पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सीएम ने किया शिलान्यास:केएनएच में शुरू हुई में डिजिटल एक्सरे व फोर्ट अल्ट्रासाउंड मशीन

शिमला22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दैनिक भास्कर द्वारा उठाए गए मुद्दे के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को  कमला नेहरू अस्पताल में दोनों मशीनों का शुभारंभ किया और डॉक्टरों से जानकारी ली। - Dainik Bhaskar
दैनिक भास्कर द्वारा उठाए गए मुद्दे के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को कमला नेहरू अस्पताल में दोनों मशीनों का शुभारंभ किया और डॉक्टरों से जानकारी ली।
  • आईजीएमसी में लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट और नई लैब का भी सीएम ने किया लाेकार्पण

केएनएच अस्पताल में महिलाओं काे एक्सरे और अल्ट्रासाउंड करवाने के लिए न ताे निजी लैब में जाने की जरूरत रहेगी और न ही आईजीएमसी पहुंचना पड़ेगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार काे कमला नेहरू अस्पताल में 41 लाख रुपए की लागत से स्थापित आधुनिक एक्स-रे मशीन और 67 लाख रुपए की लागत से स्थापित 4-डी अल्ट्रासांउड मशीन का लाेकार्पण किया। यह मशीनें काफी समय से यहां पर लगाई गई थी, मगर इनका शुभारंभ न हाेने से बंद पड़ी थी। इससे गर्भवती महिलाओं काे काफी दिक्कतें आ रही थी।

दैनिक भास्कर ने इस मुद्दे काे प्रमुखता से उठाया था और इन मशीनाें के शुरू ना हाेने से गर्भवती महिलाओं की समस्याओ के बारे में लिखा था। जिसके बाद अब रविवार काे सीएम ने इन्हें शुरू कर दिया है। इससे अब महिलाओं काे काफी राहत मिलेगी। अभी केएनएच में काफी पुरानी एक्सरे मशीन थी, जिसमें एक्सरे साफ नहीं आते थे।

इसके अलावा अल्ट्रासाउंड के लिए भी यहां से महिलाओं काे आईजीएमसी भेजा जा रहा था। इस मौके पर शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. राजीव सैजल, स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी, इंदिरा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के प्रधानाचार्य रजनीश पठानिया, वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. जनक राज, डाॅ. राहुल गुप्ता समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

ऑक्सीजन क्षमता 525 सिलेंडर से बढ़कर 1600 से अधिक हो जाएगी

मुख्यमंत्री ने आईजीएमसी शिमला में 20 किलोलीटर लिक्विड ऑक्सीजन संयंत्र का शुभारंभ किया। आईजीएमसी में स्थापित 20 किलोलीटर ऑक्सीजन संयंत्र कोविड-19 रोगियों और अन्य रोगियों के लिए निर्बाध ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करेगा। उन्होंने कहा कि इस संयंत्र के स्थापित होने से चिकित्सा महाविद्यालय की ऑक्सीजन क्षमता 525 सिलेंडर से बढ़कर 1600 सिलेंडर से अधिक हो जाएगी। यह ऑक्सीजन संयंत्र 63 लाख रुपए की लागत से तैयार हुआ है।

आधुनिक लैब में किए जा सकेंगे लिथियम परीक्षण

सीएम ने आईजीएमसी में आधुनिक लैब का भी शुभारंभ किया। यहां पर अब लिथियम परीक्षण किए जाएंगे। यह सुविधा पहले नहीं थे। पहले लोगों को तीन से चार दिनो तक लिथीयम की रिपोर्ट का इंतज़ार करना पड़ता था। लैब में जो जांच मशीन स्थापित की गई है वह अपनी तरह की प्रदेश में पहली मशीन है।

इस मशीन का नाम ऑटाे एनालाइजर एक्सएल 1000 है। यह मशीन एक साथ एक घंटे में एक हजार चालीस सैंपल की जांच करने में सक्षम है। लैब में सभी जैव रासायनिक (आरएफटी, एलएफटी, लिपिड, इलेक्ट्रोलाइट्स, एडीए आदि) हेमेटोलॉजी (एचबी, सीबीसी), सीएसएफ परीक्षा और हेमोस्टेसिस पैरामीटर (पीटी/आईएनआर) के साथ इलेक्ट्रोलाइट्स, रक्त गैस विश्लेषण जैसे पोईंट ऑफ केयर प्रदान करने में सक्षम है। यह प्रयोगशाला 24x7 अनेकों प्रकार के मार्कर टेस्ट जैसे सीआरपी, फेरिटिन, डी डाईमर करने में सक्षम है।

अनाथ बच्चाें काे दिया जाएगा सैनिक और नवाेदय में दाखिला

जय राम ठाकुर ने कहा कि कोराेना के कारण अनाथ हुए बच्चों को केंद्रीय नवोदय और सैनिक विद्यालयों इत्यादि में दाखिला दिया जाएगा और सरकार द्वारा उनकी पढ़ाई का खर्च वहन किया जाएगा। सरकार निजी विद्यालयों में पढ़ रहे ऐसे विद्यार्थियों की पढ़ाई का खर्च भी वहन करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे प्रत्येक विद्यार्थी को आयुष्मान भारत योजना के तहत पंजीकृत किया जाएगा और 18 वर्ष की आयु तक इन बच्चों की प्रीमियम राशि का भुगतान पीएम केयर्स द्वारा किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...