पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मानसून बना मुसीबत:बारिश के चलते जगह-जगह लैंड स्लाइड, संजाैली और विकासनगर में राेड हुए बंद

शिमला6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नवबहार में मकान के आगे का हिस्सा धंस गया। - Dainik Bhaskar
नवबहार में मकान के आगे का हिस्सा धंस गया।
  • शहर में कई जगह नाले उफान पर, ड्रेनेज सिस्टम सही न हाेने से घराें​​​​​​​ में घुसा पानी

भारी बारिश से शहर में लाेगाें काे मुश्किलाें का सामना करना पड़ रहा है। संजाैली और विकासनगर में भूस्खलन हाेने से रोड बंद हो गए। इससे लाेगाें काे आवाजाही में दिक्कताें का सामना करना पड़ा है। इसी तरह कई जगहों पर पेड़ भी गिरे हैं। शिमला में पिछले दाे दिनों से लगातार बारिश हो रही। जिससे जगह जगह पर लैंड स्लाइड हाेने की घटना सामने आ रही है।

वहीं, मौसम विभाग की ओर से आगामी दिनाें में भी येलो अलर्ट जारी किया। ऐसे में अगर बारिश होती है तो और नुकसान की आशंका है। करीब 10 से 12 घंटे तक लगातार बारिश होने से कहीं घरों पर पेड़ गिर गए तो कहीं मलबा घुस गया है। बरसात के लिए प्रशासन की ओर से की गई तैयारियों की भी पोल खुलकर सामने आ रही है। माैसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक आज भी बारिश हाेने के आसार हैं। ऐसे में लाेगाें की मुसीबतें आने वाले दिनाें में भी कम नहीं हाेने वाली हैं।

विकासनगर मार्ग

बारिश के चलते पहाड़ी से सड़क पर मलबा आने से ब्रॉकहाॅस्ट-विकासनगर मार्ग पर आवाजाही प्रभावित हो गई। इस वजह से यातायात के लिए यह मार्ग फिलहाल बंद है। सड़क पर मलबा आने से पैदल आना-जाना भी मुश्किल है। वहीं, खलीनी के मिस चैंबर में एक पेड़ के बीच सड़क पर गिर जाने से खलीणी-बीसीएम मार्ग बड़ी गाड़ियों के लिए बंद हो गया है। जबकि छोटी गाड़ियां इस मार्ग से होकर जा रही है।

कनलोग

कनलोग में अभिषेक नेगी नाम के व्यक्ति के मकान के साथ बने बाथरूम पर देवदार का पेड़ गिरा है। जिससे कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। मकान के साथ बने बाथरूम को नुकसान हुआ है, मौका पर पुलिस थाना न्यू शिमला वह फॉरेस्ट विभाग के कर्मचारी आए। जिन्होंने विस्तृत नुकसान का आकलन किया। इस स्थान पर कुछ दिन पहले भी पेड़ गिरे थे।

संजौली

संजौली कॉलेज के पास भी एक बड़ा पेड़ सड़क पर गिर गया। जिससे कि यहां पर यातायात पूरी तरह से प्रभावित हो गया। वहीं पेड़ की चपेट में सड़क किनारे खड़ा एक टिप्पर भी आया है, जिससे उसे खासा नुकसान पहुंचा, हालांकि, टिप्पर में कोई मौजूद नहीं था, जिससे किसी जानी नुकसान नहीं हुआ। वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची, जिसके बाद पेड़ को काटने का काम शुरू किया गया। देर शाम काे यातायात को बहाल किया गया।

नवबहार

यहां पर भी एक भवन के आगे से लैंड स्लाइड हाे गया। इससे अब मकान काे खतरा हाे गया है। लाेगाें ने जब सुबह देखा ताे आंगन के आगे का पूरा हिस्सा धंस गया था। इस कारण लाेगाें काे अब डर के साए में रहने काे मजबूर हाेना पड़ रहा है। यहां पर पहले भी लैंड स्लाइड हुआ है।

60 लाख लीटर पानी कम पहुंचा, कई एरिया में सप्लाई बाधित

दाे दिन से हाे रही तेज बारिश के कारण शहर में पानी की सप्लाई सुचारू नहीं हाे पा रही है। रविवार काे भी शहर में करीब 60 लाख लीटर पानी की सप्लाई कम आई। शहर में 45 की जगह 39 एमएलडी पानी ही पहुंचा। इसमें गिरी याेजनाों से करीब पांच एमएलडी पानी की लिफ्टिंग कम हुई। इससे शहर में कुछ एरिया में पानी की सप्लाई नहीं दी जा सकी।

इससे पहले शनिवार काे भी शहर में मात्र 30 एलएलडी पानी पहुंचा था। रविवार काे कुल 39.94 पानी शहर में पहुंचा, इसमें गुम्मा से 17.62, गिरी से 12.41, चुरठ से 3.17, सियाेग से 0.94, चैड़ से 0.60 और काेटी बरांडी से 5.20 एमएलडी पानी आया। यदि बारिश का क्रम इसी तरह से चलता रहा ताे आगामी कुछ दिनाें तक इसी तरह से किल्लत चलती रहेगी।

खबरें और भी हैं...