पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अवैध खनन:गवालड़ खड्ड में हो रहा अवैध खनन, विभाग रोकने में नाकाम, पेयजल स्कीमों को खतरा

महारल9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अवैध खनन कर खड्‌ड से उठाकर झाड़ियों में छिपा कर रखी रेत।

ढटवाल क्षेत्र में अवैध खनन का धंधा रूकने का नाम नहीं ले रहा है। मुख्य खड्डों के बाद शुक्कर, सीर, सरियली खड्डों के अलावा अवैध खननकारियों ने समैला, महारल, जमली आदि ग्राम पंचायतों की सीमाओं के साथ लगती गवालड़ खड्ड पर अपना डेरा जमाना शुरू कर दिया है। इस खड्ड को अब अवैध खनन करने वालों ने चार-पांच फीट तक खड्ड की गहराई करके सामग्री निकाल ली है। इसी खड्ड में आईपीएच विभाग की महारल-दख्योड़ा योजना स्थापित है। जिससे समैला, महारल, त्जयार, बाड़ा, खलावत, सठवी, टीहरी, टंग, बग्गी, दख्योड़ा, टिक्कर, होलत, जमली, लफराण व घरयाणी आदि इलाके के दर्जनों गांवों को पानी मुहैया करवाया जाता है।

यदि प्रशासन समय रहते इस अवैध खनन के धंधे को रोकने में नाकाम साबित होता है, तो इस पेयजल योजना के आस्तित्व पर खतरे के बादल मंडराने का पूरा अंदेशा बना हुआ है। इस इलाके में इस धंधे से स्थानीय लोग ही जुड़े हुए बताए जा रहे हैं। जब कहीं सामग्री की किल्लत हो जाती है तो डिमांड पर दो गुना रेट पर इसे बेच देते है।

इस धंधे से जुड़े लोगों के बारे में बताया जा रहा है उनकी सियासी अच्छी पकड़ के चलते आसपास की पंचायतों के कार्यों के लिए सामग्री भी सप्लाई होती है। इस खड्ड पर ही आधी दर्जन के करीब प्राचीन सांस्कृतिक पानी से चलने वाले घराट विराजमान थे। दियोटसिद्ध के चौकी प्रभारी बोध राज ने बताया कि खड्डों को तो हम रूटीन में चेक कर रहे हैं। मौके पर जो पकड़ा जाता है, उनके चालान किए जा रहे हैं, लेकिन इन छोटी-मोटी खड्डों बारे उनको कोई जानकारी नहीं है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें