• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Despite Winning The Case From The Court, The BJP Claimant Did Not Give Money From Arki, The Gardener Made The Allegation, The Kisan Sabha Also Played

धोखाधड़ी का आरोप:काेर्ट से केस जीतने के बावजूद नहीं दिया अर्की से भाजपा दावेदार ने पैसा, बागवान ने लगाया आराेप, किसान सभा ने भी खाेला माेर्चा

शिमला15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पत्रकार वार्ता में मामले की जानकारी देते बागवान राजेंद्र चौहान व अन्य। - Dainik Bhaskar
पत्रकार वार्ता में मामले की जानकारी देते बागवान राजेंद्र चौहान व अन्य।
  • सेब बेचने की एवज में रतन पाल से लेने हैं 90 हजार रुपए, 2005 से अब तक है बकाया

बागवानाें और किसानाें के साथ किस तरह से धाेखाधड़ी हाे रही है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि काेर्ट में केस जीतने के बाद भी उन्हें उनका पैसा नहीं मिल रहा है। किसान सभा की ओर से मंगलवार काे पत्रकारवार्ता की गई। इस दाैरान काेटखाई के एक बागवान राजेंद्र चौहान ने आराेप लगाए कि वह एक छोटे किसान हैं और उन्होंने वर्ष 2005 में रतन फ्रूट कंपनी, शॉप नंबर 24 न्यू सब्जी मंडी, सोलन में सेब बेचे। इसके मालिक रतन पाल जो भाजपा के नेता हैं और राज्य सहकारी विकास परिषद के अध्यक्ष हैं।

ये अर्की से भाजपा के प्रत्याशी रहे हैं को सेब बेचे थे। इन्होंने उस समय मेरे करीब 70 हजार रुपए बकाया भुगतान करना था। जबकि इसका भुगतान आज तक नहीं किया गया। बागवान का कहना है कि वर्ष 2006 में कंज्यूमर फोरम में गया और 2010 में सिविल कोर्ट ठियोग में मामला शिफ्ट किया गया। 29 दिसंबर 2012 को कोर्ट का निर्णय मेरे पक्ष में आया और कोर्ट ने 90 हजार का भुगतान करने का आदेश पारित किया। जबकि आढ़ती रतन सिंह पाल ने इस कोर्ट के आदेश को भी नहीं माना और मेरे पैसे आज तक नहीं दिए हैं।

एसआईटी में भी दी शिकायतः बागवान राजेंद्र चाैहान का कहना है कि सेब बागवानों के लिए उच्च न्यायालय के आदेश पर बनी एसआईटी में शिकायत दी गई। जबकि वहां से भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। सचिवालय में सरकार में बैठे लोगों से भी शिकायत की गई, जबकि आज तक कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। उनका कहना है कि इस कार्रवाई में एक लाख रुपए खर्च हो गए हैं, परंतु मुझे न्याय नहीं मिल रहा है।

अभी मामला कोर्ट में है, बेवजह के आराेप: रतन पाल अभी काेर्ट में ये मामला चला हुआ है। अभी काेई भी केस जीता नहीं हैं। मेरे ऊपर बेवजह आराेप लगाए जा रहे हैं। ये फर्म का मामला है। राजनीति से प्रेरित हाेकर अब मुझे फंसाने का प्रयास किया जा रहा है। मैं बिलकुल सही हूं, मेरे ऊपर जाे आराेप बागवान ने लगाए हैं, वह बेवजह के हैं।

सीएम से न्याय की गुहार लगाईः बागवान राजेंद्र चाैहान ने सीएम जयराम ठाकुर से न्याय की गुहार लगाई है। उन्हाेंने कहा कि सीएम इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप कर रतन सिंह पाल आढ़ती से उनका बकाया भुगतान तुरंत करवा कर न्याय प्रदान करें और ऐसे किसानों का शोषण करने वाले व्यक्ति को सरकार संरक्षण प्रदान न करें। उनका कहना है कि अगर बकाया भुगतान नहीं हुआ और दोषी आढ़ती के विरुद्ध कार्यवाही नहीं करती तो वह अपनी मांग को लेकर किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार है और इसके लिए आढ़ती सिंह पाल और प्रदेश सरकार जिम्मेवार होगी।

किसान सभा बाेली, कराेड़ाें रुपए बकाया, बागवान परेशानः हिमाचल किसान सभा के सचिव संजय चाैहान का कहना है कि प्रदेश की मंडियों में आढ़तियों व खरीदारों के पास किसानों और बागवानों के कराेड़ाें रुपए बकाया है। इनके विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई हाेनी चाहिए। प्रदेश की मंडियों में एपीएमसी कानून 2005 की खुली अवहेलना कर आढ़तियों व खरीदारों के द्वारा इसकी धज्जियां उड़ाई जा रही हैं और सरकार मूकदर्शक बनकर बैठी है। इससे सरकार का किसान विरोधी व दोषी आढ़तियों व खरीदारों के प्रति सहानुभूतिपूर्ण रवैया स्पष्ट होता है।

खबरें और भी हैं...