• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Elderly, Differently abled People Will Be Given Ballot Papers From House To House, Employees Engaged In Election Duty Will Collect From Door To Door, Election Commission Is Preparing The List

हिमाचल उपचुनाव में बुजुर्गों-दिव्यांगों के लिए विशेष सुविधा:बैलेट पेपर के इस्तेमाल से कर सकेंगे मतदान; कर्मचारी घर-घर जाकर ही करेंगे कलेक्ट, चुनाव आयोग तैयार कर रहा सूची

शिमला15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जाे बुजुर्ग, दिव्यांग पोलिंग बूथ नहीं आना चाहेंगे, उन्हें घर-घर दिए जाएंगे बैलेट पेपर। - Dainik Bhaskar
जाे बुजुर्ग, दिव्यांग पोलिंग बूथ नहीं आना चाहेंगे, उन्हें घर-घर दिए जाएंगे बैलेट पेपर।

हिमाचल प्रदेश में होने वाले उपचुनाव को लेकर राज्य चुनाव आयोग तैयारियों में जुटा हुआ है। इन्हीं तैयारियों के तहत पहली बार प्रदेश में 80 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों समेत दिव्यांगों को बैलेट पेपर से वोट डालने की सुविधा जाएगी। चुनाव आयोग ने तय किया है कि 80 साल से ऊपर के उम्रदराज लोगों और दिव्यांगों को घर पर ही बैलट पेपर दिए जाएंगे।

वोटरों को यह सुविधा प्रदान करने के लिए आयोग द्वारा चारों क्षेत्रों में बुजुर्ग और दिव्यांग वोटरों की सूची तैयार की जा रही है। इस सूची के अनुसार, बैलेट पेपर घर ही भेजे जाएंगे। जिन्हें चुनाव कर्मचारी घर जाकर ही कलेक्ट करेंगे। इसके लिए कर्मचारियों की 15-15 टीमें बनेंगी।

तीसरी बार करेंगे घर जाकर पोस्टल बैलेट कलेक्ट
टीमें पहले चुनाव में मतदान करने संबंधी राय लेने के लिए मतदाताओं के घर जाएंगी। फिर पोस्टल बैलेट देने के लिए दूसरी बार टीमें मतदाताओं के घर जाएंगी। तीसरी बार मतदान कर्मी मतदाताओं के घर तक जाएंगे, जब उन्हें पोस्टल बैलेट पेपर कलेक्ट करने होंगे। इस पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी की जाएगी, ताकि किसी भी तरह का कोई सवाल न उठ सके। मतदाता की गोपनीयता भी बनी रहेगी। पोस्टल बैलेट को लेने से पहले उसे सील बंद लिफाफे में पैक किया जाएगा और संबंधित रिटर्निंग ऑफिसर के पास जमा करवाया जाएगा।

घर-घर देने जाएंगे कर्मी बैलेट पेपर।
घर-घर देने जाएंगे कर्मी बैलेट पेपर।

मतगणना वाले दिन खुलेंगे पोस्टल बैलेट पेपर
पोस्टल बैलेट पेपर संबंधित चुनाव क्षेत्र में मतगणना वाले दिन ही खोलेे जाएंगे। प्रदेश में पहली बार चुनाव अयोग इस तरह का प्रयोग कर रहा है। इससे पहले केवल आर्मी के जवानों और मतदान कर्मियों को ही पोस्टल बैलेट की सुविधा दी जाती है। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए चुनाव आयोग ने 80 साल से ऊपर के बुजुर्गों, दिव्यांगों और एसेंशियल सर्विसेज में तैनात कर्मियों को भी पोस्टल बैलेट पेपर की सुविधा दी है।

चारों उपचुनाव वाली जगहों पर ऐसे हजारों मतदाता
हिमाचल प्रदेश में 4 जगहों पर उपचुनाव होंगे। इसमें मंडी संसदीय क्षेत्र, अर्की, फतेहपुर और जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र हैं। चारों इलाकों में लगभग 65 हजार से अधिक दिव्यांग और 80 साल की आयु के मतदाता बताए जा रहे हैं। टीमें घर-घर जाकर इनसे यह पूछेगी कि वह क्या पोस्टल बैलेट पेपर का प्रयोग करना जाते हैं या मतदान केंद्र पर आना चाहते हैं। जो भी वृद्ध और दिव्यांग पोलिंग बूथ पर आकर वोट देना चाहेगा, उन्हें नहीं रोका जाएगा। जो घरों में रहकर ही पोस्टल बैलेट पेपर पर वोट देना चाहेंगे, उन्हें सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...