पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Heavy Landslide On National Highway 305 And 5 Due To Incessant Rain, NH 305 Still Closed, One way Vehicles On NH 5, One More Day Yellow Alert For Rain

हिमाचल में मानसून का कहर, NH-305 और 5 बंद:लगातार हो रही बारिश के बाद भारी लैंड स्लाइड, ट्रैफिक हुआ वन-वे, अभी एक दिन और बरसात का येलो अलर्ट

शिमला9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नेशनल हाईवे 305 पर लैंड स्लाइड से बंद पड़ा मार्ग। - Dainik Bhaskar
नेशनल हाईवे 305 पर लैंड स्लाइड से बंद पड़ा मार्ग।

हिमाचल में इस समय मानसून पूरी तरह से सक्रिय है। शिमला, सोलन, कुल्लू, कांगड़ा में पिछली रात से लगातार बारिश हो रही है। बारिश के कारण जगह-जगह लैंड स्लाइड हो रहे हैं। लोगों का जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है। जगह-जगह पर पहाड़ों से पत्थर और मलबा गिरने से नेशनल हाईवे भी बाधित हो गए। कुछ पर एक तरफा वाहनों को चलाया गया है जबकि कुछ पर अभी यातायात पूरी तरह से बाधित है। अभी आन वाले दो दिन और हिमाचल में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

नेशनल हाईवे 305 सोझा के पास हुआ बंद

शिमला से कुल्लू से जोड़ने वाला नेशनल हाईवे-305 सोझा के पास भारी लैंड स्लाइड होने से बंद हो गया। यहां पर वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई। सड़क का एक हिस्सा भारी बारिश के कारण ढह गया। जिससे कि यातायात पूरी तरह से प्रभावित हो गया। कुल्लू जिला में रात से ही लगातार बारिश हो रही है जिससे कि जगह जगह पर भूस्खलन हो रहे हैं।

गौरतलब है कि शनिवार को भी नेशनल हाईवे पर एक ट्रक के पलट जाने से हाईवे बंद हो गया। जिसे बाद में वाहनों के लिए बहाल किया गया, लेकिन रविवार को दोबारा बानीगाड़ और जीभी के पास पहाड़ी से बड़ा पत्थर आ जाने के कारण यहां पर आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई।

वहीं, एनएच 305 के एसडीओ टहल सिंह का कहना है कि रविवार को दोबारा से हुए लैंड स्लाइड के बाद नेशनल हाईवे पर आवाजाही ठप हो गई है। मशीनों को तैनात किया गया। मार्ग को बहाल किया जा रहा है। मौसम खराब होने की वजह से जगह-जगह पर भूस्खलन हो रहा।

नेशनल हाईवे-5 पर सनवारा के पास हुआ लैंड स्लाइड।
नेशनल हाईवे-5 पर सनवारा के पास हुआ लैंड स्लाइड।

नेशनल हाईवे-5 पर भी जगह-जगह भूस्खलन

चंडीगढ़-शिमला नेशनल हाईवे-5 पर जगह-जगह भूस्खलन होने से यातायात को डायवर्ट करना पड़ा है। सनवारा के पास भूस्खलन हुआ। यहां पर रेलवे फाटक के समीप पहाड़ी से पत्थर और मलबा आ जाने के कारण कुछ समय के लिए हाईवे बाधित हो गया। लेकिन बाद में एक तरफा से वाहनों की आवाजाही शुरू की गई। इसके अलावा धर्मपुर समेत सोलन जिला तक कई जगहों पर हल्का-हल्का लैंड स्लाइड हुआ है। पहाड़ी की तरफ लैंड स्लाइड होने से वाहनों को दूसरी लेन में चलाया जा रहा है, ताकि कोई अनहोनी घटना न घट जाए। मौसम विभाग की ओर से अभी कल भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। ऐसे में भारी बारिश के कारण और परेशानियां बढ़ सकती हैं।

रविवार को दोपहर डेढ़ बजे के करीब अचानक बधाल के पास पहाड़ी से मलबा गिर गया। जिससे नेशनल हाईवे-5 फिर बंद हो गया। हाईवे के दोनों और वाहनों की कतारें लग गई। प्रशासन की ओर से यहां पर मशीनों को भेजने का काम शुरू हो चुका है। अभी घटनास्थल पर हाईवे को खोलने के लिए मशीनें नहीं पहुंची थी। ऐसे में हाईवे को खोलने में काफी समय लगेगा। मलवा भी काफी मात्रा में पहाड़ी से गिरा है। नेशनल हाईवे-5 को जल्द से जल्द बहाल करने के लिए दोनों जिलों के प्रशासन को अपनी-अपनी ओर से मशीनों को लगाना होगा, ताकि हाईवे को शाम तक बहाल किया जा सके।

एक माह में चार जगह से बंद हो चुका नेशनल हाईवे 5

दूसरी और रामपुर से किन्नौर जाने वाला नेशनल हाईवे भी बंद हो गया। नेशनल हाईवे-5 एक माह के भीतर चार अलग-अलग जगहों से बंद हो चुका है। सबसे पहले बटसेरी फिर निगुलसेरी, पागल नाला ओर ज्यूरी के पास भी भारी लैंड स्लाइड होने से नेशनल हाईवे बंद हुआ। अब किन्नौर और रामपुर की सीमा पर बधाल के पास हाईवे दोबारा से लैंड स्लाइड के कारण बंद हो गया।

नेशनल हाईवे-5 पर हुआ भूस्खलन।
नेशनल हाईवे-5 पर हुआ भूस्खलन।

नेशनल हाईवे 5 पर सफर करना रही रह गया खतरे से खाली

जिस तरह से लगातार नेशनल हाईवे-5 पर पहाड़ दरक रहे हैं, उससे यहां पर सफर करना खतरे से खाली नहीं रह गया। रोजाना हजारों की संख्या में लोग वाहनों से शिमला से किन्नौर आते-जाते हैं। ऐसे में कभी भी निगुलसेरी की तरह दूसरा बड़ा हादसा यहां पर हो सकता है। हल्की-हल्की और रुक रुक कर हो रही बारिश पहाड़ों को कमजोर कर रही है। जिससे कि पहाड़ कभी भी भरभरा कर नेशनल हाईवे पर आ जा रहे। ऐसे में प्रशासन और सरकार को नेशनल हाईवे किनारे ऐसी जगह जहां पर लैंड स्लाइड होने का खतरा है वहां पर पुलिस को तैनात करना होगा, ताकि वह गिरते पहाड़ों को लेकर आने जाने वाले वाहनों को सूचित कर सके और लोगों की जान बचाई जा सके।

रामपुर-किन्नौर के बीच भूस्खलन के बाद बंद हुआ नेशनल हाईवे-5।
रामपुर-किन्नौर के बीच भूस्खलन के बाद बंद हुआ नेशनल हाईवे-5।
खबरें और भी हैं...