बिजली आपूर्ति सुधारने कवायद:फीडर, ट्रांसफार्मर और मीटर बदलेगा एचपीएसईबी, प्रदेश सरकार ने एक्शन प्लान और डीपीआर बनाने काे दी मंजूरी

शिमला16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में बाधारहित बिजली की आपूर्ति के लिए हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रीसिटी बोर्ड (एचपीएसईबी) 2224 कराेड़ रुपए की लागत से माैजूदा फीडर, ट्रांसफार्मर और मीटराें काे बदलेगा। राज्य सरकार ने बिजली बाेर्ड काे केंद्र सरकार द्वारा 2021 में मंजूर की गई आरडीएसएस रीवेंपड डिस्ट्रीब्यूशन सेक्टर स्कीम का एक्शन प्लान और डीपीआर तैयार करने की मंजूरी दे दी है।

इस योजना के तहत बिजली वितरण के बुनियादी ढांचे की मजबूती, नवीनीकरण और वृद्धि के लिए 3,559 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इसके तहत केंद्र सरकार से हिमाचल प्रदेश राज्य बिजली बाेर्ड काे 3600 कराेड़ रुपए की सब्सिडी का लाभ मिलेगा। यह योजना वित्त वर्ष 2025-26 तक अमल में लाई जाएगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव पावर आरडी धीमान ने कहा कि राज्य सरकार ने एक्शन प्लान और डीपीआर तैयार करने की मंजूरी दे दी है।

28 लाख मीटराें काे स्मार्ट मीटराें में बदलेंगे
योजना का मुख्य लक्ष्य बिजली वितरण क्षेत्र में वित्तीय स्थिरता, परिचालन दक्षता, वितरण बुनियादी ढांचे, नीति और संरचना में सुधार लाना है। लगभग 28 लाख मीटरों को स्मार्ट मीटरों में बदला जाएगा। बिजली वितरण के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए 5653 किमी एचटी लाइन, 4483 किमी एलटी लाइन, 6369 वितरण ट्रांसफार्मर, 6905 किमी एलटी लाइनों का पुनरावर्तन और संवर्धन किया जाएगा।
​​इसके अलावा 704 किमी कंडक्टर लाइन को केबल लाइन में बदलना, 5373 वितरण ट्रांसफार्मर का संवर्धन, 55 नए 33/22/11 केवी उप स्टेशनों, 598 किमी नई 66 / 33 केवी एचटी लाइन, 5896 किमी 66/33 केवी और निचली वोल्टेज की लाइनों का नवीनीकरण, 93 33/11 केवी पावर उप स्टेशनों का संवर्धन और प्रदेश के 54 कस्बों में स्काडा से संबंधित गतिविधियों काे शुरू किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...