• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Cloud Burst In Chamba Damage To 5 To 6 Houses NH 05 Or 505 Closed Havoc In Himachal Land Slide In Many Parts Of State

चंबा के सलूणी में बादल फटने के तबाही:15 वर्षीय बच्चे की मौत, 15 घरों व 4 पुल को नुकसान, 10 गाड़ियां मलबे में दबी

शिमला2 महीने पहले
चंबा के सलूणी में बादल फटने के बाद क्षतिग्रस्त पुल। - Dainik Bhaskar
चंबा के सलूणी में बादल फटने के बाद क्षतिग्रस्त पुल।

हिमाचल में रविवार रात मूसलाधार बारिश ने खूब कहर बरपाया है। चंबा जिला के दुर्गम क्षेत्र सलूणी में एक जगह बादल फटने और दो अन्य स्थानों पर मूसलाधार बारिश के बाद भूस्खलन की चपेट में आने से बधोगा गांव में 15 साल के विजय कुमार की मौत हो गई, जबकि एक घायल है।

सलूणी के ही कंदवारा में बाड़ से एक दर्जन घरों, एक दुकान, पांच गौशालाएं और दो पुल क्षतिग्रस्त हुए। कई ग्रामीणों की फसलों व जमीन को भी नुकसान हुआ है। कियार में बादल फटने के बाद 10 गाड़ियां मलबे में दब गई, जबकि 3 घ्राट और तीन पुल को नुकसान पहुंचा है।

कुल मिलाकर चंबा के सलूणी में एक की मौत, दो घायल, 15 घरों, छह घ्राट, पांच गौशालाएं और पांच पुल को नुकसान हुआ है। चंबा के सलूणी में भारी बारिश के बाद 24 पेयजल योजनाएं ठप हो गई है। इससे ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

सलूणी में बादल फटने के बाद भूस्खलन से क्षतिग्रस्त मकान।
सलूणी में बादल फटने के बाद भूस्खलन से क्षतिग्रस्त मकान।

वहीं किन्नौर के भावानगर में भूस्खलन के बाद नेशनल हाईवे-05 दो से अढ़ाई घंटे तक अवरूद्ध हो गया। लाहौल स्पीति जिला के मुख्यालय केलांग को जोड़ने वाला NH भी छतरू के पास भूस्खलन होने के बाद बंद पड़ा है। प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भी बीती रात बारिश के बाद 46 सड़कें और 51 बिजली के ट्रांसफॉर्मर बंद हैं।

किन्नौर के भावानगर में भूस्खलन के बाद बंद पड़ा NH-05
किन्नौर के भावानगर में भूस्खलन के बाद बंद पड़ा NH-05

640 करोड़ की संपत्ति तबाह

हिमाचल में मानसून की बारिश 640 करोड़ रुपए की सरकारी व गैर सरकारी संपत्ति तबाह कर चुकी है। अकेले PWD की 323 करोड़ और जल शक्ति विभाग की 299 करोड़ रुपए का नुकसान हो गया है। चंबा के सलूणी में भारी बारिश के बाद 24 पेयजल योजनाएं ठप हो गई है। इससे ग्रामीणों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

सलूणी में बादल फटने के बाद तबाही के निशान
सलूणी में बादल फटने के बाद तबाही के निशान

अब तक 169 की गई जान

हिमाचल में बारिश बहुत तबाही मचा रही है। मानसून के पहले 42 दिनों में बाढ़, भीषण सड़क हादसों और अचानक बाढ़ आने की घटनाओं में 169 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 298 व्यक्ति घायल हुए हैं। शिमला में सबसे ज्यादा 28 और कुल्लू जिला में 22 लोगों की जान गई। कुल्लू की मणिकर्ण घाटी में बादल फटने के बाद बाढ़ में 5 और चंबा का एक व्यक्ति करीब एक माह से लापता है।

सलूणी में बाढ़ से क्षतिग्रस्त पुल।
सलूणी में बाढ़ से क्षतिग्रस्त पुल।

लोगों का आशियाना छीना

प्रदेश में बीते 24 घंटे के दौरान बारिश ने 12 कच्चे व पक्के मकानों को नुकसान पहुंचाया है। कुल्लू में एक मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हुआ जबकि अन्य मकान को आंशिक क्षति हुई है। राज्यभर में 88 मकान जमींदोज हो गए हैं, जबकि 285 मकान को आंशिक नुकसान हुआ है। ऐसे घरों में लोगों की रातें दहशत में बीत रही हैं। बारिश में 257 गौशालाएं, 36 दुकाने,8 लैबर शैड और 17 घाट भी तबाह हुए हैं। इनमें 111 पालतू मवेशी काल का ग्रास बन चुके हैं।