7 चोटियां फतह कर चुकी लड़की 'लाचार':हिमाचल की सुक्खू सरकार से मांगी मदद, बोली- माउंट एवरेस्ट पर फहराना चाहती हूं तिरंगा

शिमला11 दिन पहले

हिमाचल के सोलन जिला में रहने वाली पर्वतरोही बलजीत कौर ने खेल मंत्री विक्रमादित्य सिंह से मदद की गुहार लगाई है। 2016 से कई चोटियों को फतेह कर चुकी बलजीत कौर ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि उन्हें उनके खेल में आगे बढ़ने के लिए बजट दिया जाए। पैसों की तंगी के कारण खिलाड़ी सही से अपना प्रदर्शन नहीं कर पाता है।

इन चोटियों पर फतह पा चुकी बलजीत
2021 में माउंट पामोरी पर चढ़ने वाली पहली महिला पर्वतारोही बनी, जो नेपाल में 7161 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। नेपाल की 8 हजार मीटर धौलागिरी चोटी फतेह की। उस पर भी बतौर पहली भारतीय महिला बलजीत कौर पहुंची। 2022 में 5 चोटियों माउंट अन्नापूर्णा, माउंट कंचनजंगा, माउंट एवरेस्ट, माउंट ल्होतसे और माउंट मकालू पर तिरंगा फहराया।

मंत्री विक्रमादित्य सिंह के सामने अपनी बात रखती बलजीत कौर।
मंत्री विक्रमादित्य सिंह के सामने अपनी बात रखती बलजीत कौर।

खिलाड़ियों को मिले बजट
बलजीत कौर का कहना है कि अपनी फील्ड में आगे बढ़ने के लिए खिलाड़ी पर किसी तरह का आर्थिक बोझ नहीं होना चाहिए। इसके लिए सरकार को पॉलिसी बनाने की जरूरत है। वह पूर्व सरकार से भी मदद मांगने आई थी, जिसमें विक्रमादित्य ने सत्ता में न होने के बावजूद भाजपा सरकार के कानों तक आवाज पहुंचाई थी और 3 लाख की राशि भी मिली थी। अब विक्रमादित्य के खेल मंत्री बनने पर उम्मीद की किरण जागी है। इसी वजह से सचिवालय आई हूं।

सुविधा न मिलने से खिलाड़ी छोड़ रहे खेलना
विदआउट ऑक्सीजन स्पोर्ट सिस्टम के माउंट एवरेस्ट को बलजीत कौर फतह करना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि जब वह मिशन पर जाती है तो उन्हें यह तक मालूम नहीं होता कि वापसी होगी भी या नहीं। अगर सरकार खिलाड़ियों के लिए फंड की उचित व्यवस्था करे तो प्रदेश के खिलाड़ी भी नए रिकॉर्ड बनाने पर ज्यादा फोकस करेंगे। सुविधा की कमी की वजह से बहुत से खिलाड़ी अपना स्पोर्ट्स करियर छोड़ रहे हैं, जो सिस्टम की बहुत बड़ी नाकामी है।