• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • CBI Court Announces Verdict Discussion On Sentence To Be Held On May 11; Neelu Convicted, A Crime Committed In The Senses; Bytes Mark On The Doll's Body

गुड़िया रेप मर्डर केस:सीबीआई कोर्ट ने सुनाया फैसला -11 मई को होगी सजा पर चर्चा; नीलू दोषी करार, होश में किया अपराध; गुड़िया के शरीर पर बाइट्स मार्क उसी के

शिमला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काेटखाई के बहुचर्चित गुड़िया रेप और मर्डर केस में आराेपी अनिल कुमार उर्फ नीलू काे सीबीआई की कोर्ट ने दाेषी करार दिया है। अब 11 मई काे सजा पर चर्चा हाेगी। - Dainik Bhaskar
काेटखाई के बहुचर्चित गुड़िया रेप और मर्डर केस में आराेपी अनिल कुमार उर्फ नीलू काे सीबीआई की कोर्ट ने दाेषी करार दिया है। अब 11 मई काे सजा पर चर्चा हाेगी।

काेटखाई के बहुचर्चित गुड़िया रेप और मर्डर केस में आराेपी अनिल कुमार उर्फ नीलू काे सीबीआई की कोर्ट ने दाेषी करार दिया है। अब 11 मई काे सजा पर चर्चा हाेगी। काेर्ट ने पाया है कि गुड़िया के शरीर पर जाे बाइट्स मार्क थे, वे आराेपी के ही थे। आराेपी ने पूरे हाेश हवास में अपराध काे अंजाम दिया है। इसकी साइकाेलाॅजिकल रिपाेर्ट भी बिलकुल ठीक है।

बुधवार काे गुड़िया केस को लेकर आराेपी की सुनवाई हुई। यह सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग से की गई। जज ने 14 दलीलें सुनी, जिसमें 12 दलीलें आरोपी नीलू चिरानी के खिलाफ थी। इससे पहले 19 अप्रैल को एक घंटे की इस सुनवाई में जज ने सारी दलीलें सुनी थी। सुनवाई के दौरान नीलू के वकील ने कहा था की सीबीआई ने जांच सही तरीके से नहीं की है। आरोपी के सैंपल जल्दबाजी में लिए। ऐसा लग रहा था कि ये कहानी तैयार की गई है।

इसलिए अनिल उर्फ नीलू काे दाेषी पाया गया

  • अपराध वाली जगह पर प्रेजेंस: गुड़िया की डेड बाॅडी जहां मिली, वहां पर आराेपी की लाेकेशन थी।
  • पाेस्टमार्टम रिपाेर्ट: ये भी मुलजिम के खिलाफ थी, इसमें भी साक्ष्य मिले।
  • साॅयल टेस्ट रिपाेर्ट: डेड बाॅडी एक ही जगह पर थी, डेड बाॅडी काे दूसरी जगह के लिए नहीं उठाया गया था।
  • डीएनए रिपाेर्ट: इस रिपाेर्ट में भी आराेपी के खिलाफ ही सुबूत मिले, जिसकाे काेर्ट ने सही माना।
  • बाइट्स मार्क: बाॅडी पर बाइट्स मार्क भी मुलजिम के ही थे।
  • साइकाेलाॅजिकल रिपाेर्ट: काेर्ट ने माना कि साइकाेलाॅजिकल रिपाेर्ट भी अाराेपी की ठीक है।
  • क्रिमिनल हिस्ट्री: काेर्ट ने कहा कि क्रिमिनल हिस्ट्री से मामले से काेई लेना देना नहीं है, इसमें भी काेर्ट ने आराेपी काे काेई राहत नहीं दी।

यह है पूरा मामला | 4 जुलाई 2017 को कोटखाई की एक छात्रा स्कूल से लौटते समय लापता हो गई थी। 6 जुलाई को कोटखाई के जंगल में इनकी डेड बाॅडी मिली थी। मामले में छह आरोपी पकड़े गए थे। इनमें से आराेपित सूरज की कोटखाई थाने में 18 जुलाई 2017 की रात को हत्या कर दी गई थी।

  1. आरोप है कि राजू की सूरज से बहस हुई और उसके बाद राजू ने उसकी हत्या कर दी। हालां, बाद में मामले में नया मोड़ आया था और उपरोक्त सभी काे जेल से रिहा कर दिया गया था। अप्रैल 2018 में आराेपी अनिल ऊर्फ नीलू को हिरासत में लिया गया था। उपरोक्त मामले में सीबीआई की ओर से 55 गवाहों के बयान दर्ज किए।
खबरें और भी हैं...