• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Himachal Pradesh Assembly Election 2022 | Pratibha Singh | Sukhvinder Singh Sukhu | Mallikarjun Kharge | Kaul Singh Thakur | CM Face Of Himachal | Chief Minister

हिमाचल कांग्रेस नेताओं को झटका:प्रियंका ने नहीं दिया किसी को मिलने का समय, CM कुर्सी के लिए मची होड़ से हाईकमान नाखुश

शिमला2 महीने पहले

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले ही कांग्रेस के अंदर CM चेहरे को लेकर जिस तरह मारामारी दिख रही है, उससे पार्टी हाईकमान खुश नहीं है। CM बनने के इच्छुक प्रदेश कांग्रेस के तमाम दिग्गज जिस तरह दिल्ली दरबार में हाजिरी लगाने पहुंच रहे हैं, उससे जनता में गलत मैसेज जा रहा है। यही वजह है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने दिल्ली पहुंचे हिमाचल के किसी भी नेता को मिलने का समय तक नहीं दिया। नतीजा- कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मिलने के बाद ये नेता अब वापस लौटने लगे हैं।

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की ओर से चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू के अलावा मुकेश अग्निहोत्री, ठाकुर कौल सिंह, आशा कुमारी, रामलाल ठाकुर और कर्नल धनीराम शांडिल खुद को CM पद की रेस में बताने का कोई मौका चूक नहीं रहे। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रतिभा सिंह के अलावा यह तमाम नेता पिछले तीन-चार दिन से दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रामलाल ठाकुर भी दिल्ली पहुंच गए।

दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकाजुर्न खड़गे से मिलते सुखविंद्र सिंह सुक्खू व अन्य।
दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकाजुर्न खड़गे से मिलते सुखविंद्र सिंह सुक्खू व अन्य।

सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने सोमवार रात ही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात की। सूत्रों की मानें तो मुकेश अग्निहोत्री भी खड़गे से मिले। कौल सिंह ठाकुर और धनीराम शांडिल भी एक कार्यक्रम के दौरान खड़गे से मिले। मंगलवार को दिल्ली पहुंचे रामलाल ठाकुर ने पूर्व रेलमंत्री पवन कुमार बंसल और प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला से मुलाकात की।

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे 8 दिसंबर को आएंगे मगर कांग्रेस नेताओं में एक पखवाड़ा पहले ही होड़ सी दिख रही है। हर कोई राष्ट्रीय नेताओं के यहां हाजिरी भरने और अपनी लॉबिंग में लगा है। सूत्रों का कहना है कि नेताओं के इसी रवैये से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी नाखुश है।

हिमाचल चुनाव में पार्टी के प्रचार की कमान प्रियंका ने ही संभाली थी और अगर विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद पार्टी को पूर्ण बहुमत मिलता है तो प्रदेश में CM चेहरा कौन होगा? इसे तय करने में उनकी भूमिका खासी अहम रहने वाली है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात करते हुए कौल सिंह ठाकुर।
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात करते हुए कौल सिंह ठाकुर।

ये नेता दिल्ली दरबार में लगा चुके हाजिरी

सबसे पहले कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष प्रतिभा सिंह दिल्ली गए। इनके बाद कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ नेता कर्नल धनीराम शांडिल, फिर चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू, कौल सिंह ठाकुर, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री और राम लाल ठाकुर भी दिल्ली पहुंचे।

मुकेश अग्निहोत्री और सुखविंदर सुक्खू के दिल्ली जाने से राजनीति खूब गरमाई हुई है,क्योंकि कांग्रेस में इन दोनों को CM का सशक्त दावेदार माना जा रहा है।

हाईकमान तय करेगा मुख्यमंत्री चेहरा

हिमाचल में यदि कांग्रेस को बहुमत मिलता है तो राज्य का मुख्यमंत्री कौन होगा, यह निर्णय पार्टी हाईकमान ही करेगा। यही वजह है कि CM बनने के इच्छुक नेता राष्ट्रीय नेतृत्व से मिलकर अपना-अपना पक्ष रख रहे हैं।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला से दिल्ली में मिलते हुए रामलाल ठाकुर
कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला से दिल्ली में मिलते हुए रामलाल ठाकुर

शिमला से दिल्ली तक गरमाई सियासत

दिल्ली में जिस तरह से मुख्यमंत्री चेहरे को लेकर मंथन चल रहा है, उससे शिमला से लेकर देश की राजधानी तक राजनीति गर्मा गई है। सूत्रों की मानें तो प्रतिभा सिंह, सुखविंद्र सिंह सुक्खू और कौल सिंह ठाकुर ने मल्लिकार्जन खड़गे, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी से मिलने का वक्त मांग रखा है। प्रतिभा सिंह और सुक्खू मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात कर चुके हैं। दूसरे नेता भी शीर्ष नेतृत्व से मिलकर अपनी दावेदारी को मजबूत ढंग से रख रहे हैं।

कर्नल धनीराम शांडिल
कर्नल धनीराम शांडिल

हॉली-लॉज में प्रतिभा से मुलाकात कर चुके

दिल्ली जाने से पहले प्रदेश कांग्रेस के बड़े दिग्गज हॉली लॉज में हाजिरी लगा चुके हैं, क्योंकि हॉली-लॉज के आशीर्वाद के बगैर किसी का CM बनना आसान नहीं होगा। पार्टी ने लगभग 45 टिकट हॉली-लॉज समर्थकों को दिए हैं, जबकि करीब 18 टिकट सुक्खू समर्थकों को मिले हैं।