयू कैंपस में बढ़ रहा तनाव:नाे एंट्री के बाद एनएसयूआई के 3 छात्र निष्कासित, आईकार्ड के बिना एंट्री न होने पर माकपा के बाद अब कांग्रेस भी छात्राें के समर्थन में

शिमला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीएसडब्ल्यू बोले-आउट साइडराें काे कैंपस में किसी भी सूरत में प्रवेश की अनुमति नहीं देंगे। - Dainik Bhaskar
डीएसडब्ल्यू बोले-आउट साइडराें काे कैंपस में किसी भी सूरत में प्रवेश की अनुमति नहीं देंगे।

हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एचपीयू में बिना आईकार्ड के एंट्री बैन हाेने के बाद अब प्रशासन ने सख्ती करते हुए एनएसयूआई के तीन कार्यकर्ताओं काे कैंपस से निष्कासित कर दिया है। छात्र नेता वीनू मेहता, यासिन भट्ट और रजत भारद्वाज काे कैंपस आने पर बैन लगाया गया है। ये छात्र कैंपस में किसी भी तरह की गतिविधियाें में भाग नहीं ले पाएंगे। कक्षाओं काे लगाने के लिए भी फिलहाल इन्हें अधिकृत नहीं किया है।

ऐसे में अब प्रशासन और छात्र संगठन नेताओं में विवाद बढ़ता ही जा रहा है। बीते 31 जुलाई काे छात्र संगठन एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हाे गई थी। एचपीयू में शिक्षक भर्ती और वीसी काे हटाने की मांग काे लेकर एनएसयूआई कार्यकर्ता पिछले कुछ दिनाें से कैंपस में भूख हड़ताल कर रहे थे।

एनएसयूआई कार्यकर्ता वीसी ऑफिस के बाहर पहुंचे और वीसी ऑफिस में घुसने का प्रयास करने लगे। इसी बीच पुलिस ने कार्यकर्ताओं काे राेकने का प्रयास किया, ऐसे में दाेनाें ओर से धक्कामुक्की शुरू हाे गई। काफी देर तक कैंपस में इस तरह का संघर्ष चलता रहा। काेविड दाैर के बाद पहली बार विवि कैंपस में छात्राें और पुलिस में इस तरह का संघर्ष हुआ है। इस पर अब ये कार्रवाई हुई है। ये कार्रवाई होने से कैंपस में तनाव बढ़ने लगा है।

डीएसडब्ल्यू ने की छात्र संगठनाें से शांति की अपील: एचपीयू के डीएसडब्ल्यू प्राे. नैन सिंह ने छात्र संगठनाें से शांति की अपील की है। उन्हाेंने जारी सर्कुलर में कहा कि इन दिनाें कैंपस में पीजी की परीक्षाएं चली हैं। ऐसे में बाहर से आने वाले छात्र भी परीक्षाएं देने के लिए आ रहे हैं। हिंसात्मक माहाैल हाेगा ताे नए छात्राें काे परेशानी का सामना करना पड़ेगा। उन्हाेंने कहा कि आउट साइडराें काे कैंपस में किसी भी सूरत में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके अलावा बिना आईकार्ड के किसी काे भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

इन छात्राें काे आई थी चाेटें : पुलिस और एनएसयूआई कार्यकर्ताओं में झड़प के दाैरान वीनू मेहता, अरविंद ठाकुर, चंद्र ठाकुर, तुषार, डैनी, मनाेज चाैहान और प्रवीण मिन्हास काे चाेटें आई थी। हालांकि, पुलिस ने किसी भी छात्र काे गिरफ्तार नहीं किया था।ऐसे में अब कैंपस खुलते ही विवि प्रशासन के खिलाफ छात्र संगठन मुखर हाेने लगे हैं। एसएफआई भी अब कैंपस में आंदाेलन की रणनीति अपना रही है। एडमिशन के इस दाैर छात्र राजनीति कैंपस में फिर सक्रिय हाे गई है।

कांग्रेस और माकपा ने वीसी पर किया हमला : कांग्रेस पार्टी और माकपा ने कैंपस में तनाव काे लेकर वीसी प्राे. सिकंदर कुमार काे जिम्मेदार ठहराया है। कांग्रेस पार्टी ने एचपीयू के वीसी पर छात्राें से भेदभाव करने का आराेप लगाया है। कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि छात्रों के साथ भेदभाव हाे रहा है। इससे विश्वविद्यालय के माहौल को तनावपूर्ण बनाया जा रहा है।

उन्होंने एनएसयूआई के तीन छात्र नेताओं को विश्वविद्यालय में प्रवेश पर रोक के फरमान की आलोचना करते हुए इन छात्रों की तुरंत बहाली करने को कहा है। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी) की जिला कमेटी ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में पिछले दिनों से चल रहे घटनाक्रम पर चिंता व्यक्त की है। माकपा के जिला सचिव संजय चौहान का कहना है कि जिस प्रकार से विवि के वीसी प्राे. सिकंदर कुमार और पूरा प्रशासन आरएसएस के दबाव में काम रहे हैं।

खबरें और भी हैं...