• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • In Arki Of Solan District, The Scooty Parked In The House Has Been Deducted For 2 Thousand Rupees, Triple Riding And Driving Without A Helmet, Solan Police Has Challaned

हिमाचल पुलिस की कारगुजारी, घर खड़ी स्कूटी का काटा चालान:सोलन के अर्की में 2 हजार के चालान का मैसेज आने से वाहन मालिक के उड़े होश, पुलिसकर्मी बोले- शायद एक नंबर के 2 वाहन चल रहे होंगे

शिमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
घर में खड़ी स्कूटी, जिसका कट गया चालान - Dainik Bhaskar
घर में खड़ी स्कूटी, जिसका कट गया चालान

हिमाचल में पुलिस की कार्यप्रणाली पर एक बार फिर से सवालों के घेरे में आ गई है। सोलन ट्रैफिक पुलिस चालान काटने में इतनी व्यस्त हो गई कि उन्हें यही पता नहीं चला कि वह घर में खड़ी स्कूटी का ही चालान काट रही हैं। स्कूटी मालिक को 2000 रुपए का चालान मैसेज पर आया, तो वह हैरान रह गया। फिलहाल स्कूटी मालिक ने इस संबंध में पुलिस के पास शिकायत दी है। पुलिस भी अपने बचाव में कह रही है कि मामले की जांच की जाएगी। शायद एक ही नंबर के 2 वाहन चल रहे होंगे।

जानकारी के अनुसार सोलन जिला के कसौली थाना के कुठाड़ चौकी की पुलिस ने शनिवार सुबह 9:30 बजे एक ऐसी स्कूटी का चालान कर दिया, जो कि अर्की उपमंडल के डुमैहर पंचायत के कोट गांव के मकान के आंगन में खड़ी हुई थी। स्कूटी मालिक सुरेश पाल ने बताया कि जैसे ही उन्हें मोबाइल पर मैसेज आया कि उनकी स्कूटी का चालान कट गया है तो वह परेशान हो गए। उन्होंने देखा कि उनकी स्कूटी का ट्रिपल राइडिंग का चालान काटा गया है। जिसका 2000 रुपए उन्हें देना होगा।

मालिक बोला- स्कूटी लेकर कुनिहार से आगे भी नहीं गए
वही जब मालिक ने पुलिस अधिकारियों से इस संबंध में बात की तो उन्होंने कहा कि वह जरूर स्कूटी को कहीं लेकर गए होंगे। इस पर स्कूटी मालिक ने कहा कि वह कसौली तो दूर कुनिहार से आगे भी स्कूटी लेकर नहीं गए। ऐसे में कैसे अर्की में उनके घर में खड़ी स्कूटी का चालान हो गया। फिलहाल पुलिस अधिकारी भी इस तरह के वाक्य को सुनकर हैरान हो गए हैं। जब इस बारे में जांच की गई तो चला कि पुलिस ने मोटरसाइकिल का चालान किया। जिसमें तीन लोग बैठे हुए थे और बिना हेलमेट के थे। ऐसे में पुलिस ने नंबरी चालान किया। जिसका मैसेज सीधा उनके रजिस्टर नंबर पर आ गया।

पुलिस को शक- कहीं फर्जी नंबर से तो नहीं चल रहा था वाहन
वहीं पुलिस अब यह भी कयास लगा रही है कि कहीं जिस बाइक का चालान पुलिस ने मौके पर किया होगा उसमें फर्जी नंबर तो नहीं डला। अगर स्कूटी घर पर खड़ी है, तो कैसे घर में खड़ी स्कूटी का चालान हो गया। फिलहाल पुलिस इसी को लेकर जांच कर रही है। पूरे मामले ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान भी खड़े हो गए हैं।

ऐसे तो पुलिस बिना वजह काटेगी हर किसी का चालान
वहीं सुरेश पाल का कहना है कि अगर पुलिस इस लापरवाही से काम करती है तो वह किसी का भी चालान काट सकती है। जिससे लोगों को परेशानी होगी। उनका कहना है कि अगर उन्होंने इस संबंध में पुलिस अधिकारियों के पास सूचना देने में देरी की होती तो कुछ दिन बाद उन्हें समन आना भी शुरू हो जाने थे। जिससे आम आदमी परेशान और आहत होता है।

खबरें और भी हैं...