हिमाचल में यूनिफॉर्म सिविल कोड लाएगी भाजपा:चुनावी घोषणा पत्र में 8 लाख रोजगार, महिलाओं को फ्री सिलेंडर का वादा भी किया

शिमला24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने आज हिमाचल विधानसभा चुनाव 2022 के लिए अपना घोषणापत्र जारी किया। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष JP नड्‌डा ने इसे शिमला में लॉन्च किया। वहीं भाजपा ने अपने 73 पेजों संकल्प पत्र में 11 घोषणाओं पर फोकस किया है। प्रदेश की आधी आबादी यानी महिलाओं के लिए अलग से स्त्री शक्ति संकल्प पत्र जारी किया गया है।

वहीं भाजपा के घोषणा पत्र में OPS का कोई जिक्र नहीं है। OPS मुद्दे पर भाजपा का कहना है कि इसको लेकर एक कमेटी का गठन किया गया है और कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर ही सरकार इस पर कोई निर्णय लेगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सौदान सिंह इस दौरान मौजूद रहे।

वहीं भाजपा की घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष डॉक्टर सिकंदर कुमार ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि सभी वर्गों को ध्यान में रखकर यह घोषणा पत्र तैयार किया गया है। यह सिर्फ चुनावी घोषणा पत्र नहीं, बल्कि लोगों की उम्मीदों का संकल्प पत्र है। इस संकल्प पत्र के लिए 25 हजार लोगों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन अपने सुझाव पार्टी को दिए हैं।

पारदर्शिता के लिए समान नागरिक संहिता लागू करेंगे
भाजपा ने घोषणा की है कि हिमाचल प्रदेश में राजस्व में सुधार और निगरानी के लिए मुख्यमंत्री की देखरेख में राजकोषीय उत्तरदायित्व समिति का गठन किया जाएगा। विकासात्मक चुनौतियों को दूर करने के लिए 102 पेशेवरों को मंच प्रदान किया जाएगा। प्रदेश में मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम की शुरुआत होगी, जिसके तहत 50 हजार हर महीने दिया जाएगा।

वादों की प्रगति पर नजर रखने और उन वादों के समय पर कार्यान्वयन के लिए संकल्प पत्र कार्यान्वयन समिति गठित होगी। जनप्रतिनिधियों तक पहुंच में सुधार करने के लिए विधायक हेल्पलाइन शुरू की जाएगा। इसे CM हेल्पलाइन की तरह डिजाइन किया जाएगा। लोकमित्र केंद्रों की सेवा सीमा में सुधार किया जाएगा। शिकायतों के निवारण के लिए प्रमाण पत्रों के आसान वितरण के लिए ई समाधान नामक मोबाइल ऐप लॉन्च करेंगे।

किसान वोटरों के लिए सम्मान निधि योजना
भाजपा ने किसान वोटरों को रिझाने के लिए अपने घोषणा पत्र में मुख्यमंत्री अन्नदाता सम्मान निधि योजना शुरू करने की घोषणा की है। इसके तहत छोटे किसानों को सालाना 3000 रुपए की राशि दी जाएगी। यह PM किसान सम्मान निधि योजना से अलग दी जाएगी। कुल्लू, चंबा, उना, हमीरपुर और बिलासपुर में कीवी, अखरोट, ड्रैगन फ्रूट के लिए 5 प्रोसेसिंग सेंटर खुलेंगे।

बागवानी उत्पादों को ले जाने वाले वाहनों को APMC परमाणु बैरियर पर आबकारी विभाग द्वारा लगाए जाने वाले बैरियर शुल्क में छूट देंगे। कांगड़ा में नई जैविक चाय की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा। किसान उत्पादक संगठन के लिए 25 लाख का अनुदान अनुदान दिया जाएगा। गैर किसान हिमाचली, जो 1972 से पहले हिमाचल में रहते हैं, उनके भूमि खरीद अधिकारों को बहाल किया जाएगा

किसानों की समस्या के समाधान के लिए किसान कल्याण बोर्ड गठित होगा। 10 नई मृदा परीक्षण प्रयोगशालाएं खुलेंगी। किसानों की सुविधा के लिए एक मोबाइल एप्लिकेशन और कॉल सेंटर सेवा लॉन्च की जाएगी। बागवानी बोर्ड की स्थापना होगी, जो कटाई के बाद प्रसंस्करण और दीर्घकालिक भंडारण के लिए कोल्ड चेन इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए उत्पादन कलस्टर विकसित करेगा।

पशुधन बीमा योजना होगी शुरू करेंगे
भाजपा हिमाचल में किसी आपदा या बीमारी के कारण जानवरों की मौत से होने वाली हानि की भरपाई के लिए पशुधन बीमा योजना शुरू होगी। हिमाचल को डेयरी और पोल्ट्री उत्पादन में एक आत्मनिर्भर राज्य बनाया जाएगा। ट्राउट मछली उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए ठंडे नदी क्षेत्र में रोपवे का निर्माण किया जाएगा। भूमिहीन गरीब किसानों को घर बनाने के लिए उपयुक्त स्थान पर जमीन दी जाएगी। अमूल की तर्ज पर सहकारी समितियों के निर्माण को प्रोत्साहित किया जाएगा। कृषि और संबंधित उत्पादों के निर्माण को सुविधाजनक बनाने एक समर्पित कृषि निर्यात प्रकोष्ठ बनेगा।

