तीसरी लहर को लेकर हिमाचल सरकार अलर्ट:अगली कैबिनेट की बैठक में बढ़ाई जा सकती हैं पाबंदियां, बिना ई-पास के एंट्री पर लगी बैन, रोज सामने आ रहे हैं 200 से ज्यादा केस

शिमला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑक्सीजन सिलेंडरों की जांच करते कंपनी के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
ऑक्सीजन सिलेंडरों की जांच करते कंपनी के अधिकारी।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए हिमाचल प्रदेश सरकार अलर्ट हो गई है। स्वास्थ्य विभाग पहले से इसकी तैयारियों में जुट गया है। शादी के साथ बाकी कार्यक्रमों में उमड़ रही भीड़ को रोकने के लिए खाका तैयार कर लिया गया है। अगली कैबिनेट की बैठक में स्वास्थ्य विभाग अपना प्रेजेंटेशन देगा, जिसमें सरकार से कुछ और पाबंदियां लगाने की गुजारिश की जाएगी।

छात्रों के बड़ी संख्या में संक्रमित होने के बाद स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया है। अब तक हिमाचल में 433 ऐसे एक्टिव मरीज हैं, जिनकी उम्र 18 साल से कम है। हिमाचल में रोजाना 200 से ज्यादा पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। पड़ोसी राज्यों से आने वाले लोगों के चलते हिमाचल में केस बढ़ रहे हैं इसलिए सरकार ने अब बिना ई-पास के हिमाचल में एंट्री बैन कर दी है।

5 जिलों में 15 लोग गंभीर

हिमाचल के 5 जिलों के लोगों का अस्पताल में इलाज जारी है। जिनकी हालत गंभीर बनी है जो वेंटिलेटर पर सांस ले रहे हैं। शिमला जिले में सबसे ज्यादा 6, मंडी में 3, हमीरपुर में 3, चंबा में 2 और कांगड़ा में भी एक मरीज अस्पताल में भर्ती है।

पाबंदियों के बाद भी बढ़ रहे केस

स्वास्थ्य विभाग के सचिव अमिताभ अवस्थी का कहना है कि कुछ पाबंदियां लगाने के बाद भी प्रदेश में संक्रमण के मामलों में कमी नहीं आई है। ऐसे में आने वाले दिनों में और बंदिशें लगाई जा सकती हैं, ताकि भीड़ को नियंत्रित किया जा सके। चिंता की बात ये है कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए अभी वैक्सीन नहीं है। बच्चों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में संक्रमण को रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

केंद्र से मिले ऑक्सीजन सिलेंडर

हिमाचल प्रदेश को पीएम केयर्स फंड से ए टाइप के 219 ऑक्सीजन सिलेंडर मिले हैं। जिसे अलग-अलग जिलों में भेजा जा रहा है। सिलेंडर 20 लीटर ऑक्सीजन से भरे हैं और रेगुलेटर हो या ऑक्सीजन मास्क किसी के भी साथ फिट हो जाते हैं। स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ रमेश चंद ने बताया कि लगातार केंद्र सरकार से कोविड से बचाव के लिए सामान भेजा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...