• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Himachal Included In The Top Five State Of The Country, There Was A Jump Of One Point In The Rank, In The Year 2020 Was The Sixth Rank

स्वच्छता सर्वेक्षण:हिमाचल देश के टाॅप फाइव स्टेट में शामिल, रैंक में एक अंक का आया उछाल, साल 2020 में था छठा रैंक

शिमला2 महीने पहलेलेखक: पूनम भारद्वाज
  • कॉपी लिंक
शिमला शहर की गिरी रैंकिंग। - Dainik Bhaskar
शिमला शहर की गिरी रैंकिंग।

स्वच्छता के क्षेत्र में हिमाचल की स्थिति देश के अन्य राज्याें के मुकाबलें कही बेहतर है। स्वच्छता सर्वेक्षण में हिमाचल देश में टाॅप फाइव की सूची में शूमार हाे गया है। स्वच्छता सर्वेक्षण में हिमाचल ने दाे साल के अंदर 15 अंकाें की छलांग लगाई है जबकि पिछले साल के मुकाबले एक अंक की बढ़त हासिल की है। 2019 में हिमाचल इस स्वच्छता सर्वेक्षण में 20वें पायदान पर था। 2020 में यह बढ़ कर छठे रैंक पर आया था। इस साल प्रदेश काे स्वच्छता सर्वेक्षण में पांचवां रैंक हासिल हुआ है।

प्रदेश से पहले झारखंड पहले स्थान पर है, हरियाणा दूसरे, गाेवा तीसरे और उत्तराखंड राज्य चाैथे स्थान पर आया है। केंद्र सरकार ने शुक्रवार काे देश की स्वच्छता सर्वेक्षण की रिपाेर्ट जारी कर दी है। केंद्र सरकार ने जनवरी 2021 में देश के सभी शहराें में स्वच्छता का पता लगाने के लिए स्वच्छता सर्वेक्षण करवाया था। इसमें राजधानी शिमला सहित प्रदेश के भी सभी 54 शहरी निकाय शामिल थे। हालांकि इस रिपाेर्ट में राजधानी शिमला की रैंकिंग में भारी गिरावट आई है। यह 65 वे नंबर से गिर कर 102वें रैंक पर पहुंची है।

25 हजार की आबादी वाले शहराें में धर्मशाला काे मिला 134 वां रैंक
केंद्र सरकार ने उत्तर भारत में 25 हजार तक की आबादी वाले शहराें की भी रैकिंग जारी की है जिसमें धर्मशाला शहर काे 134 वां रैंक मिला है। नए बने पालमपुर नगर निगम काे 214, कांगड़ा 266, नारकंडा 276, बैजनाथ 318, रिवालसर 334, परवाणु 366, सरकाघाट 344, परवाणु 366, मनाली 410, अर्की 411, डलहाैजी 417, राजगढ़ 432, नुरपूर 456, ज्वालामुखी 464, नादाैर 467, काेटखाई 468, ऊना 482, सुजानपुर 485, नगराैटा बगवां 494, चंबा 496, सुंदरनगर 516, भुंतर 519, जाेगिंगद्रनगर 520, कुल्लू 526, करसाेग 559, भाेटा 567, हमीरपुर 588, बिलासपुर 593, गगरेट 598, राेहडू 603, नेरचाैक 605, देहरा गोपीपुर 617, रामपुर 619, घुमारवीं 621, ज्वाली 651, जुब्बल 656, नैना देवी 661, नालागढ़ 665, टाहलीवाल 666, चाैपाल 667, ठियाेग 685, संताेखगढ 688, बंजार 698 रैंक हासिल किया है।

25 से 50 हजार की आबादी वाले शहराें की रैंकिंग: प्रदेश के अन्य शहरों मंडी 155, साेलन 160, नाहन 167, बद्दी 182, पाॅवटा साहिब 188 रैंक हासिल किया है। इन शहराें में स्वच्छता सर्वेक्षण अन्य निकायाें के मुकाबले बेहतर हैं।

स्वच्छता सर्वेक्षण के यह थे पैरामीटर
साेलेड वेस्ट मैनेजमेंट डाेर टू डाेर गार्बेज कलेक्शन, ट्रांसपोर्टेशन और वैज्ञानिक तरीके से कूड़े का निष्पादन
शहराें में शाैचालयाें की व्यवस्था और उनकी साफ सफाई की स्थिति
ओडीएफ बाह्य शाैच मुक्त, ओडीएफ प्लस, प्लस का प्रमाणपत्र लेने वाली सिटी
गलियाें की साफ साफाई, वहां पर हर दिन लगने वाला झाडू और शहर की सफाई व्यवस्था
सफाई कर्मचारियाें की कल्याण के लिए उठाए जाने वाले कदम आदि 100 बिंदुओं पर यह सर्वेक्षण किया गया था।

भविष्य में इनाेवेशन किए जाएंगे
शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में अच्छे प्रदर्शन को लेकर राज्य के लोगों को बधाई दी है। मंत्री ने कहा कि पिछले साल की तुलना में कई शहरों ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। जिन शहरों के प्रदर्शन में कुछ कमी दिखी है उसे दूर करने के लिए आधुनिक तकनीक और इनोवेशन किए जाएंगे ताकि अगले वर्ष उनका प्रदर्शन और अच्छा हो।

खबरें और भी हैं...