सरकारी भवनों में सोलर रूफटॉप पैनल लगेंगे
बिजली की खपत को कम करने के लिए सभी सरकारी भवनों में सोलर रूफटॉप पैनल लगाए जाएंगे। कम वोल्टेज की समस्या को दूर करने के लिए नए ट्रांसफार्मर लगाकर प्रत्येक बिजली उपभोक्ता को वोल्टेज की सुविधा दी जाएगी। बिजली के बिल की आसान भुगतान प्रणाली के लिए सिंगल विंडो सिस्टम स्थापित करेंगे। अगले 10 सालों में 10 लाख घरों को रूफटॉप सोलर पैनल से जोडा जाएगा। 2027 तक 3000 मेगावाट बिजली उत्पादन की आवश्यकता को सुनिश्चित किया जाएगा।

20 शहरों में घर पाइप गैस कनेक्शन से जुड़ेंगे
किफायती गैस आपूर्ति देने के लिए प्रदेश के 20 प्रमुख शहरों में घरों में पाइप गैस कनेक्शन की सुविधा दी जाएगी। शहरों में गरीबों को किफायती और गुणवत्ता वाले घर उपलब्ध करवाए जाएंगे। लोगों के घरों की मांग को पूरा करने के लिए शिमला, सोलन, धर्मशाला जैसे बड़े शहरों में सैटेलाइट टाउन विकसित किए जाएंगे। सभी भीड़भाड़ वाले बाजारों में ई-टॉयलेट का निर्माण होगा। शहरी इंफ्रास्ट्रक्चर विकास बोर्ड की स्थापना होगी, जो निकायों को इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए पैसों की सुविधा प्रदान करेगा। राज्य के हर पंचायत को 4G-5G मोबाइल और हाई स्पीड ब्रॉडबैंड सुविधा से जोड़ा जाएगा।

हर जिले में एक सरकारी अस्पताल को सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाएंगे
​​​​​​​स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए हर जिले में एक सरकारी अस्पताल में सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बनाया जाएगा। राज्य के दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले मरीजों को ड्रोन की मदद से दवाइयां पहुंचाई जाएंगी। सभी राज्यों और राष्ट्रीय राजमार्गों पर ट्रॉमा सेंटर खोले जाएंगे। चंबा और लाहौल स्पीति के लिए हेलिकॉप्टर एंबुलेंस सेवा शुरू करेंगे। पूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए एक दुर्घटना बीमा योजना शुरू करेंगे, जिसमें सरकारी बीमा एजेंसी के साथ गठजोड़ किया जाएगा और अधिकतम 5 लाख का लाभ दिया जाएगा। सरकारी नौकरी में भूतपूर्व सैनिकों के लिए आरक्षित सभी सीटों में से 70% सीटें नॉन लैप्सेबल होंगी।

हिमाचल आने वाले पर्यटकों के लिए घोषणाएं
​​​​​​​पर्यटन को प्रमोट करने के लिए भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में 'देखो हमारा हिमाचल' योजना शुरू करने की घोषणा की। इस योजना में जो पर्यटक 10 दिन से ज्यादा समय तक यहां ठहरेगा, उस पर्यटक के स्वागत में हिमाचल पोर्टल के माध्यम से होटल की बुकिंग करने पर 20 से 50% तक की छूट मिलेगी। पर्यटकों की संख्या को बढ़ाने के लिए 500 करोड़ रुपए आवंटित किए जाएंगे।

इको टूरिज्म प्रमोशन बोर्ड के माध्यम से हिमाचल के 11 दर्शनीय स्थलों को पर्यावरण केंद्रित पर्यटन के रूप में विकसित किया जाएगा। निजी निवेशकों की सहायता से प्रदेश के 17 चयनित स्थानों को साहसिक पर्यटन के लिए हॉट स्पॉट बनाया जाएगा। तीर्थ स्थानों पर पहुंचने और होटल स्थापित करने के इच्छुक हिमाचलियों को 5 करोड़ में वित्तीय सहायता के लिए क्रेडिट गारंटी ट्रस्ट का गठन किया जाएगा।

हर जिले में टू और थ्री स्टार होटल खुलेंगे, जो अटल पर्यटन और यात्रा प्रबंधन केंद्र के तहत पर्यटन उद्योग के लिए सुविधाओं से लैस होंगे। प्रदेश में 20 नए वेलनेस और योगा केंद्र खोले जाएंगे। मणिमहेश की तर्ज पर किन्नौर, लाहौल और काजा को जोड़ने वाली हेली टैक्सी सेवा शुरू करने के लिए प्राइवेट कंपनी को आमंत्रित करेंगे। नारी शक्ति कैंटीन स्थापित करेंगे, जो महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा चलाई जाएगी।