• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Forest Clearance Was Not Received, The Lift To Be Built From Lakkar Bazar To Ridge Was Excavated; 10.37 Crore Will Be Made

ये कैसी स्मार्ट सिटी:फाॅरेस्ट क्लियरेंस मिली नहीं, लक्कड़ बाजार से रिज तक बनने वाली लिफ्ट की कर दी खुदाई; 10.37 कराेड़ से बनेगी

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लक्कड़ बाजार बस स्टैंड से लेकर पदमदेव कॉम्प्लेक्स तक इस जगह से बननी है लिफ्ट। - Dainik Bhaskar
लक्कड़ बाजार बस स्टैंड से लेकर पदमदेव कॉम्प्लेक्स तक इस जगह से बननी है लिफ्ट।

टूटीकंडी से लेकर कार्टराेड तक राेप-वे बनाने की प्लानिंग कर लाेगाें काे सपने दिखाने वाला नगर निगम हर बार फाॅरेस्ट क्लियरेंस में ही फंस जाता है। वर्ष 2006 से राेप-वे बनाने की प्लानिंग चलती रही। टेंडर भी कर दिए गए, लेकिन काम शुरू ही नहीं हुआ। इसी तरह अब लक्कड़ बाजार से रिज के लिए बनने वाली लिफ्ट भी फाॅरेस्ट क्लियरेंस के कारण रुकी हुई है। यहां पर कुछ समय पहले खुदाई भी शुरू हाे गई थी। जबकि अब ये काम ठंडें बस्ते में पड़ गया है।

ऐसे में लक्कड़ बाजार बस स्टैंड से लेकर पदमदेव कॉम्प्लेक्स तक लिफ्ट बनाने के फिलहाल सपने ही दिखाए गए हैं। इसको लेकर फॉरेस्ट क्लियरेंस नहीं मिल पाई है। ऐसे में नगर निगम का शिमला को स्मार्ट बनाने का सपना फिलहाल लटकता दिख रहा है। अगर ये लिफ्ट बन जाती है तो ये सीधा लोगों को रिज और मालरोड से जाेड़ेगी। इसके लिए टेंडर तो निकाल दिए गए हैं, लेकिन वन विभाग की ओर से मंजूरी नहीं दी जा रही है। राेप वे एंड रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम कॉर्पोरेशन सिस्टम इस लिफ्ट का निर्माण करेगी।

इसके लिए 10.37 कराेड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। नगर निगम की ओर से स्मार्ट सिटी के तहत लिफ्ट बनाने की याेजना पिछले काफी समय से चलाई जा रही है। इसके बावजूद ये सिरे नहीं चढ़ रहा है। राेप वे एंड रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम कॉर्पोरेशन सिस्टम अभी भी मंजूरी के फेर में फंसी हुई है। नगर निगम के मेयर सत्या कौंडल का कहना है कि हम स्मार्ट सिटी के तहत हर प्रोजेक्ट की मंजूरी लेने का प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में जो प्रोजेक्ट रुके हुए हैं, उन्हें जल्द शुरू किया जाएगा।

एमसी का ड्रीम प्लान, लोगों के लिए भी सपना बना
शहर काे स्मार्ट बनाने के लिए एमसी ने पिछले काफी समय से कई प्राेजेक्टाें पर काम शुरू किए हैं। जबकि, कुछ ही प्राेजेक्टाें पर नगर निगम काे सफलता मिली है। रिज तक लिफ्ट लगाने का प्लान एमसी का ड्रीम प्लान है। ऐसे में इसका काम राेप वे एंड रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम कॉर्पोरेशन काे दिया गया है जबकि अब ये सपना ही नजर आ रहा है। शिमला शहर में मोनोरेल को शुरू करने के दावे भी किए गए थे। इसे शहर में लोगों को ट्रांसपोर्ट के एक नए विकल्प के तौर पर पेश किया गया। मगर कई सालों बाद भी इस पर काम शुरू नहीं किया गया।

ट्रांसपोर्ट नगर बनाने पर भी कुछ नहीं हुआ
शिमला शहर के आसपास ट्रांसपोर्ट नगर बनाने की भी बात कही गई थी। इसके तहत सभी ट्रांसपोर्ट की गतिविधियां शहर से बाहर होनी थी। वहीं, शहर में मोटर मैकेनिकों की वर्कशॉप्स भी शहर से बाहर बनाई जानी थी ताकि शहर के भीतर ट्रैफिक का भार कम पड़े। मगर ट्रांसपोर्ट नगर आज तक नहीं बन पाया और न ही शहर के भीतर में मोटर मैकेनिकों की वर्कशॉप को बाहर बसाया गया। इससे शहर के भीतर ट्रैफिक बढ़ गया है।

ऐसे बननी है लिफ्ट

  • लक्कड़ बाजार बस स्टैंड में पहले फुट ओवरब्रिज बनेगा।
  • जाे बस स्टैंड से लिफ्ट काे जाेड़ेगा। इस जगह के लिए एचआरटीसी और आइस स्केटिंग क्लब ने भी सहमति दे दी है।
  • लिफ्ट के पहले हिस्से के बाद स्काईवाॅक बनेगा, उसके बाद लिफ्ट का दूसरा पार्ट रिवॉली के पास से शुरू हाेगा।
  • रिवॉली एरिया में फॉरेस्ट क्लियरेंस नहीं मिल पा रही है, जिस कारण काम रुका हुआ है।
खबरें और भी हैं...