चेक पोस्टों पर पुलिस सख्त:प्रदेश में बिना ई-पास के नहीं दी एंट्री, शाेघी में पर्यटकों के 500 वाहनों काे वापस भेजा

शिमला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर शोघी बैरियर की है। पुलिस मोबाइल पर रजिस्ट्रेशन देखने के बाद ही वाहनों को आगे जाने दे रही थी। - Dainik Bhaskar
तस्वीर शोघी बैरियर की है। पुलिस मोबाइल पर रजिस्ट्रेशन देखने के बाद ही वाहनों को आगे जाने दे रही थी।
  • परवाणू से भी लौटाए गए पर्यटक, वहीं पर्यटकों ने जताई सरकार के आदेशों पर नाराजगी

हिमाचल में एंट्री के लिए ई-पास व्यवस्था शुरू होते ही चेक पोस्टों पर पुलिस ने सख्ती बरत दी है। बिना ई-पास के किसी को भी एंट्री नहीं दी जा रही है। शिमला के एंट्री प्वाइंट शोघी बैरियर से भी लगभग 500 वाहनों को वापस लौटाया है जो कि बिना पास के शिमला में एंट्री करना चाहते थे। हिमाचल के एंट्री प्वाइंट परमाणू बैरियर पर भी कुछ इसी तरह का नजारा देखने को मिला। यहां पर भी बाहरी राज्यों से हिमाचल आने वाले लोगों के ई-पास चेक किए।

जिन लोगों ने तो पास बना लिए थे उन्हें तो एंट्री मिली, लेकिन जिनके पास ई-पास नहीं थे उन्हें वापस भेज दिया। प्रदेश सरकार ने संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों को लेकर बुधवार देर रात को अधिसूचना जारी करते हुए ई-पास के साथ हिमाचल में एंट्री जरूरी कर दी थी। तुरंत प्रभाव से इन आदेशों को लागू कर दिया। जिसके बाद सभी एंट्री पाइंट पर पुलिस ने सख्ती बरत दी। एसपी शिमला माेनिका का कहना है कि नियमाें के अनुसार ही शिमला में प्रवेश दिया जाएगा।

शिमला के होटलों की 40% बुकिंग हुई कैंसिल
ईपास व्यवस्था शुरू होने के बाद पर्यटन कारोबार पर भी इसका असर पड़ा है। शिमला के 40 फीसदी होटलों की बुकिंग भी कैंसिल हुई है। ऐसे में होटल व्यापारियों को भी इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। शिमला जिला में 650 के करीब होटल है। शिमला में ज्यादातर लोग टूरिज्म व्यवसाय से जुड़े हैं। जिसमें टैक्सी चालक, टूर एंड ट्रैवल्स वाले, होटल कारोबारी, स्टॉफ, दुकानदार और अन्य लोग हैं लेकिन होटलों की बुकिंग कैंसिल होने से इन सभी वर्ग को नुकसान उठाना पड़ेगा।

पिछले साल भी घाटे में थी होटल इंडस्ट्री
पिछले साल कोविड काल में हिमाचल की होटल इंडस्ट्री को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। जब सब कुछ बंद हो गया था तो किसी को भी हिमाचल में एंट्री की इजाजत नहीं थी। ऐसे में होटल कारोबारियों को काफी नुकसान हुआ। कई लोगों की नौकरी भी गई। पर्यटन कारोबार से सीधे तौर पर जुड़े लोगों को इसका नुकसान उठाना पड़ा था।

सैलानी बोले-पहले ही बना था प्लान, लौटना पड़ा
शोघी बैरियर पर पहुंचे पंजाब के पर्यटक हरदीप, कमलप्रीत और दिल्ली से आए पर्यटक राजेंद्र, अमन का कहना था कि उन्होंने शिमला आने के लिए पहले ही प्लान तैयार कर लिया था और होटलों की बुकिंग भी करवा ली थी। वह यहां पर एक सप्ताह रुकने वाले थे। जिसके बाद वह वापस चले जाने थे, लेकिन अचानक ही जब वह शोघी बैरियर पर पहुंचे तो उनसे ई- पास के बारे में पूछा गया। लेकिन उनके पास ही पास नहीं था, अब उन्हें यहां से वापिस जाना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...