ढली से मल्याणा तक सड़क से हटेगी गाड़ियां:APMC की बैठक में लिया निर्णय, पार्किंग वाली जगह शिफ्ट होगी भट्टाकुफर मंडी

शिमला5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
APMC द्वारा ढली में बुलाई गई बैठक में मौजूद अधिकारी और आढ़ती। - Dainik Bhaskar
APMC द्वारा ढली में बुलाई गई बैठक में मौजूद अधिकारी और आढ़ती।

कृषि उपज विपणन समिति (APMC) और जिला प्रशासन ने सेब सीजन की तैयारियां तेज कर दी है। सीजन के दौरान शिमला में परिवहन व्यवस्था सुचारु बनाए रखने के लिए APMC और प्रशासन के बीच हुई बैठक में ढली चौक से मल्याणा तक सड़क किनारे पार्क सभी गाड़ियों को हटाने का निर्णय लिया गया। इसके बाद आगामी अक्तूबर माह तक सड़क किनारे कोई भी गाड़ी खड़ी करने की इजाजत नहीं होगी।

ढली से मल्याणा के बीच जहां जगह होगी वहां पर केवल सेब ढुलाई वाले वाहन लगाए जा सकेंगे। स्थानीय लोगों को अपने निजी वाहन सड़क किनारे लगाने की इजाजत नहीं होगी। इस बाबत DSP ट्रैफिक को निर्देश दिए गए। साथ ही छराबड़ा में सेब से लदे वाहन रोककर एक एक कर हमेशा की तरह भट्टाकुफर मंडी भेजने का निर्णय लिया गया है। छराबड़ा से टोकन लेने के बाद ही गाड़ियों को भट्टाकुफर मंडी में प्रवेश दिया जाएगा।

APMC प्रबंधन बैठक के बाद भट्टाकुफर मंडी को लेकर निर्देश देते हुए।
APMC प्रबंधन बैठक के बाद भट्टाकुफर मंडी को लेकर निर्देश देते हुए।

भट्टाकुफर मंडी साथ लगती पार्किंग में होगी शिफ्ट

APMC सचिव देवराज कश्यप ने बताया कि जिस जगह भट्टाकुफर मंडी पर भू-स्खलन का खतरा बना हुआ है वहां उन ऑक्शन यार्ड को पूरी तरह बंद कर दिया जाएगा। उसकी बाड़बंदी करके वहां लोगों की आवाजाही रोकी जाएगी ताकि किसी तरह की अनहोनी न हो। उन्होंने बताया कि भट्टाकुफर मंडी के कुछ आढ़ती पराला शिफ्ट किए जाएंगे, जबकि कुछ आढ़ती भट्टाकुफर के साथ लगती पार्किंग को शिफ्ट किए जाएंगे। इस तरह भट्टाकुफर में भी सेब मंडी चलती रहेगी।

अनसेफ भट्टाकुफर मंडी में ट्रेड करते हुए आढ़ती व अन्य।
अनसेफ भट्टाकुफर मंडी में ट्रेड करते हुए आढ़ती व अन्य।

गौरतलब है कि भट्टाकुफर मंडी भू-स्खलन के कारण IIT मंडी ने अनसेफ घोषित कर रखी है। इसलिए यहां कारोबार कर पाना जान जोखिम में डालने जैसा है लेकिन अभी IIT मंडी की चेतावनी को नजरअंदाज करते हुए कुछ आढ़ती यहां कारोबार कर रहे हैं।

थर्मटी और शिलारू मंडी के काम में तेजी लाने के निर्देश

आज की बैठक में ऊपरी शिमला के थर्मटी और शिलारू में निर्माणाधीन मंडी के काम में तेजी लाने के भी निर्देश दिए गए। इस बैठक में APMC प्रबंधन के अलावा ADM कानून व्यवस्था, DSP और आढ़ती भी मौजूद रहें। बैठक के बाद APMC प्रबंधन ने भट्टाकुफर की अनसेफ मंडी का निरीक्षण किया।