• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Great Relief To The People TCP Office Will No Longer Have To Be Cut In Himachal, Approval For Construction Of Residential Building

लोगों को बड़ी राहत:हिमाचल में अब नहीं काटने पड़ेंगे TCP कार्यालय के चक्कर, रिहायशी भवन बनाने की मंजूरी

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हिमुडा के 500 वर्गमीटर तक के आवासीय प्लाटों में रिहायशी भवन बनाने की मंजूरी की जगी उम्मीद। - Dainik Bhaskar
हिमुडा के 500 वर्गमीटर तक के आवासीय प्लाटों में रिहायशी भवन बनाने की मंजूरी की जगी उम्मीद।

हिमाचल की राजधानी शिमला में उन लोगों के लिए राहत की खबर है जिन्होंने हिमुडा से जमीन ली है और शहर में घर बनाने की सोच रहे हैं। घर का नक्शा बनाने के लिए उन्हें TCP के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। प्रदेश में शहरी स्थानीय निकायों और हिमुडा के 500 वर्गमीटर तक के आवासीय प्लाटों में रिहायशी भवन बनाने की मंजूरी अब उन्हें पंजीकृत निजी पेशेवर भी दे सकेंगे। इससे प्रदेश में आम लोगों को मकान बनाते समय नगर एवं ग्राम योजना विभाग के कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।

इससे पंजीकृत निजी पेशेवर, स्थल निरीक्षण और निरीक्षण रिपोर्ट करने के बाद केवल 30 दिनों के भीतर TCP नियम 2014 के तहत विकास अनुमति प्रदान करेंगे। निजी पेशेवर जिन्हें एक वर्ष से ज्यादा का अनुभव है केवल वही इस आदेश के तहत भवन बनाने की अनुमति प्रदान कर पाएंगे।

इस आदेश के तहत सभी अनुमतियां पंजीकृत निजी पेशेवरों द्वारा ऑनलाइन माध्यम से दी जाएगी। इस कार्य के लिए नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग के ऑनलाइन पोर्टल में पंजीकृत निजी पेशेवरों को समुचित सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके अतिरिक्त विभाग यह भी सुनिश्चित करेगा कि निजी पेशेवरों द्वारा प्रदान की गई अनुमतियों में कोई अनियमितताएं और गलतियां न हो। इसके लिए कम से कम 10 प्रतिशत अनुमतियों का सक्षम अधिकारियों द्वारा औचक निरीक्षण किया जाएगा।

अब नहीं जाना पड़ेगा TCP कार्यालय

इस आदेश के लागू होने के बाद नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग, स्थानीय निकायों, साडा द्वारा ही बिजली और पानी के कनैक्शनों के लिए NOC, भू-उपयोग परिवर्तन और भू-विभाजन की अनुमति दी जाएगी। शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि प्रदेश में शहरी स्थानीय निकायों और हिमुडा के 500 वर्गमीटर तक के आवासीय प्लाटों में रिहायशी भवन बनाने की अनुमति अब पंजीकृत निजी पेशेवर भी दे सकेंगे। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश में आम लोगों को मकान बनाते समय TCP कार्यालय नहीं जाना पड़ेगा।