पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Apps To Be Downlaid On The Pretext Of KYC Updates; Then Take The Phone's Access, After A Small Transaction, Millions Disappear From The Account

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

साइबर क्राइम:केवाईसी अपडेट के बहाने डाउनलाेड करवाते हैं एप; फिर लेते हैं फोन का एक्सेस, छोटी सी ट्रांजेक्शन के बाद खाते से लाखों गायब

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अपराधी अपने आप को बता रहे हैं टेलीकॉम कंपनी का अधिकारी, झांसे में न आएं आप
  • {एेसे गिराेह तीन माह में छह लाेगाें के खाते से उड़ा चुके 3.50 रुपए लाख से ज्यादा

साइबर क्रिमिनल्स इन दिनों ठगी के लिए नया तरीका अपना रहे हैं। क्रिमिनल्स केवाईसी अपडेट करने के लिए टेलीकाॅम कंपनियों के नाम से लोगों को कॉल कर उनसे एप डाउनलोड करवा रहे हैं। इन एप से लोगों के मोबाइल की दूर से ही एक्सस लेते हैं।

इसके बाद बाद ये शातिर लोगों से 10 से 15 रुपए पेमेंट करने को कहते हैं और इस दौरान वे एप से बैंक एकाउंट की डिटेल जैसी अहम जानकारी हासिल कर रहे हैं। इसके बाद लोगों के बैंक खातों से पैसे उड़ा रहे हैं। साइबर पुलिस को इस साल अब तक छह लोगों से शिकायतें मिली हैं जिनसे करीब 3.5 लाख की ठगी हुई है।

मोबाइल नंबर वैरिफिकेशन के लिए भी संपर्क
साइबर पुलिस की मानें तो साइबर क्रिमिनल्स अपने आपको टेलीकॉम कंपनी के कर्मचारी बताकर लोगों से फोन पर संपर्क कर रहे हैं। कई बार सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी संपर्क कर रहे हैं। ये शातिर लोगों को मोबाइल फोन की वैरिफिकेशन करवाने के लिए केवाईसी अपडेट करने की बात करते हैं। ऐसा न करने पर लोगों को उनके सिम बंद होने की भी चेतावनी दे रहे हैं।

एनीडेस्क या टीम वियूर न करें डाउनलोड
ठगी करने के लिए साइबर क्रिमिनल्स लोगों के मोबाइल फोन की एक्सेस दूर बैठे ले रहे हैं। इसके लिए लोगों से टीम वियूर और एनीडेस्क एप डाउनलोड करवाई जा रही हैं। ये ऐसी एप हैं जिनसे मोबाइल फोन पर होने वाली गतिविधियों को दूर से देखा जा सकता है। इस एप के माध्यम से शातिर केवाईसी अपडेट करने की बात कर रहे हैं और लोग भी इनके झांसे में में आ रहे हैं।

महज 10 या 15 रुपए जमा करवाकर जान रहे हैं खाते की डिटेल
एक अहम बात यह है कि ये शातिर लोगों को 10 से 15 रुपए की छोटी सी राशि फीस के तौर पर जमा करवाने के लिए कहते हैं। पेमेंट करने के लिए जब लोग यूजर नेम, पासवर्ड जमा करवाने के लिए किसी पेमेंट प्लेटमार्म पर डालते हैं तो क्रिमिनल्स डाउनलोड करवाई गई एप से इसकी डिटेल हासिल कर लेते हैं। इसके बाद ये क्रिमिनल्स इस डिटेल का इस्तेमाल कर संबंधित व्यक्ति के बैंक खातों से पैसे निकालने के लिए करते है। साइबर पुलिस को इस साल अब तक ऐसी छह शिकायतों मिल चुकी हैं जिनमें लोगों से करीब 3.5 लाख की ठगी इसी तरीके से की गई है।

साइबर पुलिस ने लोगों को किया आगाह
एडिशनल एसपी साइबर क्राइम नरवीर सिंह राठौर ने लोगों को आगाह किया है कि केवाईसी अपडेट करने के नाम पर किसी के झांसे में न आएं और न ही किसी के कहने पर एप डाउनलोड करवाएं। ऐसा करने से साइबर क्रिमिनल्स आपसे ठगी कर सकते हैं। वहीं अनजान लोगों से वीचैट न करें और न ही अपनी फोटो और वीडियो इस तरह शेयर करें क्योंकि इन वीडियो और फोटो को आसानी से बदल कर आपसे ब्लैकमेलिंग की जा सकती है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अजनबियों या उन लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट न स्वीकारें, जिन्हें आप व्यक्तिगत रूप से नहीं जानते है। किसी भी तरह के साइबर क्राइम होने पर इसकी तुरंत पुलिस में शिकायत करें।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें