हिमाचल प्रदेश के 18 शिक्षक पीटरहॉफ में सम्मानित:सभी को मिला 1 साल का सेवा विस्तार, राज्यपाल बोले- नई शिक्षा नीति में होंगे कई बदलाव; अपनी भूमिका को लेकर तैयार रहें टीचर्स

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हिमाचल प्रदेश के 18 शिक्षकों को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। - Dainik Bhaskar
हिमाचल प्रदेश के 18 शिक्षकों को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

हिमाचल प्रदेश के 18 शिक्षकों को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने वाले इन सभी 18 शिक्षकों को राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने सम्मानित किया। राज्य अतिथि गृह पीटरहॉफ में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, शिक्षा मंत्री गोबिंद सिंह ठाकुर भी मौजूद रहे। चयनित सभी शिक्षकों को 1 वर्ष का सेवा विस्तार और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। गौरतलब है कि 14 शिक्षकों का चयन प्रदेशभर से प्राप्त 51 आवेदनों के आधार पर हुआ है। 3 शिक्षकों का चयन राज्य स्तर कमेटी ने किया है, जबकि सोलन के शिक्षक को बीते वर्ष राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। व्यवस्था के अनुसार उन्हें इस वर्ष राज्य स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस दौरान राज्यपाल ने कहा कि नई शिक्षा नीति अपने साथ कई अहम बदलान लेकर आएगी, जिसे लागू करने में हर शिक्षक की भूमिका रहेगी और इसके लिए हमें तैयार रहना है।

राष्ट्रीय पुरस्कार पाने वाले कमल किशोर भी पीटरहॉफ में हुए सम्मानित

राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार पाने वाले कमल किशोर को भी पीटरहॉफ में सम्मानित किया गया। सचिवालय में रविवार सुबह औपचारिक रूप से उनका स्वागत किया गया। उन्होंने केंद्र द्वारा आयोजित राष्ट्रीय कार्यक्रम में वर्चुअल भाग लिया। इसके बाद वह पीटरहॉफ पहुंचे। जहां उन्हे सम्मानित किया गया। उन्होंने कहा कि गुरु ही एक ऐसा रास्ता है जहां से होकर शिष्य अपने गोल तक पहुंचता है। ऐसे में गुरुओं का राष्ट्र निर्माण में अहम योगदान होता है। अगर गुरु अपने विद्यार्थियों को सही रहा और सही लाइन पर मार्गदर्शन करें तो समाज की नींव बेहतर होगी और आने वाला समय भी अच्छा होगा। यह सम्मान पाकर वह काफी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

राष्ट्रीय स्तर से सम्मानित होने वाले शिक्षक कमल किशोर को सम्मानित करते राज्यपाल
राष्ट्रीय स्तर से सम्मानित होने वाले शिक्षक कमल किशोर को सम्मानित करते राज्यपाल

प्रदेश में ऐसे शिक्षक, जिनकी वजह से हो रहा शिक्षा का विकासः राज्यपाल

हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने कहा कि हमारे प्रदेश में ऐसे शिक्षक हैं जिनकी वजह से शिक्षा का विकास हो रहा है। हमारी संस्कृति में गुरुओं को भगवान से ऊपर का स्थान दिया गया है। समाज को दिशा देने में शिक्षकों का अहम योगदान होता है। जब किसी को सम्मानित किया जाता है तो उसके बारे में अच्छा कहा जाता है। उन्हें सम्मानित होने के दौरान कही बातों पर खरा उतरना है। नई शिक्षा नीति में कई अहम बदलाव होंगे। हर शिक्षक विचार करें और संकल्प ले की नई शिक्षा नीति को लागू करने में मेरी क्या भूमिका रहेगी।

इन अध्यापकों को मिला सम्मान

प्रिंसिपल जिया लाल नेगी रिकांगपिओ, रामपुर स्कूल के प्रवक्ता प्रेम लाल दुल्टा, संजौली स्कूल के प्रवक्ता अजय कुमार वशिष्ठ, रोहड़ू के अढ़ाल स्कूल के टीजीटी पंकज शर्मा, सोलन के बघेरी स्कूल के डीपीई सुमित सिंह, सोलन के चमत भरेच स्कूल के शास्त्री हरदेव, बरोटीवाला स्कूल के पीईटी सुरेंद्र पाल मेहता, मंडी के खडूना स्कूल से जेबीटी इंद्रेश कुमार, सिरमौर के गलांघाट स्कूल के टीजीटी विवेक कुमार कौशिक, ऊना के बसाल स्कूल के डीएम सुभाष चंद को सम्मानित किया गया। साथ ही बिलासपुर के बलग का घाट स्कूल के एचटी संजीव कुमार, हमीरपुर के बीर बघेरा स्कूल के सीएचटी सुरेश कुमार, लाहौल-स्पीति के केलांग स्कूल के सीएचटी छिम्मे आंगमो और कांगड़ा के टिहरी स्कूल के जेबीटी राजेंद्र कुमार को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वहीं, कुल्लू जिले के नग्गर स्कूल के प्रवक्ता धर्म चंद, मंडी जिले के डडोह स्कूल के टीजीटी कुंजुन वर्मा और थुनाग स्कूल के सीएचटी इंद्र सिंह ठाकुर को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 2020 में हमीरपुर के प्रवक्ता नरदेव सिंह को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार मिला था। रविवार को प्रदेश सरकार ने इन्हें राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार दिया।

खबरें और भी हैं...