पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक्साइज फीस फर्जीवाड़ा:पूर्व डीजीपी के बेटे ने किया सरेंडर, 5 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा

ऊना12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एक्साइज फीस फर्जीवाड़े में आरोपी एवं पूर्व डीजीपी डॉ. डीएस मिन्हास के बेटे अमिल मिन्हास की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
एक्साइज फीस फर्जीवाड़े में आरोपी एवं पूर्व डीजीपी डॉ. डीएस मिन्हास के बेटे अमिल मिन्हास की फाइल फोटो।
  • एसआईयू शिमला की टीम कर रही है पूछताछ

एक्साइज फीस फर्जीवाड़े में आरोपी एवं पूर्व डीजीपी डॉ. डीएस मिन्हास के बेटे अमिल मिन्हास ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। वह 3 जनवरी, 2020 को हाईकोर्ट से वेल रिजेक्ट होने के बाद से भूमिगत चल रहा था। उसने कोर्ट के आदेश पर एक बार भी विजिलेंस को जांच में सहयोग नहीं किया, जिसे भगौड़ा घोषित किया गया था। सोमवार को सरेंडर के बाद एसआईयू शिमला की टीम ने मंगलवार को अमिल मिन्हास को कोर्ट में पेश किया।

स्टेट विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो की दलील पर कोर्ट ने उसे पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश पारित किए। एसआईयू (स्पेशल इन्वेटिगेशन यूनिट) की टीम अमिल मिन्हास से रिमांड के दौरान पूछताछ कर रही है।

स्टेट विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो ऊना के एडिशनल एसपी सागर चंद ने कहा कि इस मामले मेें आरोपी अमिल मिन्हास को कोर्ट से पांच दिन के रिमांड पर लिया है। उसने सोमवार को ही कोर्ट में सरेंडर किया था। अब एसआईयू शिमला की टीम मामले की जांच कर रही है। इसके बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

एक्साइज को दिए ई-चालान के रिकार्ड वेरीफाई नहीं हुए थे

हरप्रिया मिन्हास व रोहित कुमार की फर्म ने शराब ठेकों की एक्साइज फीस के लिए आबकारी एवं कराधान विभाग के पास 2.63 करोड़ के ई-चालान सबमिट किए थे। जुलाई, 2019 में एजी ऑफिस शिमला से टीम ऑडिट करने पहुंची तो ई-चालान ट्रेजरी के रिकॉर्ड से वेरिफाई नहीं हुए। दोनों ने जो ई-चालान एक्साइज के पास सबमिट किए थे, उनका पैसा राज्य सरकार के अकाउंट में जमा नहीं हुआ था।

एक्साइज के अधिकारियों ने साइबर ट्रेजरी शिमला से क्रॉस वेरिफिकेशन करवाई। जिसमें करोड़ों रुपये के फर्जीवाड़े का पता चला। 30 अगस्त, 2019 को साइबर ट्रेजरी ने संबंधित विभाग को हरप्रिया और रोहित द्वारा सबमिट किए ई-चालान फर्जी होने की कंफर्मेशन दे दी थी। दैनिक भास्कर ने 3 सितंबर, 2019 के अंक में उक्त मामले का खुलासा किया था।

इसमें 33.63 लाख रुपए की बैंक एफडीआर फर्जी होने का पता चला था। जिस पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक्साइज विभाग से रिकॉर्ड तलब किया था। 5 सितंबर, 2019 को यहां स्टेट विजिलेंस के थाने में हरप्रिया मिन्हास व रोहित कुमार के खिलाफ आबकारी एवं कराधान विभाग के डिप्टी कमिशनर प्रदीप शर्मा ने शिकायत दर्ज करवाई थी।

विजिलेंस ने हरप्रिया व रोहित के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 34 और आईटी एक्ट 66 के तहत मामला दर्ज किया था। विभाग ने दोनों कारोबारियों के शराब लाइसेंस रद्द कर दिए थे। विजिलेंस ने रोहित के दफ्तर से छापामारी करके एक लैपटॉप, एक कंप्यूटर व अन्य दस्तावेज जब्त किए थे।

हरप्रिया के आवास से भी दस्तावेज अपने कब्जे में लिए थे। फिर विजिलेंस ने हरप्रिया व रोहित से अपने दफ्तर में पूछताछ की थी। मगर हरप्रिया के पति अमिल मिन्हास ने विजिलेंस को जांच में सहयोग नहीं किया था। कुछ माह बाद विजिलेंस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था।

जिस पर हिमाचल ग्रामीण बैंक की तीन फर्जी एफडीआर बनाने के आरोप हैं। अब अमिल मिन्हास के सरेंडर करने के बाद एसआईयू मामले की जांच को आगे बढ़ाएगी। हालांकि यह मामला पहले विजिलेंस के पास था, जिसे पिछले साल एसआईयू शिमला को हेंडओवर किया गया था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें