• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • 50% Booking Cancell At Hotels In Corona On Weekends, Shimla; 100% Booking Of Tourists From Gujarat Maharashtra Canceled

फिर संकट में होटल कारोबार:वीकेंड पर कोरोना की मार, शिमला के होटलों में 50% बुकिंग कैंसिल; गुजरात-महाराष्ट्र से पर्यटकों की 100% बुकिंग रद्द

शिमला2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमला का रिज मैदान, जहां वीकेंड पर सैलानियों की भीड़ रहती थी। रविवार को नाम मात्र के ही सैलानी दिखे।  - Dainik Bhaskar
शिमला का रिज मैदान, जहां वीकेंड पर सैलानियों की भीड़ रहती थी। रविवार को नाम मात्र के ही सैलानी दिखे। 

कोरोना का असर सीधे पर्यटन कारोबार पर पड़ा है। शिमला के होटलों में एडवांस बुकिंग भी कैंसिल हो रही है। महाराष्ट्र, गुजरात से आने वाले सैलानियों ने शिमला के होटलों में करवाई सभी बुकिंग कैंसिल कर दी हैं। यही नहीं इन दिनों गर्मियों में होटलों के लिए जो इनक्वायरी आती थीं वो भी आना कम हो गई है। वीकेंड पर आने वाले सैलानियों की संख्या भी घट गई है।

फरवरी माह की तुलना में मार्च माह में वीकेंड पर आने वाले सैलानियों की संख्या में पचास से साठ फीसदी तक कमी आ गई है। इससे होटल कारोबार प्रभावित होने लगा है और आने वाले समय में संकट के गहराने की आशंकाएं पैदा हो रही हैं। देश और प्रदेश में जैसे-जैसे कोरोना बढ़ने लगा है, वैसे-वैसे पर्यटन गतिविधियां भी सीमित होने लगी हैं।

इन दिनों महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, पंजाब, पश्चिमी बंगाल जैसे राज्यों में शिमला बड़ी संख्या में सैलानी आते थे। लेकिन कोरोना फैलने के कारण इनकी गतिविधियां कम हो गई हैं। महाराष्ट्र, गुजरात और पंजाब में कोरोना वायरस तेजी से फैलने के कारण कई पाबंदियां लग गई हैं।

इससे इन राज्यों से सैलानी शिमला नहीं आ रहे और ना बुकिंग कर रहे। वहीं पश्चिमी बंगाल में चुनाव से भी सैलानी अब कम आ रहे हैं और साथ में कोरोना के असर से भी लोगों ने अपनी गतिविधियां सीमित कर दी हैं।महाराष्ट्र, गुजरात से सैलानियों ने काफी संख्या में शिमला के होटलों में बुकिंग करवा रखी थीं, लेकिन अब इनको कैंसिल कर दिया है।

होटलियरों की मानें तो इन राज्यों से सारी बुकिंग कैंसिल हो गई हैं। पंजाब के सैलानी भी बुकिंग नहीं कर रहे। होटलों में वीकेंड पर होने वाली बुकिंग भी बुरी तरह प्रभावित हुई है। कई सैलानी कोरोना के खतरे के कारण भी शिमला आने का जोखिम नहीं लेना चाह रहे। इससे शिमला में सैलानियों की संख्या अभी से घटने लगी है।

हालात यह कि फरवरी माह में वीकेंड पर शिमला में 30 से 35 हजार सैलानी पहुंचे थे लेकिन मार्च माह में अब तक 10 से 12 हजार सैलानी ही आए हैं। जबकि आमतौर पर अब सैलानियों की संख्या लगातार बढ़ती है।होटलों में कामकाज कम होने से इसका असर रोजगार पर भी पड़ने की संभावना है।

एक साल पहले लॉकडाउन के कारण भी होटल बंद करने पड़े थे। होटलों में काम करने वाले सैकड़ों लोग बेरोजगार हो गए थे और उनको अपने घर जाना पड़ा था। अभी तक होटलों में सभी कामगार नहीं लौटे हैं। आगे अब जबकि कोरोना के कारण सैलानी नहीं आएंगे या नाममात्र के ही पहुंचेंगे तो होटलों को चलाना भी मुश्किल हो जाएगा। यही नहीं इसका असर पर्यटन से जुड़े अप्रत्यक्ष रोजगार पर भी दिखेगा।

टूरिस्ट सीजन भी होगा प्रभावित

कोरोना जिस रफ्तार से फैल रहा है उससे आगे शिमला में गर्मियों का पर्यटन सीजन भी प्रभावित होने के पूरे आसार बन गए हैं।अप्रैल से मई तक के समय शिमला में पर्यटन के लिए पीक माना जाता है और इस सीजन में आमतौर हर वर्ग का सैलानी शिमला पहुंचता है। मगर कोरोना के कारण अबकी बार गर्मियों का पर्यटन सीजन भी प्रभावित होने के आसार है। होटलियरों की मानें तो अप्रैल और मई माह के लिए सैलानियों की इनक्वायरी आना भी बंद हो गई हैं।

जिले में 11 और लोग कोरोना से संक्रमित

जिला में रविवार को कोरोना के 11 नए मरीज आए हैं। नए मरीजों में कुमारसैन से चार, धामी से दो जबकि संजौली, तारादेवी, मुंडाघाट, कोटखाई और सोलन से एक एक मरीज आया है। 10 मरीजों की रिपोर्ट अभी पेंडिंग है। रविवार को कुल 423 लोगों के सैंपल लिए गए थे जिसमें 11 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

अब कोरोना के मरीजों में बढ़ोतरी होने लगी है। बीते एक सप्ताह रोजाना 15 के करीब मरीज आ रहे है। सीएमओ शिमला डॉक्टर सुरेखा चोपड़ा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह घरों से बाहर जाते समय मास्क का प्रयोग करें, इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखें ताकि कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से खत्म किया जा सके।

कोरोना का असर सीधा पर्यटन कारोबार पर पड़ाः अश्वनी सूद, उपाध्यक्ष होटल एसो.
होटल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष अश्वनी सूद का कहना है कि कोरोना के फैलने का असर सीधा पर्यटन कारोबार पर पड़ने लगा है। वीकेंड और आम दिनों में आने वाले सैलानी भी अब बहुत कम आ रहे। यही नहीं महाराष्ट्र और गुजराज से सैलानियों की बुकिंग कैंसिल हो गई हैं।

अप्रैल और मई माह में शिमला आने के लिए सैलानियों की इन्क्वायरीज जो आती थीं वो भी अब नहीं आ रहीं। अगर यही स्थिति रही तो होटलियरों के लिए होटलों को चलाना मुश्किल हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...