माॅनसून ने पकड़ी रफ्तार:सिरमाैर, मंडी और शिमला में भारी बारिश, आपदा से जुड़े हादसों में छह लोगों की गई जान

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेश में कुछ दिन निष्क्रिय रहने के बाद माॅनसून एक बार फिर एकटिव हाे गया है। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
प्रदेश में कुछ दिन निष्क्रिय रहने के बाद माॅनसून एक बार फिर एकटिव हाे गया है। (फाइल फोटो)

प्रदेश में कुछ दिन निष्क्रिय रहने के बाद माॅनसून एक बार फिर एकटिव हाे गया है। राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्राें में कल रात से रूक रूक कर बारिश का सिलसिला जारी है। सिरमाैर, शिमला और मंडी जिलों में इस दाैरान भारी बारिश रिकार्ड की गई है। राजधानी शिमला में बीती रात से शुरू हुई बारिश का सिलसिला शुक्रवार दिन भर जारी रहा।

बारिश से जुड़ी घटनाओं में राज्य में अलग अलग जगहाें पर छह लोगों की जान गई है। इसमें ऊना जिला में दो और किन्नौर में एक व्यक्ति की सड़क हादसों में मौत हुई। लाहौल-स्पीति में पानी के तेज बहाव में बहने और मंडी में भूस्खलन के कारण एक-एक व्यक्ति मारा गया। हमीरपुर में सर्पदंश से एक व्यक्ति ने दम तोड़ा।

सिरमाैर में सबसे ज्यादा 165 मिमी बारिश दर्ज की गई है। धर्मपुर में 99, सुंदरनगर में 96, पच्छाद में 90, पांवटा साहिब में 81, कंडाघाट में 58, कसाैली में 55, भराड़ी में 47, जोगेंद्रनगर में 43, बिजाई में 37, कुमारसेन में 36, मंडी में 35, रामपुर, सराहन, शिमला, कुफरी और नाहन में 30-30, सोलन में 28, तिंदर में 26, जुब्बड़हट्टी व गग्गल में 25-25, धर्मशाला व गोहर में 24-24, बंजार में 23, रेणुका में 22, डल्हौजी में 21, नारकंडा व कोटखाई में 19-19 मिमी बारिश हुई है। बारिश के कारण प्रदेश में 20 सड़कें बंद रहीं।

अब आगे क्या
माैसम विभाग के निदेशक सुरेंद्र पाल ने बताया कि आगामी 26 अगस्त तक राज्य में मौसम खराब बना रहेगा। इस दाैरान अनेक स्थानों पर बारिश हाेगी। 21 और 22 अगस्त को मैदानी औरमध्यपर्वतीय इलाकों में भारी बारिश हाेने का येलो अलर्ट जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं...